पाठशाला की अव्यवस्थाओं के खिलाफ ग्रामीणों का प्रदर्शन

राजकीय उमावि में व्याप्त अव्यवस्थाओं के विरोध में सोमवार को विभिन्न संगठनों के दर्जनों ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों ने विद्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया।

By: vikas meel

Published: 11 Sep 2017, 09:20 PM IST

हनुमानगढ़.

जिले के टिब्बी कस्बा स्थित राजकीय उमावि में व्याप्त अव्यवस्थाओं के विरोध में सोमवार को विभिन्न संगठनों के दर्जनों ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों ने विद्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत सोमवार सुबह दर्जनों ग्रामीण विद्यालय के समक्ष पहुंचे।  ग्रामीणों ने विद्यालय में व्याप्त अव्यवस्था के लिए प्रधानाचार्य नक्षत्र सिंह व व्याख्याता नगेन्द्र सिंह को जिम्मेदार ठहराते हुए उनको एपीओ करने की मांग की। ग्रामीणों ने कहा कि कभी इस विद्यालय का नामांकन एक हजार हुआ करता था। आज स्थिति यह है कि ढाई सौ से भी कम विद्यार्थी नामांकित हैं। जबकि पाठशाला में तीन दर्जन से अधिक शिक्षक कार्यरत हैं। कम नामांकन के बावजूद दर्जनों शिक्षक विद्यालय में लगे हुए हैं। लेकिन संस्था प्रधान नामांकन बढ़ोतरी के लिए कुछ नहीं कर रहे। बिगड़ी शिक्षण व्यवस्था आदि के कारण लगातार नामांकन घट रहा है।


ग्रामीणों ने विद्यालय की व्यवस्था में सुधार नहीं होने पर आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी। प्रदर्शन की सूचना पर स्थानीय तहसीलदार उमा मित्तल, बीईईओ भवानीसिंह शेखावत, शिक्षा विभाग के प्रतिनिधि चाननसिंह सैनी, प्रधान प्रतिनिधि सुरेन्द्रसिंह काला तथा डीएसपी देवानंद आदि मौके पर पहुंचे तथा ग्रामीणों से वार्ता की। ग्रामीणों ने विद्यालय में व्याप्त अव्यवस्थाओं की जानकारी देते हुए प्रधानाचार्य नक्षत्र सिंह व व्याख्याता नगेन्द्र सिंह को इसका जिम्मदार बताया तथा उन्हें एपीओ करने की मांग की। बाद में अधिकारियों ने ग्रामीणों के आंदोलन से कलक्टर को अवगत कराया। अधिकारियों ने ग्रामीणों को जायज मांगें पूरी करने का आश्वासन दिया। वहीं ग्रामीणों ने मांग पूरी नहीं होने की स्थिति में बाजार बंद कर आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी।

 

इस दौरान जिप सदस्य ताराचंद बूकन, व्यापार मंडल अध्यक्ष जीतसिंह सिसोदिया, किसान कांग्रेस के सुधीर गोदारा, कांगे्रस के ब्लॉक अध्यक्ष जगदीश टाण्डी, अल्पसंख्यक मोर्चा के अयूब खां, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ओम दुगेसर, संजय बेनीवाल, पवन जॉगिड़, युवा ग्राम विकास समिति अध्यक्ष रविन्द्र रिणवां, एक नूर खालसा फौज के प्रदेश प्रवक्ता जसमीतसिंह बॉबी, युवा कांग्रेस के विधानसभा उपाध्यक्ष मानसिंह राठौड़, डीवाईएफआई के तहसील सचिव मनीष अरोड़ा व सुरेन्द्र स्वामी, प्रदीप बेनीवाल, महेन्द्र राहड़, जाट महासभा के मदन दुगेसर, उप सरपंच मदन टांडी, भाजपा के जिला मंत्री जगदीश कस्वां, भारतीय किसान संघ के तहसील अध्यक्ष कुलवंत सुथार, जगदीश भार्गव आदि मौजूद रहे। ग्रामीणों के आंदोलन के मद्देनजर पुलिस प्रशासन चाक चौबंद रहा।


विद्यालय का औचक निरीक्षण
इससे पूर्व सोमवार सुबह तहसीलदार उमा मित्तल ने विद्यालय का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान 7 अध्यापक अनुपस्थित मिले। अनुपस्थित अध्यापकों की सूचना जिला कलक्टर तथा जिला शिक्षा अधिकारी को भेजी गई।

Show More
vikas meel
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned