scriptThe risk of infection remains intact, no budget for staff, seven more | संक्रमण का खतरा बरकरार, स्टाफ के लिए नहीं बजट, यूटीबी वाले सात और हटाए | Patrika News

संक्रमण का खतरा बरकरार, स्टाफ के लिए नहीं बजट, यूटीबी वाले सात और हटाए

हनुमानगढ़. कोरोना संक्रमण का खतरा पुन: बढ़ रहा है। राजकीय अस्पतालों में संभावित संकट के दृष्टिगत तैयारी के दावे किए जा रहे हैं। मगर अर्जेंट टेम्परेरी बेस माने यूटीबी पर रखे गए नर्सिंगकर्मियों के लिए तो चिकित्सा विभाग के पास बजट ही नहीं है।

हनुमानगढ़

Published: December 18, 2021 09:11:55 pm

संक्रमण का खतरा बरकरार, स्टाफ के लिए नहीं बजट, यूटीबी वाले सात और हटाए
- अब तक यूटीबी पर लगे 25 नर्सिंगकर्मियों को सेवा से हटाया
- कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ली गई थी सेवा
हनुमानगढ़. कोरोना संक्रमण का खतरा पुन: बढ़ रहा है। राजकीय अस्पतालों में संभावित संकट के दृष्टिगत तैयारी के दावे किए जा रहे हैं। मगर अर्जेंट टेम्परेरी बेस माने यूटीबी पर रखे गए नर्सिंगकर्मियों के लिए तो चिकित्सा विभाग के पास बजट ही नहीं है। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान नर्सिंगकर्मियों का वर्कलोड कम करने के लिए यूटीबी पर नर्सिंगकर्मी रखे गए थे। उनमें से 18 की तो बीते माह एक साल की अवधि पूर्ण होने पर सेवा समाप्त कर दी गई।
इनके बाद 14 नर्सिंगकर्मियों को यूटीबी पर कई सप्ताह की देरी से रखा गया था। उनका तो अभी एक साल भी पूरा नहीं हुआ है। इसके बावजूद उनमें से सात को हटाया जा चुका है। वजह यह कि उनके लिए चिकित्सा विभाग के संस्थानों के पास बजट ही नहीं है। इन हालात में जब फिर से स्थिति दूसरी लहर सरीखी होगी तो बजट का यह टोटा बड़ा भारी पड़ सकता है। क्योंकि कोरोना महामारी की तीसरी लहर और संक्रमण के नए वैरियंट का खतरा अभी टला नहीं है।
जरूरत तो बहुत
कोरोना महामारी के दौरान बीते बरस 25 नवम्बर को 18 नर्स ग्रेड द्वितीय रखे गए थे। उनको इस साल 23 नवम्बर को हटा दिया गया। जबकि जिले में नर्सिंगकर्मियों के बहुत पद खाली पड़े हैं। इसका मतलब कि स्वास्थ्य सेवाओं से जनता को अधिकाधिक व बेहतर ढंग से लाभान्वित करने के लिए नर्सिंग कर्मियों की आवश्यकता तो है। ऐसे में यूटीबी पर कार्यरत नर्सिंग कर्मियों को यथावत रखने की मांग उठ रही है। लेकिन इस पर सरकार एवं विभाग ने कोई ध्यान नहीं धरा है।
तो बेलने पड़ेंगे फिर पापड़
जानकारों की माने तो यूटीबी पर लगने के लिए कई नर्सिंगकर्मियों को योग्यता के बावजूद सिफारिशों का सहारा लेना पड़ा था। अब सेवा से हटाए गए नर्सिंगकर्मियों की चिंता यह भी है कि तीसरी लहर में यदि फिर से यूटीबी पर रखे गए तो नए सिरे से प्रक्रिया होगी। इसका मतलब है कि फिेर से इस नौकरी के लिए कई पापड़ बेलने पड़ेंगे। ऐसे में हटाए गए नर्सिंगकर्मियों की यह भी मांग है कि तीसरी लहर में यूटीबी पर कार्मिक रखे जाए तो उनको वरीयता मिले।
हटाने से आई दिक्कतें
यूटीबी पर लगे 25 नर्सिंगकर्मियों को हटाया गया था। यह सभी जिला अस्पताल में सेवा दे रहे थे। अचानक इनको हटाने से व्यवस्था बनाने में दिक्कतें आई तो सीएमएचओ को अवगत करवा दिया। - डॉ. दीपक सैनी, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी, जिला अस्पताल।
मुख्यालय को बताई वस्तुस्थिति
मुख्यालय के उच्चाधिकारियों को वस्तुस्थिति से अवगत करवा चुके हैं। यूटीबी पर एक साल के लिए ही रखने का नियम था। प्रयास कर रहे हैं कि पुन: आवश्यकता होने पर खाली पोस्ट पर यूटीबी पर नियुक्ति की जा सके। इस संबंध में मुख्यालय से प्राप्त आदेश के आधार पर ही आगामी कार्यवाही हो सकेगी। - डॉ. नवनीत शर्मा, सीएमएचओ।
संक्रमण का खतरा बरकरार, स्टाफ के लिए नहीं बजट, यूटीबी वाले सात और हटाए
संक्रमण का खतरा बरकरार, स्टाफ के लिए नहीं बजट, यूटीबी वाले सात और हटाए

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावCorona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up Dayसीमित दायरे से निकल बड़ा अंतरिक्ष उद्यम बनने की होगी कोशिश: सोमनाथMarital Rape: क्यों पति की जबरदस्ती को रेप के कानून में लाना आवश्यक है? दिल्ली हाई कोर्ट में छिड़ी बहसPKL 8: प्रो कबड्डी लीग में खेले जाएंगे आज 3 मुकाबले, ऐसे बनाएं अपनी फैंटेसी टीमचंद लोगों के हाथ में होते हैं ऐसे शुभ निशान, ये व्यक्ति की चमका देते हैं किस्मत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.