scriptCompulsion to drink dirty water before summer | गर्मी से पहले पानी की परीक्षा : नाले के पानी से प्यास बुझाने मजबूर हुए लोग | Patrika News

गर्मी से पहले पानी की परीक्षा : नाले के पानी से प्यास बुझाने मजबूर हुए लोग

एमपी के कुछ गांव ऐसे भी हैं, जहां ग्रामीणों को पेयजल के लिए लंबी दूरी तय करने के बाद भी साफ पानी नहीं मिल रहा है। ऐसे ही हालात हरदा जिले के सिराली क्षेत्र में भी नजर आए।

हरदा

Published: March 04, 2022 12:09:46 pm

हरदा/सिराली. गर्मी की दस्तक के साथ ही पेयजल संकट गहराने लगा है, हालात ये हैं कि लोगों को अभी से पानी के लिए मश्क्कत करनी पड़ रही है, एमपी के कुछ गांव ऐसे भी हैं, जहां ग्रामीणों को पेयजल के लिए लंबी दूरी तय करने के बाद भी साफ पानी नहीं मिल रहा है। ऐसे ही हालात हरदा जिले के सिराली क्षेत्र में भी नजर आए।
गर्मी से पहले पानी की परीक्षा : नाले के पानी से प्यास बुझाने मजबूर हुए लोग
गर्मी से पहले पानी की परीक्षा : नाले के पानी से प्यास बुझाने मजबूर हुए लोग
तहसील मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर बसा गांव झपनादेह। ग्राम पंचायत पटलदा के इस गांव की जनसंख्या 800 है। यहां गर्मी की दस्तक के साथ ही ग्रामीणों को पेयजल की परेशानी भी होने लगी है। लोगों ने जनप्रतिनिधियों, सरपंच, सचिव को इससे अवगत कराया, लेकिन अब तक समस्या का समाधान नहीं हो सका। इस कारण गांव के लोग नाले का गंदा पीकर अपना जीवन यापन कर रहे हैं।
स्कूल में भी नहीं है पेयजल की व्यवस्था
शासकीय प्राथमिक शाला सपना के प्रधान पाठक अमृत यादव ने बताया कि शाला में 42 बच्चे हैं। जिनको समय पर मध्यान भोजन भी दिया जाता है। लेकिन स्कूल में पेयजल की व्यवस्था नहीं है। जिस कारण बच्चे घर जाकर पानी पीते हैं। ऐसे में कई बार बच्चे लेट भी हो जाते हैं।
गर्मी से पहले पानी की परीक्षा : नाले के पानी से प्यास बुझाने मजबूर हुए लोगजिले की अंतिम सीमा पर बसा है गांव, प्रशासन नहीं दे रहा ध्यान

शासन ने ग्रामीणों को स्वच्छ पानी देने जल जीवन मिशन योजना के तहत घर-घर पानी देने व्यवस्था की है। यह योजना कागजों में सिमटी नजर आ रही है। योजना के तहत जिले में ग्रामीण क्षेत्र में करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद भी आज ग्रामीण प्यासे हैं। ग्राम झपनादेह में जल जीवन मिशन की कोई योजना नहीं बनी ना ही इस योजना से पंचायत के सरपंच सचिव ने जोडऩे का प्रयास किया। जिससे ग्रामीणों को साफ एवं स्वच्छ पानी मिल सके। यह गांव जिले की अंतिम सीमा पर होने के बाद भी शासन प्रशासन के नुमाइंदे इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।
यह भी पढ़ें : यूक्रेन की सस्ती पढ़ाई का खुलासा-जानिये डॉक्टर बनने के बाद क्या होता है स्टूडेंट का भविष्य

ग्राम झपनादेह में पानी की समस्या है तो तुरंत टीम भेजकर ग्रामीणों के लिए पानी की व्यवस्था की जाएगी।
-एसके पंवार, ईई पीएचई

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.