चेक अनादरण के मामले मे 15 माह की सजा

चेक अनादरण के मामले मे 15 माह की सजा
चेक अनादरण के मामले मे 15 माह की सजा

Purushotam Jha | Updated: 19 Sep 2019, 08:50:01 PM (IST) Hanumangarh, Hanumangarh, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़/ भादरा. न्यायिक मजिस्टे्रट जयराम जाट ने गुरूवार को चैक अनादरण के मामले में सुनवाई करते हुए एक व्यक्ति को एक वर्ष तीन माह के कारावास व पांच लाख 68 हजार रूपए के अर्थदण्ड से दंडित किया है।

 


हनुमानगढ़/ भादरा. न्यायिक मजिस्टे्रट जयराम जाट ने गुरूवार को चैक अनादरण के मामले में सुनवाई करते हुए एक व्यक्ति को एक वर्ष तीन माह के कारावास व पांच लाख 68 हजार रूपए के अर्थदण्ड से दंडित किया है। प्रकरण के अनुसार परिवादी विरेन्द्रसिंह पुत्र रामप्रसाद निवासी वार्ड नम्बर तीन भादरा से सन 2015 में अभियुक्त अनिल मित्तल ने चार लाख रूपए उधार लिये थे, रूपयों की अदायगी पेटे अभियुक्त अनिल मित्तल ने एक चैक परिवादी को सौंपा था जो परिवादी द्वारा बैंक में भुगतान प्राप्त करने के लिए पेश किया लेकिन अभियुक्त के खाता में चैक के भुगतान योग्य राशि नही होने के कारण अनादरित हो गया। जिस पर परिवादी ने अभियुक्त के विरूद्ध न्यायालय में परिवाद पेश किया। जिसकी सुनवाई करते हुए गुरूवार को न्यायिक मजिस्टे्रट जयराम जाट ने अभियुक्त अनिल मित्तल पुत्र महावीर प्रसाद, निवासी भादरा को दोषी मानते हुए एक वर्ष तीन माह के कारावास व 5 लाख 68 हजार रूपए के अर्थदण्ड से दंडित किया, अदम अदायगी अर्थदंड एक माह का अतिरिक्त कारावास से दंडित किया। परिवादी पक्ष की ओर से एडवोकेट विनोद कालेरा व सुनील बैनीवाल द्वारा पैरवी की गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned