नवमीं के छात्रों को बांट दिया 12 वीं का पेपर, दो शिक्षिकाएं निलंबित

बोर्ड का पेपर हुआ आउट, अब मिलेगा नया पर्चा, तय तारीख में ही होगा पेपर, नया पर्चा मिलेगा

By: sanjeev dubey

Published: 03 Mar 2019, 07:00 AM IST

हरदा. जिले के एक स्कूल में नवमीं के परीक्षार्थियों को बारहवीं कक्षा का अंग्रेजी का पेपर बांट दिया गया। इसका खुलासा होने से हरदा से लेकर भोपाल तक में हड़कंप मच गया। भोपाल से माध्यमिक शिक्षा मंडल की एक टीम जांच के लिए आई थी। कलेक्टर ने भी एसडीएम से जांच कराई। इसके बाद दो शिक्षिकाओं को निलंबित कर दिया गया। अब बारहवीं के परीक्षार्थियों के लिए नया पर्चा दिया जाएगा। पेपर भी तय तारीख नौ मार्च को ही होगा।
मामला दो दिन पूर्व अबगांवकला हाईस्कूल का है। स्कूल में नवमीं कक्षा की परीक्षा चल रही हैं। गुरुवार (28 फरवरी) को अंग्रेजी का प्रश्नपत्र था। हाईस्कूल अबगांव कला के परीक्षार्थियों को शिक्षकों ने कक्षा बारहवी का अंग्रेजी विषय का प्रश्नपत्र दे दिया। बच्चों ने जैसे-तैसे इसे हल भी किया और कॉपियां विधिवत जिला मुख्यालय पर जमा भी कर दी गई। इधर, अगले दिन शुक्रवार को केंद्राध्यक्ष जब कक्षा दसवीं के प्रश्नपत्र लेने थाने पहुंचीं तब उन्होंने कक्षा बारहवी के प्रश्नपत्र की पेटी का ताला खुला पाया। यह देखकर सकते में आई केंद्राध्यक्ष ने तत्काल इसकी सूचना जिला शिक्षा अधिकारी को दी। खबर है कि इसके बाद विभाग ने एक शिक्षिका को नवमी कक्षा के बच्चों के घर भेजकर प्रश्नपत्र वापस लेकर मामले को रफा-दफा करने के प्रयास शुरू कर दिए।

 

फिर बहाने से दोबारा परीक्षा के लिए बुलाया
स्कूल प्रबंधन ने मामले को दबाने के लिए नवमीं के छात्रों को शनिवार को प्रेक्टिकल बुक जमा करने के बहाने से दोबारा परीक्षा देने बुलाया गया। इसी दौरान भनक लगने पर मीडियाकर्मी पहुंच गए तो परीक्षा नहीं ली गई। छात्र संजय, विकास बैरागी, वंदना नरवरिया, लोमेश भल्लावी, रोशनी बागड़ी आदि पहले तो स्टाफ के भय से दोबारा परीक्षा देने आने की बात से मुकर गए, लेकिन बाद में कबूल किया कि उन्हें प्रश्नपत्र हल करने के लिए ही बुलाया गया था।

तय तारीख में ही होगा पेपर
कलेक्टर विश्वनाथन ने बताया कि परीक्षा केन्द्र उच्चतर माध्यमिक शाला अबगांव कला में कक्षा नवमीं की परीक्षा के दौरान विद्यार्थियों को कक्षा बारहवीं के अंग्रेजी सामान्य विषय के प्रश्न पत्र के वितरण के मामले में संबंधित परीक्षा केन्द्राध्यक्ष उच्चतर माध्यमिक शिक्षक आरती जाट और प्राथमिक शिक्षक आरती जोशी को निलंबित करने के आदेश जारी किए हैं। मामला संज्ञान में आने के बाद हरदा एसडीएम एचएस चौधरी को जांच के लिए पाबंद किया गया। उनकी रिपोर्ट के बाद शिक्षिकाआें पर कार्रवाई की गई। कक्षा बारहवीं के शेष सभी पेपर पुलिस अभिरक्षा में सुरक्षित हैं। भोपाल से माध्यमिक शिक्षा मंडल की टीम इस सिलसिले में विस्तृत जांच कर जा चुकी है। पूर्ववत टायमटेबल के मुताबिक 12 वीं कक्षा की परीक्षाएं संचालित होंगी। 9 मार्च को अंग्रेजी सामान्य विषय की परीक्षा होगी। गोपनीयता भंग होने के कारण मंडल द्वारा पुन: प्रश्नपत्र तैयार कर प्रेषित किए जा रहे हैं।

छोटी क्लास के बच्चों ने कैसे हल किया प्रश्नपत्र?
पूरे मामले में बड़ा सवाल यह भी है कि आखिर कक्षा नवमी के बच्चों ने कक्षा बारहवी के प्रश्नपत्र को कैसे हल कर दिया। प्रश्नपत्र बांटने तथा उत्तर पुस्तिका पर हस्ताक्षर करने के दौरान पर्यवेक्षकों ने भी इस बात पर ध्यान नहीं दिया की परीक्षार्थी किस प्रश्नपत्र के जवाब दे रहे हैं। इससे भी बढ़कर यह बात महत्वपूर्ण है कि छोटी क्लास के बच्चे प्रश्नपत्र को हल कैसे कर पाए। उन्हें आखिर तक समझ भी आया या नहीं कि प्रश्न किस कक्षा के हैं। इससे स्कूल की शिक्षण व्यवस्था पर भी सवालिया निशान लग रहा है।

डीईओ छिपाते रहे लापरवाही
जिला शिक्षा अधिकारी सीएस टैगोर से संपर्क के लिए मीडिया ने उनके मोबाइल पर कई बार कॉल लगाए, लेकिन उन्होंने रिसीव नहीं किए। शनिवार दोपहर में जब कार्यालय पहुंचकर उनसे मामले की अधिकृत जानकारी चाही गई तब भी वे बताने को तैयार नहीं हुए। दो दिन बाद भी किसी तरह की कार्रवाई नहीं होने के सवाल पर डीईओ ने सिर्फ इतना कहा कि कलेक्टर के निर्देश पर यह होगा। हालांकि तब तक कलेक्टर दो शिक्षिकाओं को निलंबित करने के आदेश जारी कर चुके थे।

sanjeev dubey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned