आवाज खो चुके भाई की गवाही ने बहन के हत्यारे दरिंदों को दिलाई फांसी की सजा

Highlights
हत्यारों ने गैंगरेप ( gang rape ) के बाद बच्ची की हत्या ( murder after rape )
करके उसके छोटे भाई की गर्दन रेत दी थी जिससे छोटे भाई की आवाज चली गई थी। अब उसी छोटे भाई की निशब्द गवाही ने दिलाई दरिंदाें काे सजा।

By: shivmani tyagi

Updated: 16 Oct 2020, 03:07 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क, हापुड़। गैंगरेप के बाद 12 साल की बच्ची की बेरहमी से हत्या करने वाले दो दरिंदों को मृतक बच्ची के छोटे भाई की निशब्द गवाही ने फांसी की सजा दिलाई है। दोनों दरिंदों ने बच्ची की हत्या करने के बाद उसके छोटे भाई का भी गला रेत दिया था। इस घटना में छोटे भाई नितिन की जान तो बच गई थी लेकिन उसकी आवाज हमेशा-हमेशा के लिए चली गई थी। अब अदालत में दरिंदों को सामने देखकर नितिन ने निशब्द गवाही दी और दोनों दरिंदों को सजा दिलाई।

यह भी पढ़ें: पराली जलाने पर ग्राम प्रधानों के खिलाफ भी दर्ज होगी एफआईआर, जारी हुई गाइडलाइन

गैंगरेप के बाद बच्ची की हत्या कर दिए जाने की वारदात का नितिन इकलाैता चश्मदीद गवाह था। दरिदों ने नितिन का भी गला रेत दिया था जिससे हमेशा-हमेशा के लिए वह अपनी खाे बैठा था। ऐसे में आरोपियों को लग रहा था कि वह गवाही नहीं दे पाएगा लेकिन नितिन की निशब्द गवाही ने ही हत्यारों को फांसी की सजा दिलाई है। अदालत में नितिन ने कागज पर लिखकर दोनों की दरिंदगी की कहानी बताते हुए गवाही दी। वेस्ट यूपी के इतिहास में यह पहला मामला है जब किसी निशब्द की गवाही के आधार पर अदालत ने दोषियों को फांसी की सजा दी है।

यह भी पढ़ें: हल्दीराम पर बड़ा साइबर अटैक, हैकर्स ने कंपनी का डाटा चुराकर मांगी फिरौती

विशेष लोक अदालत अभियोजक हरेंद्र त्यागी ने बताया कि यह सजा हापुड़ अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश पोक्सो प्रथम की अदालत ( court ) से सुनाई गई है। न्यायाधीश वीणा नारायण ने गुरुवार को अपना फैसला सुनाया। इस फैसले में उन्होंने बच्ची से गैंगरेप के बाद उसकी बेरहमी से हत्या कर देने और छात्रा के छोटे भाई 10 वर्षीय नितिन का गला रेत देने के आरोप में सिद्ध होने पर अंकुर तेली और सोनू उर्फ पव्वा को फांसी की सजा सुनाई। अदालत का सिर्फ सजा ही नहीं रहा आराेप साबित नहीं हाेने पर इसी मामले के एक निर्दोंष आराेपी काे अदालत ने रिहा भी किया।

यह भी पढ़ें: Aligarh: मात्र 20 रुपए के लिए छोटे भाई ने कर दिया बड़े भाई का कत्ल

गैंगरेप के बाद हत्या की घटना के आरोप साबित हो जाने पर न्यायालय ने दोनों दोषियों को हत्या के प्रयास में आजीवन कारावास की सजा ( Court order ) सुनाते हुए दाेनाें पर दस-दस हजार रुपये आर्थिक दंड लगाया है। इसके अलावा गैंगरेप के बाद हत्या के मामले में दोनों को मृत्यु दंड की सजा सुनाई है। अदालत की ओर से सजा सुनाए जाने के बाद जहां आराेपियाें की मां बेहाेश हाे गई वहीं पीड़ित परिवार ने भी लंबी सांस ली।


यह था पूरा मामला
हापुड़ ( Hapur ) के थाना देहात क्षेत्र में 5 सितंबर 2018 की दोपहर 12 साल की एक बच्ची के साथ उसका आठ वर्षीय छोटा भाई स्कूल से घर पहुंचा था। इन बच्चों की मां दिल्ली गई हुई थी और पिता खेत पर काम कर रहे थे। घर के ही नौकरों ने मासूम बच्ची के साथ गैंगरेप कर उसकी गला दबाकर हत्या ( A girl murder after rape ) कर दी थी और शव को बोरे में बंद कर कर भूसे में दबा दिया। इसके बाद नितिन का गला रेत कर उसकी भी हत्या का प्रयास करते हुए अफवाह फैला दी थी कि घर में बदमाशों ने डकैती डाली है। इस पूरी वारदात का नितिन अकेला चश्मदीद गवाह था और उसी की निशब्द गवाही ने अब दरिंदों को सजा दिलाई है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned