700 विवाह टले, अनुमति लेकर घर में हो सकी एक शादी

पहली बार अक्षय तृतिया पर जिले में विवाह समारोह की नहीं मिली अनुमति

हरदा. अक्षय तृतिया (आखातीज) पर जिले में होने वाली लगभग 700 शादियां टाल दी गईं। किसी भी विवाह समारोह का अनुमति नहीं मिली। सिर्फ एक परिवार को घर में ही शादी करने की मंजूरी दी गई थी। आठ परिजनों की मौजूदगी में वर-वधु ने सात फेरे लिए गए। इसी तरह गुप्तेश्वर मंदिर चारूवा में भी एक विवाह संपन्न हुआ। इस दौरान लॉकडाउन की शर्तों का पूरी तरह पालन किया गया।
अनुमति लेकर की शादी
जिले में समीप के कोलवा गांव में अक्षय तृतीया पर विवाह संपन्न हुआ। भुन्नास के राकेश पिता रामभरोस सिरोही (23) कोलवा की मंजू पिता धन्नालाल बोराणा (19) के साथ परिणय बंधन में बंधे। मंजू के चाचा ओम बोराणा ने बताया कि एसडीएम से विवाह की अनुमति ली गई थी। दोनों पक्षों के आठ लोगों की उपस्थिति में घर में ही आयोजन हुआ। इस दौरान लॉकडाउन के नियमों का पालन किया गया। खबर है कि रविवार को गुप्तेश्वर मंदिर चारूवा में भी इसी तरह एक विवाह संपन्न हुआ।

न बैंडबाजे थे न बाराती
अक्षय तृतीया (आखातीज) शादियों का अबूझ मुहूर्त होता है। हर वर्ष इस दिन बैंडबाजों की आवाजें आती हैं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। बैंड पार्टियों के लोग पूरे दिन अपने घरों में फुर्सत में बैठे रहे।
लॉकडाउन के दौरान प्रशासन द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बरती जा रही सख्ती के कारण विवाह समारोह नहीं हो सके। कई परिवारों ने लॉकडाउन लगते ही इन्हें टाल दिया था। बताया जाता है कि जिले में विभिन्न समाजों द्वारा आज के दिन आयोजित किए जाने वाले सामूहिक विवाह सम्मेलनों में 700 युगल दांपत्य सूत्र में बंधने वाले थे, लेकिन यह आयोजन भी टाल दिए गए। कलेक्टर अनुराग वर्मा के मुताबिक उनकी ओर से किसी भी विवाह समारोह की अनुमति नहीं दी गई। जिन्होंने विवाह किए वे आयोजन घरों में हुए होंगे। इधर, अबूझ मुहुर्त में व्यापक पैमाने पर आयोजित समारोह स्थगित होने से बाल विवाह संंबंधी खबरें सामने नहीं आई। इससे प्रशासन ने भी राहत मेहसूस की।
परशुराम जयंती उत्सव मनाया
सर्वब्राह्मण समाज द्वारा रविवार को बड़ा मंदिर में परशुराम जयंती उत्सव मनाया गया। इस मौके पर भगवान परशुराम का अभिषेक, पूजन, हवन व महाआरती की गई। दोपहर मेंं समाज के सदस्य शांति जैसानी के निवास पर आरती के बाद कन्या भोजन हुआ। शाम को गुर्जर छात्रावास परिसर में महाआरती की गई। 51 बिप्र परिवारों को खाद्यान्न सामग्री वितरित की गई। शाम को समाज के लोगों ने दीपमाला सजाकर विश्व कल्याण की कामना की। कार्यक्रम में अध्यक्ष राजेश पाराशर, महामंत्री सुनील तिवारी, चंद्रकांत शुक्ला, मनोहरलाल शर्मा, लक्ष्मीकांत दुबे आदि मौजूद रहे।

Show More
बृजेश चौकसे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned