भूतों का मेला - जैसे ही मंत्र बुदबुदाए, निकल भागा भूत

निकल भागा भूत

By: बृजेश चौकसे

Published: 04 Apr 2019, 10:09 AM IST

हंडिया
बुधवार को नर्मदा तटों पर अनोखा नजारा दिखाई दिया। कहीं कोई सांकल में जकड़ा दिखाई दे रहा था तो कहीं किसी पर दनादन मुक्के बरसाए जा रहे थे। पडि़हार मंत्र बुदबुदा रहे थे तो कोई अपनी जीभ पर नींबू रखकर चाकू से काटकर खड़ा हुआ था। यहां जगह-जगह चीख-पुकार गूंज रही थी।

छोटी भूतड़ी पर तांत्रिक क्रियाओं की मची धूम

छोटी भूतड़ी के मौके पर ये क्रियाएं कथित तौर पर भूत भगाने के लिए की जा रहीं थीं। इसी के साथ छोटी भूतड़ी अमावस्या के मौके पर लगनेवाले मेले का शुभारंभ हो गया। यह मेला अभी दो दिन और चलेगा।

छोटी भूतड़ी के लिए मंगलवार देर रात को ही संैकड़ों दो पहिया, चार पहिया वाहनों से हजारों लोग नर्मदा स्नान करने आने लगे थे। प्रदेश के विभिन्न जिलों से नर्मदा भक्तों के आने का क्रम शुरू हो गया था और सुबह से नर्मदा तट पर इन भक्तों ने पुण्य सलिला नर्मदा में डुबकी लगाना शुरू कर दिया। इस दौरान नर्मदा तट पर जगह-जगह देव बाबाओं की क्यारी भूतों की मान उतारने का क्रम दिखाई पड़ा।

किसी को जंजीरों से जकड़ा तो कोई जोरों से चीखता दिखा

यह क्रम गुरुवार को चौदस के दिन और शुक्रवार को अमावस्या पर भी जारी रहेगा। यहां रतलाम, धार, उज्जैन, मंदसौर, खरगोन आदि जिले से बड़ी संख्या में श्रद्धालु नर्मदा स्नान करने आए हैं। बताया जाता है कि इस दौरान ये श्रद्धालु 7 घाटों पर नर्मदा स्नान कर देव बाबा का पूजन करते हैं।

इतने बड़े मौके पर भी प्रशासनिक व्यवस्थाएं लचर दिखीं। घाटों पर गंदगी व कचरा दिखाई पड़ा। प्रकाश व्यवस्था एवं पेयजल की व्यवस्था भी नहीं की गई। श्रद्धालुओं को पार्किंग के लिए खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। यहां रतलाम, धार, उज्जैन, मंदसौर, खरगोन आदि जिले से बड़ी संख्या में श्रद्धालु नर्मदा स्नान करने आए। गुरुवार को चौदस के दिन और शुक्रवार को अमावस्या पर भी यह क्रम जारी रहेगा।

बृजेश चौकसे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned