scriptThe foundation stone of Panchayat Bhawan was laid amidst controversies | विवादों के बीच हुआ पंचायत भवन का शिलान्यास | Patrika News

विवादों के बीच हुआ पंचायत भवन का शिलान्यास

- बीडीओ निर्माण रूकवाने पहुंचे, तो ग्रामीणों ने किया विरोध
- पंचायत भवन के स्थल को लेकर है विवाद

हनुमानगढ़

Published: November 17, 2021 09:40:18 pm

पीलीबंगा. ग्राम पंचायत 45 एनडीआर में नवसृजित पंचायत भवन के निर्माण के लिए किए जा रहे शिलान्यास को बिना मौका मजिस्ट्रेट रुकवाने गए पंचायत समिति व पुलिस प्रशासन को ग्रामीणों के विरोध के चलते बैरंग लौटना पड़ा। ग्रामीणों ने प्रशासन पर राजनीतिक दबाव के चलते पंचायत भवन के निर्माण कार्यों में रोड़ा अटकाने का आरोप लगाते हुए मौके पर पहुंचे अधिकारियों के विरूद्व नारेबाजी की।
ग्रामीण अशोक गुडेसर ने बताया कि बुधवार को ग्राम पंचायत 45 एनडीआर में स्थित भवन निर्माण के लिए आवंटित भूमि पर सरपंच निराणाराम मेहरड़ा के नेतृत्व में नई पंचायत भवन की नींव रखी जा रही थी। इससे पूर्व पंचायत समिति के विकास अधिकारी अभिमन्यु चौधरी पुलिस जाब्ते के साथ मौके पर पहुंच गए तथा निर्माण कार्य को रुकवाने के निर्देश दिए।
विवादों के बीच हुआ पंचायत भवन का शिलान्यास
विवादों के बीच हुआ पंचायत भवन का शिलान्यास

सरपंच निराणाराम मेहरड़ा ने बीडीओ को राजस्व मंडल की ओर से जारी किए गए स्थगन आदेश की प्रति दिखाते हुए निर्माण कार्य जारी रखने की बात कही तथा निर्माण कार्य रुकवाने संबंधी लिखित आदेश की प्रति मांगी। निर्माण कार्य रुकवाने पहुंचे अधिकारियों के पास लिखित आदेश नहीं होने के कारण ग्रामीणों ने विरोध स्वरूप नारेबाजी करते हुए पंचायत के विकास कार्यों में रोड़ा अटकाने का आरोप लगाया तथा नवसृजित पंचायत भवन का शिलान्यास कर दिया।

सरपंच निराणाराम मेहरड़ा ने विकास अधिकारी अभिमन्यु चौधरी पुलिस जाब्ते के साथ मौके पर पहुंचकर पद का दुरूपयोग करने व अनाधिकृत तरीके से निर्माण कार्य रूकवाने के आरोप लगाए। शिलान्यास समारोह में पूर्व ब्लाक अध्यक्ष रमेश भांभू, सरपंच एसोसिएशन के कुलदीप जाखड़, पूर्व प्रधान प्रेमराज जाखड़, पूर्व सरपंच बलबीर सिंह सिद्दू, व्यापार मंडल अध्यक्ष बृजलाल गोदारा, सरपंच सुशील राबिया, रामूराम बेनीवाल, गोपाल राम, राजेंद्र भांभू, जगतार सिंह, डूंगरराम चोपड़ा, बिंदु जगदीश सारस्वत, कुलदीप चानणका, सुनील क्रांति, रोशन छाछिया व ग्रामीण शिवराज गोदारा, शंकर लाल पटीर, लालचंद महायच, कृष्णलाल भरवाना, फूल सिंह आदि उपस्थित रहे।(नसं.)

यह है विवाद का कारण
नवसृजित ग्राम पंचायत 45 एनडीआर में पंचायत भवन निर्माण के लिए आबादी क्षेत्र में भूमि को चिन्हित किया गया लेकिन ग्रामीणों की सहमति नहीं बनने के कारण आबादी क्षेत्र में पंचायत भवन के निर्माण में आ रही समस्याओं को लेकर तत्कालीन जिला कलेक्टर के निर्देशानुसार पंचायत भवन के निर्माण के लिए राजकीय भूमि को चिन्हित कर आवंटित करने के दिए गए। निर्देशों पर तत्कालीन उपखंड अधिकारी की ओर से आबादी क्षेत्र से सटती करीब 3 बीघा राजकीय भूमि पर पंचायत भवन का निर्माण करने के निर्देश दिए गए। इसी बीच एक ग्रामीण द्वारा पंचायत भवन के निर्माण को लेकर कृषि भूमि में से कुछ जमीन दान स्वरूप दी गई लेकिन ग्रामीणों की सहमति नहीं बनने पर सरपंच की ओर से पूर्व में एसडीएम द्वारा चिन्हित की गई भूमि पर पंचायत भवन का निर्माण करने की रूपरेखा तैयार की गई। सरपंच ने निराणाराम ने बताया कि कुछ ग्रामीणों द्वारा पूर्व में एसडीएम की ओर से चिन्हित की गई भूमि पर पंचायत निर्माण करने को लेकर राजस्व अपील अधिकारी के समक्ष उपखंड अधिकारी के फैसले के विरुद्ध अपील कर दी गई। लेकिन राजस्व मंडल की ओर से पूर्व में दिए गए उपखंड अधिकारी के फैसले को बहाल रखकर यथास्थिति बनाए रखने के निर्देश दिए गए थे। इस पर पंचायत भवन का बुधवार को शिलान्यास किया गया।

इनका कहना है
'ग्राम पंचायत 45 एनडीआर में पंचायत भवन निर्माण को लेकर ग्रामीणों का विवाद चल रहा था। बुधवार को पंचायत भवन का शिलान्यास कर रहे सरपंच को निर्माण के दौरान पंचायत में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए समझाइश को लेकर पहुंचे थे। कार्य रूकवाने को लेकर लगाए जा रहे आरोप निराधार हैÓ। मौका स्थिति की रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेज दी गई है।
- अभिमन्यू चौधरी, विकास अधिकारी, पीलीबंगा
---------
'उपखंड अधिकारी के निर्देशानुसार विकास अधिकारी के साथ पुलिस जाब्ता लेकर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए गए थे।Ó
- हरबंश सिंह, एसआई, पीलीबंगा
----------
'ग्राम पंचायत के लिए आवंटित भूमि पर बुधवार को पंचायत भवन की नींव रखी जा रही थी। उस समय विकास अधिकारी अभिमन्यु चौधरी पुलिस जाब्ते के साथ मौके पर पहुंचे तथा पद का दुरूपयोग करते हुए अनाधिकृत तरीके से निर्माण को रूकवाने के निर्देश दिए जबकि उनके पास कोई लिखित आदेश की प्रति नहीं थी।Ó
- निराणाराम मेहरड़ा, सरपंच, 45 एनडीआर
---------
'मौका मजिस्ट्रेट नियुक्त करने जैसी कोई बात नहीं थी। ग्राम पंचायत में एक पक्ष पंचायत भवन का शिलान्यास कर रहा था जबकि दूसरा पक्ष विरोध कर रहा था। पंचायत क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस जाब्ते के साथ विकास अधिकारी को मौके पर भेजा गया था। शिलान्यास केसे किया गया प्रकरण की जांच की जा रही है।Ó
- रंजीत कुमार, उपखंड अधिकारी, पीलीबंगा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: आज होगी वीरता पुरस्कारों की घोषणा, गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी बनी छावनीशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातभाजपा की नई लिस्ट में हो सकती है छंटनी की तैयारी, कट सकते हैं 80 विधायकों के टिकटDelhi: सीएम केजरीवाल का ऐलान, अब सरकारी दफ्तरों में नेताओं की जगह लगेंगी अंबेडकर और भगत सिंह की तस्वीरेंछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 19 मरीजों की मौत, जनवरी में ये आंकड़ा सबसे ज्यादा, इधर तेजी से बढ़ रही एक्टिव मरीजों की संख्याUttar Pradesh Assembly Elections 2022: शह और मात के खेल में डिजिटल घमासान, कौन कितने पानी मेंRepublic Day 2022: जानिए इसका इतिहास, महत्व और रोचक तथ्यकई टेस्ट में भी पकड़ में नहीं आता BA 2 स्ट्रेन, जानिए क्यों खतरनाक है ओमिक्रान का ये सब वेरिएंट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.