चौकड़ी समिति के 206 किसानों के खातों में 3.15 करोड़ का भुगतान किया

चना बेचने वाले पात्र 544 किसानों को होगा भुगतान
किसानों ने धरना आंदोलन किया स्थगित

By: gurudatt rajvaidya

Published: 11 Jul 2020, 08:03 AM IST

पत्रिका लगातार
खिरकिया. सेवा सहकारी समिति चौकड़ी में समर्थन मूल्य पर चना बेचने वाले पात्र ५४४ किसानों को भुगतान किया जाएगा। इसको लेकर विभाग द्वारा आदेश जारी करते हुए किसानों को भुगतान करने की बात कही है। जांच के चलते किसानों का भुगतान कई दिनों से अटका था। मामले को पत्रिका द्वारा प्रमुखता से उठाया जाते रहा। इसके बाद विभाग द्वारा किसानों को भुगतान करने की बात कही है। समिति को चना बेचने वाले 544 किसान भुगतान से वंचित है। करीब 25 हजार 310 क्विंटल चने का करोड़ों रुपए का भुगतान होना है। विभाग ने शुक्रवार से भुगतान करने की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी है। एआरसीएस अखिलेश चौहान ने बताया कि 206 किसानों के खातों में 3.15 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है।
चौकड़ी में स्थगित किया धरना आंदोलन-
चौकड़ी सेवा सहकारी समिति में चने खरीदी के घोटाले के चलते अटके भुगतान की मांग को लेकर किसानों द्वारा विगत तीन दिन से धरना आंदोलन किया जा रहा है। शुक्रवार दोपहर में मामले की जांच कर रहे नोडल अधिकारी सतीश सिटोके व राजेन्द्र पारे ने धरना स्थल पर पहुंचकर किसानों से चर्चा कर भुगतान किए जाने का आश्वासन दिया। अधिकारियों ने कहा कि किसानों के खातों में राशि डालना प्रारंभ कर दी है। इसके बाद किसानों ने धरना आंदोलन स्थगित कर दिया। किसान राजेश बाबल व शशिकांत हर्णे ने बताया कि सोमवार तक यदि सभी पात्र किसानों के उपज का भुगतान नहीं होता है तो भूख हड़ताल की जाएगी।
पिछले साल बेचे चने का भी नहीं हुआ भुगतान-
इस दौरान किसान कुलदीप सिसोदिया ने अपने पिछले साल के चने का भुगतान नहीं होने की बात कही। इस पर नोडल अधिकारी सतीश सिटोके ने चने विक्रय का बिल मंगाकर अपने पास रखते हुए 2 दिन में भुगतान की बात कही। किसानों की मांगों का समर्थन कर रहे कांग्रेस नेता हेमंत टाले व मोहन विश्नोई ने जांच अधिकारी से मामले की चर्चा की। उन्होंने कहा कि यदि सोमवार तक किसानों का भुगतान नहीं किया गया, तो वे भी किसानों के साथ आंदोलन में शामिल होंगे। इस दौरान कृषक परसराम विश्नोई, शैतानसिंह राजपूत, दशरथ पटेल, कमलसिंह राजपूत सारंगपुर, भारत सारन चौकड़ी, राम बेनिवाल, संतोष बेनिबाल, हीरालाल महाजन, भगवान माली चौकड़ी सहित बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned