कक्षाओं का संचालन बंद होना आ रहा 'इंस्पायर' के आड़े

अदरीस खान @ हनुमानगढ़. कोरोना संक्रमण संकट के चलते उप्रावि बंद होने तथा माध्यमिक स्तर की कक्षाओं का देरी से संचालन होने से इंस्पायर अवार्ड मानक योजना के तहत पंजीयन बढ़ाने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने पड़ रहे हैं।

By: adrish khan

Published: 07 Sep 2021, 08:17 PM IST

कक्षाओं का संचालन बंद होना आ रहा 'इंस्पायर' के आड़े
- इंस्पायर अवार्ड मानक के पंजीयन बढ़ाने को करना पड़ रहा अतिरिक्त प्रयास
- अब तक गत वर्ष की तुलना में दस प्रतिशत भी पंजीयन नहीं
- उप्रावि पाठशालाएं बंद होने व माध्यमिक कक्षाओं का संचालन देरी से होने से बढ़ी चुनौती
अदरीस खान @ हनुमानगढ़. कोरोना संक्रमण संकट के चलते उप्रावि बंद होने तथा माध्यमिक स्तर की कक्षाओं का देरी से संचालन होने से इंस्पायर अवार्ड मानक योजना के तहत पंजीयन बढ़ाने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने पड़ रहे हैं। शिक्षा विभाग के अधिकारी पंजीयन बढ़ाने को लेकर ब्लॉक स्तर पर कार्यशालाएं शुरू कर चुके हैं ताकि विद्यालय संचालकों को इंस्पायर पंजीयन बढ़ाने के लिए इंस्पायर किया जा सके। इंस्पायर अवार्ड पोर्टल पर नामांकन शुरू हुए पौने दो माह बीत चुके हैं। लेकिन अब तक केवल चार दर्जन के लगभग विद्यालयों से ही विद्यार्थियों ने पंजीयन कराया है।
सभी सरकारी व गैर सरकारी विद्यालयों के संस्था प्रधानों को अपने विद्यालय से आवश्यक रूप से पांच विद्यार्थियों का नामांकन कराने का आदेश है। जिले में एक हजार के करीब राजकीय उच्च प्राथमिक तथा माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालय हैं। इससे दोगुनी संख्या निजी विद्यालयों की है। इसके बावजूद इंस्पायर अवार्ड नामांकन प्रक्रिया में शामिल होने वाले स्कूलों की संख्या का आंकड़ा अब तक अद्र्धशतक के करीब ही पहुंच सका है। यद्यपि अभी पंजीयन की अंतिम तिथि में करीब सवा माह का समय शेष है। इसलिए शिक्षा विभाग प्रयास में जुटा है कि पिछले वर्ष की पंजीयन संख्या के आसपास तक आंकड़ा पहुंचा दिया जाए। गत वर्ष जिले से सात हजार से अधिक विद्यार्थियों ने पंजीयन कराया था। उल्लेखनीय है कि पोर्टल पर नामांकन की जिम्मेदारी संस्था प्रधानों की है। विद्यार्थी अपने स्तर पर पुरस्कार के लिए नामांकन नहीं करवा सकते।
चुनौती से निपटने का प्रयास
इंस्पायर योजना की क्रियान्विति के लिए कार्यशालाओं का आयोजन प्रारंभ हो चुका है। नोहर व भादरा में कार्यशाला हो चुकी है। इनमें संस्था प्रधानों व शिक्षकों को डाटा अपलोड के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों, रजिस्ट्रेेशन आदि की जानकारी देकर अधिकाधिक नामांकन के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। सभी विद्यालयों में 31 अगस्त तक कक्षाओं का संचालन बंद था। आवेदन वगैरह की प्रक्रिया के लिए विद्यार्थियों को स्वत: स्फूर्त ही पाठशाला पहुंच संस्था प्रधानों व शिक्षकों से संपर्क करना पड़ता है। सामान्य स्थिति में विद्यालयों में संस्था प्रधान व शिक्षक समय-समय पर विद्यार्थियों को इंस्पायर अवार्ड की जानकारी देकर प्रोत्साहित करते रहते हैं।
एक से तीन में
प्रत्येक स्कूल में कक्षा 6 से 10 तक अध्ययनरत 10 से 15 आयु वर्ग के 2 से 5 विद्यार्थी अपने शिक्षकों के माध्यम से मौलिक विचारों को वेबसाइट पर अपलोड कर सकते हैं। इसके लिए संस्था प्रधान अपने विद्यालय के आवश्यक रूप से पांच विद्यार्थियों को नामांकित कर सकते हैं। नामांकन के साथ विद्यार्थी के आइडिया से संबंधित प्रोजेक्ट के बारे में एक से तीन पेजों में विवरण देना होता है। इसकी पीडीएफ फाइल बनाकर वेबसाइट पर अपलोड करनी होती है। अगर विद्यार्थी के आइडिया का चयन किया जाता है तो उसे दस हजार रुपए डीबीटी के माध्यम से मिल जाते हैं। फिर वह जिला स्तरीय प्रदर्शनी में भाग लेता है। यह पुरस्कार खास तौर से विज्ञान व गणित के ज्ञान पर आधारित है।
मिलता है पेटेंट भी
विद्यार्थियों को समाज, पर्यावरण आदि के विकास से संबंधित आविष्कार करने को प्रोत्साहित करने के लिए इंस्पायर अवार्ड योजना संचालित है। विद्यार्थी का आइडिया बेजोड़ होने पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग उसे पेटेंट भी कराता है। जिला स्तरीय प्रदर्शनी में शामिल विद्यार्थियों में से दस प्रतिशत का चयन राज्य स्तरीय प्रदर्शनी के लिए होता है। इस प्रदर्शनी से भी दस फीसदी का चयन राष्ट्रीय प्रदर्शनी के लिए किया जाता है। चयनित विद्यार्थी को प्रोजेक्ट में सुधार आदि पर खर्च के लिए 50 हजार रुपए मिलते हैं।
सफलता दोहराने का प्रयास
एडीईओ माध्यमिक रण्वीर शर्मा ने बताया कि अब तक अपेक्षानुरूप विद्यालयों ने नामांकन नहीं कराया है। इसलिए मिलकर प्रयास कर रहे हैं कि जिला पहले की तरह बड़ी संख्या में पंजीयन करवा सके। होनहार विद्यार्थियों का पुरस्कार के लिए नामांकन करवाए जाए ताकि उनकी प्रतिभा को सही मंच मिल सके। सवा माह का समय शेष है। सामूहिक प्रयासों से पंजीयन संख्या जरूर बढ़ेगी।

adrish khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned