चना बिक्री के फर्जी बिलों से 54 लाख रुपए लेने वाले 54 किसानों से होगी वसूली

- सहकारी समिति चौकड़ी में जिन 147 किसानों के फर्जी बिल बने उनके खिलाफ केस भी दर्ज होगा
- फर्जी बिल बनाकर 5200 क्विंटल की खरीदी का घोटाला हुआ था उजागर

By: gurudatt rajvaidya

Published: 20 Sep 2020, 08:02 AM IST

हरदा। जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शाखा खिरकिया से संबद्ध सहकारी समिति चौकड़ी द्वारा की गई चना खरीदी में शामिल उन 38 किसानों से अब वसूली की कार्रवाई होगी, जिनके खातों में 54 लाख रुपए जमा हुए थे। वहीं उन सभी 147 किसानों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई भी होगी जिनके नाम पर फर्जी बिल बने थे। सहकारिता विभाग द्वारा खिरकिया एसडीएम और छीपावड़ थाना को इस कार्रवाई के लिए लिखा गया है। हालांकि इस दिशा में कार्रवाई फिलहाल ठंडे बस्ते में है।
ज्ञात हो कि जिले के 22 हजार हेक्टेयर रकबे में बीते रबी सीजन में चना की बुवाई हुई थी। समर्थन मूल्य 4875 रुपए प्रति क्विंटल के भाव चना बेचने के लिए 9339 किसानों ने पंजीयन कराया था। जिले के 15 खरीदी केंद्रों पर 15 जून तक इनमें से 8186 किसानों से नागरिक आपूर्ति निगम के लिए ३३३१५.८३ मीट्रिक टन चना खरीदा गया। गोदाम में जमा होने से बची उपज को लेकर अधिकारियों ने पड़ताल की तो सामने आया था कि सहकारी समिति चौकड़ी द्वारा बड़ी मात्रा में चना गोदाम में जमा नहीं कराया गया। सहकारी बैंक के सुपरवाइजर की रिपोर्ट पर मुख्यालय से जांच के आदेश जारी होने के बाद नोडल अधिकारी ने 20 जून को इस मामले की शुरुआती जांच की थी। तब समिति के स्टाक में प्रथम दृष्टया 3611 क्विंटल की कमी सामने आई थी। फाइनल जांच रिपोर्ट में यह आंकड़ा 5183 क्विंटल पर पहुंच गया था। यानि 2 करोड़ 52 लाख 67 हजार 125 रुपए मूल्य के चना के फर्जी बिल बनाए गए थे।
घोटाला सामने आते ही रोका गया था भुगतान
सहकारी समिति चौकड़ी द्वारा ८५३ किसानों से करीब ३७००० क्विंटल चना खरीदा गया था। इसमें से २८९४४ क्विंटल जमा हुआ था। सहकारिता विभाग को 12 जून को खरीदी प्रक्रिया पर संशय हुआ था। तब तक ८०५६ क्विंटल परिवहन शेष था। इसके बाद भुगतान पर रोक लगा दी गई थी। तब तक 38 किसानों के खातों में करीब 54 लाख रुपए ट्रांसफर हो चुके थे।
एसडीएम करेंगे वसूली की कार्रवाई
इस मामले में समिति प्रबंधक द्वारा 147 किसानों के साथ मिलकर फर्जी बिल बनाने की बात जांच रिपोर्ट में आई है। सहकारिता विभाग द्वारा खिरकिया एसडीएम को समूचे मामले से अवगत कराते हुए पत्र लिखा गया है। इसमें 38 किसानों से 54 लाख रुपए वसूल करने का जिक्र है। वहीं 147 किसानों के खिलाफ कार्रवाई के लिए छीपावड़ थाने को लिखा गया है।
घोटाला उजागर होने के बाद से ही फरार है समिति प्रबंधक
चना खरीदी घोटाला उजागर होते ही समिति प्रबंधक दिनेश बघेल फरार हो गया था। उसके खिलाफ छीपावड़ थाना में भादंवि की धारा 420 व 406 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया था। लंबे समय बीतने के बाद भी बघेल की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। एक दिन पहले एसपी मनीष कुमार अग्रवाल ने आरोपी समिति प्रबंधक दिनेश बघेल पिता जगन्नाथ बघेल व उसके दोनों लड़के रोहित उर्फ बंटी बघेल एवं सुमित उर्फ गब्बर बघेल सभी निवासी पाहनहाट की गिरफ्तारी पर दो-दो हजार रुपए इनाम की घोषणा की है।
इनका कहना है
जिन किसानों के नाम मिले हैं उनके बयान दर्ज किए जा रहे हैं। उनसे दस्तावेज भी ले रहे हैं। विवेचना में जो सामने आएगा उस अनुसार कार्रवाई की जाएगी।
- ज्ञानू जायसवाल, टीआई, छीपावड़ थाना

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned