अजीब हैं यहां के बच्चे, कभी नहीं देते यह सरल परीक्षा, जानिए क्या है वजह

नहीं देते यह सरल परीक्षा

By: बृजेश चौकसे

Published: 19 Jan 2019, 10:01 PM IST

हरदा. माध्यमिक शालाओं के बच्चों के लिये हिंदी ओलंपियाड परीक्षा का आयोजन 20 जनवरी को किया जाएगा। इसके लिए खिरकिया विकासखंड मुख्यालय पर दो परीक्षा केंद्र बनाये गए हैं। रविवार को होनेवाली इस परीक्षा में ज्यादातर विद्यार्थी रुचि नहीं लेते। उनके गांवों से केंद्रों की दूरी के चलते कई बच्चे यह परीक्षा नहीं दे पाते हंै। वहीं पालक भी इसमें रुचि नहीं दिखाते हैं।


विद्यार्थियों और पालकों के अनुसार विकासखण्ड में एक केंद्र सिराली तहसील में भी बनाया जा सकता था जहाँ पर सिराली तहसील के बच्चों की परीक्षा ली जा सकती थी। खिरकिया में ही 2 केंद्र बना दिये जाने के कारण बच्चों को कई किमी की दूरी तय खिरकिया आना होगा जिससे उनका समय व धन खर्च होगा। पिछले सालों में भी केंन्द्रों की दूरी के चलते बच्चों की उपस्थिति भी कम रहती है।
न प्रोत्साहन राशि न प्रमाण पत्र
हिंदी ओलंपियाड परीक्षा में शामिल होने वाले बच्चों को किसी प्रकार की प्रोत्साहन राशि या छात्रवृति नहीं दी जाती है, न ही प्रमाण पत्र दिए जाते है। परीक्षा में उत्कृष्ट रहने वाले बच्चों को दूसरे चरण में पहुंचने पर प्रमाण पत्र दिए जाने की बात तो कही जाती है, लेकिन विगत वर्ष शामिल हुए बच्चों को अब तक वह भी नहीं मिले। विभाग द्वारा दबाब बनाकर शिक्षकों के माध्यम से परीक्षा के लिए बच्चों के पंजीयन परीक्षा के लिए कर लिए जाते हैं, लेकिन परीक्षा के लिए कोई प्रोत्साहन नहीं मिलने पर बच्चे परीक्षा देने व पालक परीक्षा दिलाने में रुचि नहीं लेते हैं।

इनका कहना है
वरिष्ठ कार्यालय से प्राप्त निर्देशों का पालन किया गया है। प्रमानपत्र के संदर्भ में वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की जायेगी।
आरएस तिवारी, डीपीसी हरदा

बृजेश चौकसे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned