गर्मी के पहले बिजली कंपनी ने नही किया मेंटनेंस, लोड बढऩे से बिगड़ेगी बिजली सप्लाई

-बिजली कंपनी ने नहीं बनाई मेंटनेंस की योजना
-गर्मी में उपभोक्ताओं को झेलना पड़ेगी परेशानी

By: Rahul Saran

Published: 18 Feb 2020, 08:16 PM IST

खिरकिया। गर्मी की आहट प्रारंभ हो चुकी है ऐसे में नगर सहित आसपास के क्षेत्र में बिजली खपत बढऩा शुरू होने वाली है लेकिन बिजली विभाग द्वारा अभी तक गर्मी के पहले का कोई भी आवश्यकत मेंटनेंस नहीं किया है। बिजली विभाग की यह सुस्ती गर्मी में बिजली उपकरणों में तकनीकि खामी का कारण बनेगी जिससे होने वाले बिजली फॉल्टों से आम उपभोक्ताओं की फजीहतें होंगी। बिजली कंपनी भले ही अपनी तैयारी होने के दावे करे मगर कड़वी हकीकत यह है कि कंपनी के पास अभी तक इसको लेकर कोई योजना नहीं है।
--------------
सब स्टेशन से जुड़े हैं 15 वार्ड
खिरकिया एवं छीपाबड़ स्थित सब स्टेशनों के माध्यम से नगरीय क्षेत्र के 15 वार्डों एवं आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली सप्लाई की जाती है। पिछले साल भी ग्रीष्मकाल में उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ा था। कई गांवों के फीडर भी स्थानीय सब स्टेशन से जुड़े हुए हंै। इतना बड़ा क्षेत्र जुड़ा होने के बावजूद बिजली कंपनी ने गर्मी के पहले का जरुरी मेंटनेंस नहीं किया है जिसके दुष्परिणाम
उपभोक्ताओं को उठाना होंगे।
-----------------
खपत बढऩे से उपकरणों पर बढ़ेगा लोड
गर्मी के दिनों में बिजली की खपत अधिक होने से फॉल्ट, ट्रिपिंग, लोडिंग जैसी समस्याएं बढ़ जाती हंै। जिसका प्रमुख कारण उपकरणों का मेंटनेंस नहीं होना होता है जबकि गर्मी में नागरिकों को सतत बिजली सप्लाई की आवश्यकता होती है। यह सब मालूम होने के बावजूद अब तक मेंटनेंस नहीं हुआ है। गर्मी में घरों में कूलर और एसी के चलने एवं वैवाहिक कार्यक्रमों के चलते बिजली की डिमांड बढऩा तय है मगर कंपनी इसे गंभीरता से नहीं ले रही है। ग्रीष्मकाल के दौरान कोई असुविधाओं से बचने बिजली कंपनी ने कोई होमवर्क नहीं किया है।
---------------------
ग्रामीण क्षेत्रों हालत खराब
नगर के अतिरिक्त ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की स्थिति ठीक नहीं है। कई गांवों में ट्रांसफॉर्मर बंद पड़े हुए हंै। ग्राम पोखरनी में पिछले 5 दिन से ट्रांसफॉर्मर बंद है जिससे लोगों को बिजली नहीं मिल पा रही है। इसी तरह से अन्य ग्रामों में भी यही स्थिति बनी हुई है। ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली सप्लाई के तार भी व्यवस्थित नहीं है। गेहूं की कटाई भी होना है ऐसी स्थिति में तार टूटने व स्पार्किंग से आगजनी की संभावना भी बनी रहेगी।
-----------------
नहीं लगता फोन, परेशान होते हैं ग्रामीण
नागरिकों की बिजली संबंधी समस्याओं एवं उनकी शिकायत के लिए कंपनी का शासकीय टेलीफोन नंबर हमेशा बंद रहता है। उपभोक्ता बिजली समस्या दर्ज कराने फोन लगाते रहते हैं मगर फोन नहीं उठाया जाता है। जिससे लोगों को मजबूरन बिजली कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ते हैं। कंपनी के अधिकारियों का ध्यान भी इस सुविधा की तरफ नहीं है।
---------------
इनका कहना है
मेंटनेंस के लिए वरिष्ठ अधिकारियों से मार्गदर्शन मांगा गया है। वहां से अब तक कोई गाइड लाइन नहीं आई है। जैसे ही मार्गदर्शन प्राप्त होगा तो बिजली मेंटनेंस का काम कराया जाएगा।
सौरभ शर्मा, एई बिजली कंपनी

Rahul Saran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned