अश्विास जताने वाले 18 में से एक भी जपं सदस्य नहीं पहुंचा सम्मेलन में

अश्विास जताने वाले 18 में से एक भी जपं सदस्य नहीं पहुंचा सम्मेलन में

Sandeep Nayak | Publish: Mar, 14 2018 02:05:22 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

जपं अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर होना थी चर्चा और मतदान

टिमरनी. जनपद पंचायत अध्यक्ष निधि राजपूत की कार्यप्रणाली से असंतुष्ट जिन 18 सदस्यों ने अविश्वास जताया था वे मंगलवार को आयोजित विशेष सम्मेलन में उपस्थित ही नहीं हुए। अधिकारी दो घंटे बैठे रहे। यानी जपं राजपूत अपने पद पर बनीं रहेंगी। भाजपा समर्थित सदस्यों की सम्मेलन में गैरमौजूदगी को संगठन की जीत बताया जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि जपं उपाध्यक्ष सहित 18 सदस्यों ने 27 फरवरी को अध्यक्ष पर अविश्वास जताते हुए कलेक्टर को आवेदन दिया था। कलेक्टर के निर्देश पर मंगलवार को सम्मेलन आयोजित कर प्रस्ताव पर चर्चा व मतदान होना था, लेकिन अविश्वास जताने वालों सहित एक भी सदस्य नहीं पहुंचा। एसडीएम पीके पांडे, सीईओ रंजीत सिंह ताराम व पंचायत इंस्पेक्टर एलएल बिल्लौरे दोपहर 1 से तीन बजे तक उनका इंतजार करते रहे। इस दौरान मतदान की व्यवस्था भी की गई थी। सुरक्षा के मद्देनजर परिसर पुलिस बल तैनात रहा।

विधायक निवास पर मौजूद रहे सदस्य
सूत्रों के अनुसार कांग्रेस समर्थित सदस्य सावित्री सोलंकी को छोड़कर भाजपा समर्थित सभी 24 सदस्य तवा कॉलोनी में स्थित विधायक निवास पर मौजूद रहे। इसके पहले संगठन की ओर से उन्हें समझाने के प्रयास चलते रहे। अध्यक्ष एवं उनके पति विधायक प्रतिनिधि बद्रीनारायण राजपूत से कुछ सदस्यों की नाराजगी झलकी। इस दौरान विधायक प्रतिनिधि राजपूत को इस पद से हटाने एवं जपं की समितियां बदलने की मांग की गई। भाजपा मंडल अध्यक्ष कैलाष डूडी व मंडल अध्यक्ष रहटगांव राधेश्याम गौर ने बताया कि नाराज सदस्यों की समस्या जपं अध्यक्ष द्वारा हल नहीं किए जाने पर संगठन स्तर पर चर्चा कर इसका निराकरण करने का आश्वासन दिया गया।

कमराबंद बैठकों का दौर चला
नाराज सदस्यों को मनाने के भाजपा की कमराबंद बैठकों का दौर भी चला। अविश्वास प्रस्ताव को गिराने के लिए संगठन के नेता दो दिन इस काम में जुटे थे। भाजपा जिला अध्यक्ष अमरसिंह मीणा सुबह ही विधायक निवास पहुंच गए। यहां उन्होंने सभी सदस्यों को बुलाकर चर्चा करते हुए पार्टी गाइडलाइन का पालन करने को कहा। सदस्यों ने भी जिला अध्यक्ष व भाजपा पदाधिकारियों के सामने जपं अध्यक्ष के पति की कार्यप्रणाली को लेकर जमकर आक्रोश प्रकट किया। इस दौरान कार्यकर्ताओं की आपस में तीखी बहस भी हुई। भाजपा ने फिलहाल विरोध की इस चिंगारी को दबा दिया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned