बीस हजार उधारी के एक लाख वसूलने दबाव बनाया, कर्जदार ने आत्महत्या की, केस दर्ज

- पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां से जेल भेजने के आदेश हुए

By: gurudatt rajvaidya

Published: 04 Jul 2020, 08:03 AM IST

हरदा। बीस हजार रुपए कर्ज के एक लाख रुपए वसूलने के दबाव में आया एक युवक इतना परेशान हो गया कि उसने आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच की तो सामने आया कि देनदारों ने वसूली के लिए उसे खासा प्रताडि़त किया था। तंग आकर उसने जहर खा लिया था। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेजा गया। शहर कोतवाली के एएसआई अजय रघुवंशी ने बताया कि वेदप्रकाश शर्मा निवासी भाटपरेटिया ने राकेश कौशल निवासी कुलहरदा से 20 हजार रुपए उधार लिए थे। इसके एवज में वह एक लाख रुपए की मांग कर रहा था। वह अपने दोस्त विनय यादव के साथ मिलकर लगातार वेदप्रकाश को प्रताडि़त कर रहा था। वे उसके घर पहुंचकर परिजनों को धमका भी रहा था। गांव वालों ने उन्हें समझाया कि वेदप्रकाश पैसे देने की स्थिति में नहीं हैं, लेकिन वे वसूली की जिद पर अड़े रहे। एएसआई रघुवंशी ने बताया कि मृतक वेदप्रकाश इतना डर गया था कि चार दिन घर में ही कैद रहा। पांचवें दिन 16 जून को वेदप्रकाश ने सल्फास खाकर अपने भाई जयप्रकाश शर्मा को वाट्सएप पर मैसेज किया कि उसने राकेश कौशन और विनय यादव द्वारा दी जा रही मानसिक प्रताडऩा से तंग आकर जहर खा लिया है। यह सूचना मिलते ही परिजनों ने दरवाजा तोड़कर देखा तो वेदप्रकाश शर्मा बेहाल पड़ा था। वे उसे जिला अस्पताल लेकर गए। रास्ते में भी वह कहता रहा कि राकेश की दुकान तरफ से लेकर नहीं जाना, वरना वह मारेगा। इलाज के दौरान वेदप्रकाश की मौत हो गई। पुलिस ने मर्ग जांच कर परिजनों के बयान लिए थे। इसके बाद आरोपी राकेश और विनय के खिलाफ भादंवि की धारा 306 (आत्महत्या के लिए प्रेरित करने) के तहत प्र्रकरण दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया। शुक्रवार को आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेजने के आदेश हुए।

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned