यूरिया की किल्लत: 12 घंटे इंतजार के बाद केवल एक बोरी खाद

जिले में यूरिया की किल्लत बरकरार है। किसानों को मांग अनुरूप इसकी आपूर्ति नहीं हो रही है। वे सुबह से केंद्रों पर पहुंच जाते हैं, लेकिन शाम होने तक एक बोरी खाद तक नहीं मिलता।

हरदा। जिले में यूरिया की किल्लत बरकरार है। किसानों को मांग अनुरूप इसकी आपूर्ति नहीं हो रही है। वे सुबह से केंद्रों पर पहुंच जाते हैं, लेकिन शाम होने तक एक बोरी खाद तक नहीं मिलता। मंगलवार को भी जिला मुख्यालय के दि किसान विपणन संस्था केंद्र पर किसानों की खासी भीड़ उमड़ी। यहीं स्थिति अन्य केंद्रों पर भी बताई जा रही है। उल्लेखनीय है कि जिले को मिली पिछली दो रैक से सहकारी समितियों को कम मात्रा में खाद दिया गया। इसके उलट समितियों में किसानों की संख्या और उनकी मांग कहीं अधिक है।

पहले रकबे अनुसार खाद वितरण
किसानों का कहना है कि पहले रकबे अनुसार खाद वितरण हो रहा था, लेकिन इस बार ऋण पुस्तिका यानि खातावार एक बोरी खाद दिया जा रहा है। इस स्थिति में 10 एकड़ के दो खाते वाले किसान को दो बोरी तथा इतने की रकबे के एक खाते वाले किसान को एक बोरी खाद दिया जा रहा है। वितरण की यह विसंगति किसानों के लिए परेशानी का कारण बन गई है। गेहूं में पहला पानी छोडऩे के इंतजार में बैठे किसानों को उत्पादन प्रभावित होने की आशंका है।

जहां पहले बोवनी वहां प्राथमिकता से मिले यूरिया
जिले में यूरिया के किल्लत को लेकर आम किसान यूनियन के संजय खेरवा व राम इनानिया ने मंगलवार को कलेक्टर एस. विश्वनाथन व एसडीएम एचएस चौधरी से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने बताया कि जिन क्षेत्रों में नहर संचालन शुरू होते ही पलेबा तथा बोवनी हो चुकी वहां गेहूं फसल में पहला पानी देना जरूरी हो गया है। इस दौरान यूरिया का छिड़काव भी आवश्यक है। पदाधिकारियों ने सुझाव दिया कि इन क्षेत्रों के किसानों के बारे में जल संसाधन विभाग से जानकारी जुटाकर प्राथमिकता से यूरिया वितरण कराया जाए। ऐसा होने से केंद्रों पर खाद के लिए मची मारामारी कम होने की संभावना है। क्योंकि जिन किसानों को जरुरत है वे ही केंद्र पर पहुंचेंगे। इस दौरान उन्होंने प्रशासन को बताया कि पहली सिंचाई के बाद पानी देना तकनीकी रूप से संभव भी नहीं है। यूरिया के अभाव में पहला पानी छोड़ा गया तो उत्पादन पर असर पड़ेगा।

खाद वितरण की विसंगति को लेकर प्रभारी मंत्री से चर्चा की जिलाध्यक्ष ने
हरदा. जिला कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण पंवार ने मंगलवार को प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा से मुलाकात कर जिले में यूरिया वितरण की विसंगति को लेकर चर्चा की। उन्होंने मंत्री से नहर से सिंचित क्षेत्रों में 15 दिवसीय बिजली आपूर्ति शिफ्ट को बदलकर साप्ताहिक करने की मांग की। पंवार ने बताया कि प्रभारी मंत्री ने किसानों की समस्याओं पर संबंधित विभागों से चर्चा कर सुधार के निर्देश दिए। उन्होंने तीन दिन में व्यवस्था में सुधार का आश्वासन दिया।

poonam soni
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned