प्रदेश के 3 लाख किसानों तक पहुंची सरकार की सौगात, चना एवं सरसों के लिए किया करोड़ों रुपयों का भुगतान

www.patrika.com/rajasthan-news/

By: rohit sharma

Updated: 24 Jul 2018, 09:32 PM IST

जयपुर।

प्रदेश में किसानों के लिए सरकार की तरफ से चल रहे फसली भुगतान योजना के तहत अब तक 3 लाख 88 हजार किसानों को फायदा हो चुका है। सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने मंगलवार को बताया कि समर्थन मूल्य पर 16 जून तक सरसों एवं चना का बेचान करने वाले 44 हजार 848 किसानों को 523 करोड़ 17 लाख रुपये का भुगतान सीधे उनके पंजीकृत बैंक खातों में किया गया है। बाकी बची राशि भी ऑनलाइन ट्रांसफर की जा रही है।


4323 करोड़ रुपये का किया भुगतान

खरीफ सीजन में प्रदेश 4 लाख 33 हजार 669 रिकार्ड किसानों से 4 हजार 961 करोड़ 62 लाख रुपये मूल्य की सरसों, चना, गेहूं एवं लहसुन की खरीद की गई थी। 24 जुलाई तक 3 लाख 82 हजार 168 किसानों को उनकी उपज के बेचान पेटे4 हजार 323 करोड 89 लाख रुपये का भुगतान उनके पंजीकृत बैंक खातों में करवाया जा चुका है।

 

16 जून तक उपज बेचने वालों को हुआ भुगतान

सहकारिता सचिव अभय कुमार ने बताया कि खरीफ सीजन-2018 में राजफैड द्वारा नैफेड के लिये समर्थन मूल्य पर सरसों, चना एवं गेहूं तथा बाजार हस्तक्षेप योजना के तहत लहसुन की खरीद की गई थी। गेहूं एवं लहसुन का बेचान करने वाले सभी किसानों को भुगतान किया जा चुका है। 16 जून, 2018 तक उपज का बेचान करने वाले किसानों को भुगतान करवाया जा चुका है। सरसों के 13 हजार 521 एवं चना के 37 हजार 980 शेष किसानों को शीघ्र भुगतान करवाने के लिये नैफेड से राशि प्राप्त करने के लिये प्रयास किये जा रहे हैं।

 

चना की 306 करोड़ एवं सरसों की 217 करोड़ की राशि खातों में जमा

राजफैड की प्रबंध निदेशक डॉ. वीना प्रधान ने बताया कि नैफेड से हाल ही में प्राप्त राशि से सरसों का बेचान करने वाले 19 हजार 320 किसानों को 216.99 करोड़ रुपये का तथा चना बेचान करने वाले 25 हजार 528 किसानों को 306.18 करोड़ रुपये का भुगतान करवाया गया है। उन्होंने बताया कि नैफेड द्वारा जैसे-जैसे भुगतान राशि जारी की जा रही है, उसे तत्काल संबंधित किसानों के खातों में उनके द्वारा बेचान की गई उपज की राशि के अनुरूप ऑनलाइन जमा किया जा रहा है।

rohit sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned