कोरोना से लडऩे आयुर्वेद को बनाया कारगार

साइलेंट हीरो- महिला आयुर्वेद चिकित्सक निभा रही महत्वपूर्ण भूमिका

By: gurudatt rajvaidya

Published: 10 May 2020, 08:02 AM IST

खिरकिया. कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए आयुर्वेद विज्ञान को सशक्त माना जा रहा है। यही कारण है कि शासन द्वारा आरोग्य सेतु ऐप के माध्यम से प्रेरित कर त्रिकुट काढ़े सहित आयुर्वेद औषधियों का वितरण किया जा रहा है। इस व्यवस्था में आयुर्वेद चिकित्सक साइलेंट हीरो की भूमिका निभा रहे है। जो न लोगों को आयुर्वेद के माध्यम से कोरोना से बचने की सलाह देेने के साथ ही घर-घर पहुंचकर लोगों को आयुर्वेदिक औधधि व काढ़े का वितरण कर रहे हैं। तहसील में आयुर्वेद चिकित्साधिकारी डॉ. कामिनी नागराज कोरोना संक्रमण काल के दौरान आयुर्वेद के प्रति जागरूक करने व औधधियों का सेवन कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रही हैं। डॉ. कामिनी छोटे से गांव पड़वा औषधालय में पदस्थ है, लेकिन वर्तमान में समूचे तहसील के गांवों में घर घर पहुंचकर लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय व आयुर्वेद औषधियों व उनके सेवन के तरीके बता रही हैं।
डॉ. कामिनी ने बताया कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर काफी हद तक कोरोना के खतरे को टाला जा सकता है। त्रिकुट चूर्ण में एंटी वायरल गुण भी है, जो अत्यधिक सर्दी, जुकाम, छाती में अकडऩ, शरीद में दर्द, गले की सूजन तथा सूखे कफ की अवस्था में अत्यधिक प्रभावी है। कोरोना के संक्रमण के प्रारंभिक स्थिति में औषधि का काढ़ा पीने से काफी लाभ मिलता है। साथ ही खून में कोलेस्ट्रोल की मात्रा भी कम करता है। मेटाबोलिक क्रिया को बढ़ाती है, शरीर में विषैले तत्वों को शुद्ध करती है। नागरिकों को काढ़े का सेवन करना चाहिए।

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned