घर जाने के लिए प्रवासी मजदूर ने 3 हजार में ली नई साइकिल, मजबूरी का फायदा उठा मात्र 200 में खरीदी, निलंबित

Highlights

- हापुड़ जिले के बाबूगढ़ थाना क्षेत्र का मामला

- सैकड़ों प्रवासी श्रमिकों को बसों से घर भेजने के लिए ड्यूटी पर तैनात संग्रह अमीन की करतूत का खुलासा

- एसडीएम ने तत्काल प्रभाव से अमीन को निलंबित कर मामले की जांच तहसीलदार को सौंपी

By: lokesh verma

Published: 20 May 2020, 10:39 AM IST

हापुड़. लॉकडाउन के बीच घर जाने के लिए प्रवासी श्रमिकों को किस कदर परेशानियों से जूझना पड़ रहा है, यह किसी से छिपा नहीं है। वहीं, प्रशासन भी सरकार के आदेश पर दिन-रात प्रवासी श्रमिकों की सहायता में लगा हुआ है। लेकिन, ड्यूटी पर तैनात कुछ सरकारी कर्मचारी इसका भी फायदा उठाने से परहेज नहीं कर रहे हैं। इसी तरह का एक मामला हापुड़ जिले में सामने आया है। जहां बाबूगढ़ से सैकड़ों श्रमिकों को उनके घर भेजने के लिए बसों की व्यवस्था की गई थी। व्यवस्था संभालने के लिए यहां संग्रह अमीनों को लगाया गया था, लेकिन एक संग्रह अमीन ने मजदूरों की मदद करने के बजाय एक मजबूर मजदूर से उसकी नई साइकिल केवल 200 रुपये में खरीद ली। जैसे ही इसकी जानकारी एसडीएम को लगी तो उन्होंने तत्काल प्रभाव से अमीन को निलंबित कर मामले की जांच तहसीलदार को सौंप दी।

यह भी पढ़ें- लॉकडाउन के दौरान सूनी सड़क पर तेज रफ्तार से आ रही बाइकों में भीषण टक्कर, आग लगने के बाद मच गई चीख-पुकार

दरअसल, यह मामला हापुड़ जिले के बाबूगढ़ थाना क्षेत्र का है। जहां मंगलवार को सैकड़ों प्रवासी श्रमिकों को उनके घर भेजने के लिए जिला प्रशासन ने बसों की व्यवस्था की थी। इस दौरा खुद सदर एसडीएम सत्यप्रकाश मौके पर मौजूद थे। वहीं, पूरा व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी संग्रह अमीनों के कांधों पर थी। इसी दौरान एक संग्रह अमीन ड्यूटी करने के स्थान पर मजदूरों की मजबूरी का फायदा उठाने के चक्कर में लग गया। संग्रह अमीन ने एक मजदूर से उसकी चमचमाती नई साइकिल काे केवल 200 रुपये में खरीद लिया। इसके बाद अमीन साइकिल को घर ले जाने लगा तो एक पुलिसकर्मी ने रोक लिया और इसकी जानकारी एसडीएम सदर को दे दी। एसडीएम ने तत्काल जांच करते हुए संग्रह अमीन हरिकिशन को निलंबित कर दिया और मामले की जांच तहसीलदार को सौंप दी।

बता दें कि लॉकडाउन के कारण मजदूर परेशान था। उसके पास कुछ ही पैसे थे। उसने सोचा कि वह यहां रहेगा तो ये पैसे भी खर्च हो जाएंगे। इसलिए इन पैसों से उसने घर जाने कि लिए यह नई साइकिल करीब तीन हजार रुपये में खरीदी थी। मजदूर को बस से जाने पर साइकिल यहीं छोड़ जाने के लिए कह दिया गया था। बस इसी मजबूरी का फायदा उठाते हुए संग्रह अमीन ने मात्र दो सौ रुपये में तीन हजार रुपये में खरीदी गई नई साइकिल खरीद ली।

यह भी पढ़ें- किराएदार को जबरन मकान से निकालने की सूचना पर पहुंची पुलिस पर जानलेवा हमला, दो पुलिसकर्मी घायल

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned