scriptWaiting for budget for years for construction of Hanumangarh Junction | निर्माण पर सैद्धांतिक सहमति, जमीन पर्याप्त, अब तक नहीं मिला बजट | Patrika News

निर्माण पर सैद्धांतिक सहमति, जमीन पर्याप्त, अब तक नहीं मिला बजट

हनुमानगढ़. जंक्शन अस्पताल भवन निर्माण के लिए बजट देने पर सैद्धांतिक सहमति मिले कई माह बीत चुके हैं। अस्पताल के लिए मापदंडों के अनुरूप भूमि भी उपलब्ध है। अस्पताल भवन निर्माण प्रस्ताव को सप्लीमेंट्री पीआईपी में भी शामिल किया जा चुका है। मगर अब तक बजट जारी नहीं किया गया है। बजट का इंतजार निरंतर लम्बा खिंचता जा रहा है।

हनुमानगढ़

Published: November 08, 2021 08:31:50 pm

निर्माण पर सैद्धांतिक सहमति, जमीन पर्याप्त, अब तक नहीं मिला बजट
- हनुमानगढ़ जंक्शन तीस बेड अस्पताल भवन निर्माण प्रस्ताव सप्लीमेंट्री पीआईपी में शामिल, बजट का इंतजार
- मापदंडों के अनुरूप भूमि उपलब्धता की भेज चुके रिपोर्ट
अदरीस खान @ हनुमानगढ़. जंक्शन अस्पताल भवन निर्माण के लिए बजट देने पर सैद्धांतिक सहमति मिले कई माह बीत चुके हैं। अस्पताल के लिए मापदंडों के अनुरूप भूमि भी उपलब्ध है। अस्पताल भवन निर्माण प्रस्ताव को सप्लीमेंट्री पीआईपी में भी शामिल किया जा चुका है। मगर अब तक बजट जारी नहीं किया गया है। बजट का इंतजार निरंतर लम्बा खिंचता जा रहा है। मोटे तौर पर अस्पताल भवन निर्माण बजट के लिए चिकित्सा विभाग पिछले चार-पांच साल से प्रयासरत है।
नाबार्ड की ओर से राजकीय अस्पताल, कैनाल कॉलोनी के भवन निर्माण पर सैद्धांतिक सहमति दी जा चुकी है। अस्पताल का नया भवन दूरदर्शन रिले केन्द्र के पास आवंटित भूमि पर बनाया जाना है। यहां जंक्शन के तीस बेड राजकीय चिकित्सालय के नाम से भूमि आवंटित है। अस्पताल भवन निर्माण के लिए जो जमीन आवंटित है, उस पर करीब दो साल पहले चिकित्सा निदेशालय ने आपत्ति लगा दी थी। नगर परिषद की ओर से भूमि आवंटन के करीब चार साल बाद चिकित्सा निदेशालय ने ऐसा किया था। लेकिन अब यह मसला हल हो चुका है। मापदंडों के अनुरूप भूमि होने की सूचना चिकित्सा अधिकारी मुख्यालय को भिजवा चुके हैं।
सप्लीमेंटी में शामिल
चिकित्सा विभाग ने वार्षिक बजट कार्ययोजना प्रोजेक्ट इंपलीमेंटेशन प्रोग्राम (पीआईपी) में शामिल कराने के लिए अस्पताल भवन निर्माण संबंधी प्रस्ताव मुख्यालय को भिजवाया था। मुख्यालय के अफसरों ने आवंटित जमीन को नाकाफी बताते हुए बजट जारी करने से इनकार कर दिया था। बाद में अस्पताल भवन के लिए पर्याप्त जमीन नगर परिषद से आवंटित कराई गई। हालांकि कई बार प्रस्ताव भिजवाने के बावजूद उसे पीआईपी में शामिल नहीं किया गया था। मगर अंतिम बार जो प्रस्ताव भिजवाया था, उसे सप्लीमेंट्री पीआईपी में शामिल किया जा चुका है। ऐसे में बजट मिलने की उम्मीद की जा सकती है।
बढ़ानी पड़ी भूमि
नगर परिषद ने वर्ष 2014 में जंक्शन तीस बेड अस्पताल के लिए दूरदर्शन रिले केन्द्र के पास करीब तीन हजार स्क्वायर मीटर भूमि आवंटित की थी। इसके चार साल बाद चिकित्सा निदेशालय ने आवंटित भूमि को कम बताया था। इस पर चिकित्सा विभाग ने पर्याप्त भूमि आवंटित कराई।
मांग रहे इधर-उधर पैसा
एनएचएम ने अस्पताल भवन निर्माण के लिए बजट देने से मना कर दिया था। फिर वर्ष 2016 में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने एमएसडीपी के तहत प्रक्रिया शुरू की। अंतत: वर्ष 2017 में यह प्रस्ताव भी फेल हो गया। इसलिए पुन: चिकित्सा निदेशालय से बजट हासिल करने का प्रयास शुरू किया। यह कोशिशें करते हुए भी करीब चार बरस गुजरने को है।
इसलिए जरूरी
जानकारी के अनुसार अस्पताल के लिए आवंटित करीब तीन हजार स्क्वायर मीटर की बजाय साढ़े बारह हजार स्क्वायर मीटर जमीन चाहिए। यह इसलिए कि भविष्य में जंक्शन के तीस बेड अस्पताल को 100 बेड सेटेलाइट अस्पताल में परिवर्तित किया जा सके। अभी जो आवंटित भूमि है, वह कुछ वर्षों बाद कम पडऩी तय है। ऐसे में फिर वही दिक्कतें आएंगी जो अब है।
भवन बनते ही बनेगी बात
्रभवन बनने के तत्काल बाद ही तीस बेड के अस्पताल का संचालन शुरू हो जाएगा। क्योंकि कैनाल कॉलोनी स्थित सीएचसी को वहां शिफ्ट किया जाएगा। यहां पर्याप्त संख्या में चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ, लैब तकनीशियन आदि कार्यरत हैं। लेकिन भवन जर्जर होने के कारण रोगियों को इनडोर सहित कई लाभ नहीं मिल पा रहे। गौरतलब है कि चिकित्सा विभाग ने अस्पताल भवन निर्माण के लिए करीब चार करोड़ अड़तीस लाख सतानवे हजार रुपए का प्रोजेक्ट तैयार कर रखा है।
सकारात्मक परिणाम की उम्मीद
अस्पताल भवन निर्माण प्रस्ताव को सप्लीमेंट्री पीआईपी में शामिल किया जा चुका है। इस संबंध में मुख्यालय के चीफ इंजीनियर से बात कर उनको वस्तुस्थिति से अवगत कराया जा चुका है। स्थानीय विधायक महोदय भी इस दिशा में प्रयासरत हैं। जल्दी सकारात्मक परिणाम मिलने की उम्मीद है। - डॉ. नवनीत शर्मा, सीएमएचओ।
निर्माण पर सैद्धांतिक सहमति, जमीन पर्याप्त, अब तक नहीं मिला बजट
निर्माण पर सैद्धांतिक सहमति, जमीन पर्याप्त, अब तक नहीं मिला बजट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP assembly elections 2022: अखिलेश के वादाखिलाफी पर फूट-फूट कर रोई पूर्व मंत्री की पत्नी शमा वसीम, सपा पर भारी पड़ सकता है आंसूWeather News- दो दिन बाद मिलेगी सर्दी से राहत, तापमान में होगी बढ़ोतरीस्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- अभी कोरोना का खतरा बरकरार, 11 राज्यों में 50 हजार से ज्यादा एक्टिव केस, संक्रमण दर 17.75 फीसदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.