पीलीबंगा की बेटी सलोनी बिजनिस के माध्यम से करती है जरूरतमंदों की सहायता

अपने पैरों पर खड़ी होकर बन सकती है आत्मनिर्भर

By: सोनाक्षी जैन

Published: 25 Apr 2018, 05:00 PM IST

पीलीबंगा. बचपन से ही कुछ सकारात्मक कर गुजरने की तमन्ना ने शहर की बेटी सलोनी मित्तल को अंदर से इतना मजबूत किया कि उसने फाईन आर्ट के छोटे से कारोबार से आज दिल्ली में अपना बड़ा कारोबार कर लिया। यही नहीं सलोनी अपने इस कारोबार से समय समय पर जरूरतमंदों की सहायता भी करती है तथा जन्मदिन गरीब बच्चों के साथ मनाकर उन्हें खुशियां बांटती है।

 

सलोनी ने बताया कि दिल्ली के मालवीय नगर की एक दिव्यांग महिला को वह आर्थिक सहयोग तथा राशन आदि देती है तथा उसे अंग्रेजी सीखने का प्रशिक्षण देती है। सलोनी के फाईन आर्ट की पेंटिंग हिन्दी सीरीयलों में काम करने वाले कलाकारों के चहेतों को इतनी अधिक अच्छी लग रही है कि वे सलोनी से बड़ी कीमत पर फाईन आर्ट के तहत हस्तनिर्मित कार्ड व कलाकृतियों को खरीद रहे हैं व इन कार्डस व कलाकृतियों को ये है मोहब्ब्तें, इश्कबाज आदि सीरीयल के कलाकारों को भेंट कर कर रहे हैंं।

 

सलोनी ने बताया कि वह फाईन आर्ट के तहत 50 से अधिक सुंदर कार्ड व कलाकृतियां बना लेती है तथा यही कार्ड व कलाकृति प्रति तीन से चार हजार रूपये में बिकती है। उसने बताया कि वह गत दो वर्षो से दिल्ली में फाईन आर्ट का अपना स्वयं का अकेले ही कारोबार कर रही है। सलोनी का कहना है कि उसकी 100 से अधिक कलाकृतियां कनाडा, रूस व यूएसए व ग्रेट ब्रिटेन में बिक चुकी है तथा भारत के बड़े शहरों में कोरियर के माध्यम से इनकी सप्लाई होती है।

 

सलोनी फाईन आर्ट में उत्कृष्ट कार्य पर दिल्ली की एक बड़ी संस्था से सम्मानित हो चुकी। सीनीयर सेकण्डरी तक शिक्षा ग्रहण कर चुकी 20 वर्षीय सलोनी ने बताया कि सीनीयर सेकण्डरी करने के बाद वह जयपुर में सीए का कोर्स करने के लिए गई लेकिन उसका मन फाइन आर्ट में लगा रहता था बस फाईन आर्ट का प्रशिक्षण लेने की चाहत ने ही वह जयपुर से दिल्ली पहुंच गई। उसने दिल्ली में तीन अलग अलग निजी महाविद्यालयों में फाईन आर्ट का प्रशिक्षण लिया।

 

आज वह अपने पैरों पर खड़ी है तथा आर्थिक रूप से मजबूत है । सलोनी ने बताया कि उसके पिता पवन मित्तल व मम्मी मधु मित्तल ने उसे प्रेरित कर बाहर भेजा तथा कामयाब होने का आर्शीवाद दिया आज उनके आर्शीवाद से उसने दिल्ली में फाईन आर्ट के क्षेत्र में एक अलग मुकाम हासिल किया। उसने बताया कि चार्ट पेपर, कटिंग मशीन व अच्छी क्वालिटी के रंगों से फाईन आर्ट के तहत विभिन्न कलाकृतियां बनती है इसके लिए आवश्यकता है कलाकृति बनाने में कटिंग व रंग भरने की महारत हासिल होना।

 

सलोनी ने बताया कि उसका फाईन आर्ट के माध्यम से कलाकृतियों व कार्डस की सप्लाई से करीब 70 हजार रूपये प्रतिमाह का बिजनिस है। सलोनी उक्त आर्ट के अलावा खेल के क्षेत्र में स्केटिंग में जिलास्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त कर चुकी। सलोनी बताती है कि उनके रॉल मॉडल फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार है। सलोनी ने संदेश दिया कि अन्य बेटियां भी लगन व मेहनत के बल पर किसी भी क्षेत्र में आगे बढ सकती है बशर्ते इसके लिए उनकी सोच सकारात्मक हो।

Show More
सोनाक्षी जैन
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned