कुछ परहेज तो कुछ दिखा रहे दरियादिली, जिले के दो विधायकों का खजाना तो पूरी तरह हो गया खाली

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. एमएलए फंड में आवंटित राशि का उपयोग करने में कुछ विधायक जहां दरियादिली दिखा रहे हैं। वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो प्राप्त राशि का उपयोग करने में परहेज कर रहे हैं। यह विधायक अनुशंसा जारी करने में कोई जल्दबाजी नहीं कर रहे हैं। दूसरी तरफ दो विधायक ऐसे भी हैं, जिनका खजाना पूरी तरह से खाली हो गया है।

 

By: Purushottam Jha

Published: 04 Mar 2021, 06:54 AM IST

कुछ परहेज तो कुछ दिखा रहे दरियादिली, जिले के दो विधायकों का खजाना तो पूरी तरह हो गया खाली
-विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास योजना में आवंटित राशि की तुलना में जारी कर रहे विकास कार्यों की अनुशंसा

पुरुषोत्तम झा. हनुमानगढ़. एमएलए फंड में आवंटित राशि का उपयोग करने में कुछ विधायक जहां दरियादिली दिखा रहे हैं। वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो प्राप्त राशि का उपयोग करने में परहेज कर रहे हैं। यह विधायक अनुशंसा जारी करने में कोई जल्दबाजी नहीं कर रहे हैं। दूसरी तरफ दो विधायक ऐसे भी हैं, जिनका खजाना पूरी तरह से खाली हो गया है। वह प्राप्त राशि से अधिक की अनुशंसा जारी कर चुके हैं। आंकड़ों पर नजर दौड़ाएंगे तो हनुमानगढ़ जिले के पांचों विधायकों के लिए वर्ष २०१९-२० व २०२०-२१ तक कुल १६८७०.५० लाख रुपए की राशि जिला परिषद को प्राप्त हुई। इसमें अभी तक पांचों विधायकों की ओर से १५६५.४५ लाख रुपए की अनुशंसा जारी कर दी गई है।
इतनी ही राशि की प्रशासनिक स्वीकृतियां भी जिला परिषद स्तर पर जारी कर दी गई है। इसमें से फरवरी २०२१ तक १४१२.२५ लाख रुपए की तकनीकी मंजूरी भी जारी हो चुकी है। जबकि १२२.०४ लाख रुपए की राशि अभी शेष है। इनकी अनुशंसा विधायकों की ओर से जारी की जानी बाकी है। अब तक विधायकों ने जो अनुशंसा जारी की है, उसमें पेयजल पाइप लाइन बिछाने, सरकारी विद्यालयों में कमरा निर्माण व कोविड नियंत्रण के लिए अस्पतालों में व्यवस्था दुरुस्त करने संबंधी कार्य ही प्राथमिकता से शामिल किए हैं।

विकास कार्यों पर नजर
विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास योजना के तहत जिले के पांचों विधायकों को वर्ष २०१४-१५ से २०१८-१९ तक ५३७५.०० लाख का आवंटन हुआ था। इसमें ४८१२.५० लाख रुपए ही जिला परिषद को प्राप्त हुए। जबकि २०१४-१५ से २०१८-१९ तक की अवधि में तत्कालीन विधायकों ने ९४३ कार्यों के लिए ५४४६.९१ लाख रुपए की अनुशंसा जारी की। इसमें ८०५ कार्य पूर्ण हो चुके हैं। जबकि १३८ कार्य प्रगतिरत हैं। वहीं हनुमानगढ़ जिले में २०१९-२० व २०२०-२१ में अब तक २५६ कार्यों की स्वीकृति जारी की जा चुकी है। इसमें ८७ कार्य ही पूर्ण हुए हैं। १५४ कार्य अभी प्रगति पर हैं।

नहीं होता बजट लैप्स
जिला परिषद कार्मिकों के अनुसार विधायक कोष में आवंटित राशि एक वर्ष बाद लैप्स नहीं होती है। जबकि अन्य योजनाओं में वार्षिक प्लान के तहत बजट खर्च नहीं होने पर शेष लैप्स हो जाता है। पांच वर्ष के कार्यकाल में विधायक उक्त राशि का उपयोग कर सकते हैं। संभवतया इसलिए कुछ विधायक चुनावी वर्ष के लिए भी राशि को बचा कर रख लेते हैं।

यह है खातों की स्थिति
विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास योजना के तहत पांचों विधायकों में प्रत्येक को ३३७.५० लाख रुपए के हिसाब से राशि प्राप्त हुई है। इसमें हनुमानगढ़ विधायक चौधरी विनोद कुमार ने फरवरी २०२१ तक ३०४.२४ लाख, संगरिया विधायक गुरदीप सिंह शाहपीनी ने २८७.३४ लाख, पीलीबंगा विधायक धर्मेंद्र मोची ने ३४२.२५ लाख, नोहर विधायक अमित चाचाण ने २३७.४४ लाख व भादरा विधायक बलवान पूनियां ने ३९४.१८ लाख रुपए की अनुशंसाएं जारी की है। विधायकों के खजाने की बात करें तो हनुमानगढ़ विधायक के खाते में ३३.२६ लाख, संगरिया विधायक के खाते में ५०.१६ लाख व नोहर विधायक के खाते में १००.०६ लाख रुपए की राशि पड़ी है। जबकि भादरा व पीलीबंगा विधायकों का खजाना वर्तमान में खाली हो गया है। इसमें पीलीबंगा विधायक धर्मेंद्र मोची ने प्राप्त राशि से ४.७५ लाख व भादरा विधायक बलवान पूनियां ने ५६.६८ लाख अधिक अनुशंसा जारी कर दी है।

......फैक्ट फाइल.....
-चालू वित्तीय वर्ष तक जिले में पांचों विधायकों की ओर से १५६५.४५ लाख रुपए की अनुशंसा जारी की गई है।
-जिले के पांचों विधायकों को वर्ष २०१४-१५ से २०१८-१९ तक ५३७५.०० लाख का आवंटन हुआ था।
-जिले में २०१९-२० व २०२०-२१ में अब तक २५६ कार्यों की स्वीकृति जारी की जा चुकी है।
-हनुमानगढ़ विधायक के खाते में ३३.२६ लाख, संगरिया विधायक के खाते में ५०.१६ लाख व नोहर विधायक के खाते में १००.०६ लाख रुपए की राशि पड़ी हुई है।
........वर्जन........
कर रहे अनुशंसा जारी
जैसे-जैसे विधायकों की ओर से अनुशंसाएं जारी की जा रही है, उनकी प्रशासनिक व तकनीकी स्वीकृति जारी कर कार्य करवा रहे हैं। विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास योजना के तहत कई कार्य प्रगतिरत हैं। इस योजना में प्राप्त बजट कभी लैप्स भी नहीं होता। कुछ विधायकों ने तो प्राप्त राशि से अधिक की अनुशंसा भी भिजवा दी है।
-रामनिवास जाट, सीईओ, जिला परिषद हनुमानगढ़

Purushottam Jha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned