scriptharda the father has mortgaged the son for 30 thousand rupees Troubled | हालात ऐसे कि पिता ने ही बेटे को 30 हजार रुपए में रखा गिरवी | Patrika News

हालात ऐसे कि पिता ने ही बेटे को 30 हजार रुपए में रखा गिरवी

locationहरदाPublished: Aug 27, 2022 06:55:45 pm

Submitted by:

Hitendra Sharma

आर्थिक तंगी से परेशान होकर भेड़-बकरियां चराने वाले को दे दिया बेटा

harda_the_father_has_mortgaged_the_son_for_30_thousand_rupees_troubled_by_financial_constraints.jpg

हरदा. समाज के अतिं छोर तक विकास का दावा करने वाले सरकारी हुक्मरान के लिए ये खबर आंख खोलने वाली है। चुनावी वादों से लेकर सदन में चीख चीख कर विकास के कसीदे पढ़ने वाले जिम्मेदार आख खोलकर देख लो कि मध्य प्रदेश में एक व्यक्ति के हालात इतने खराब हो गए कि उसे अपना बेटा गिरवी रखना पड़ा।

कहा जाता है कि दुनिया में सबसे प्यारी चीज औलाद होती है और हर आदमी अपने बच्चों के लिए किसी बी हद तक चला जाता है पर अगर किसी पिता ने अपने बेटे को ही गिरवी रख दिया हो तो आप उसकी परेशानियों का अंदाजा भी नहीं लगा सकते कि वह किस मुश्किलों से गुजर रहा होगा।

जी हां खरगोन निवासी एक बालक को उसके पिता ने 30 हजार रुपए में भेड़, बकरियां चराने वालों के पास गिरवी रख दिया था। शुक्रवार को सिनर्जी संस्थान की चाइल्ड लाइन टीम ने पुलिस की सहायता से बालक को छुड़ाया। चाइल्ड लाइन समन्वयक रविराज राजपूत ने बताया कि पूछताछ में बालक ने बताया कि वह खरगोन जिले का है।

पिता ने 30 हजार रुपए में एक साल के लिए गिरवी रखा था। वह 6 महीने से भेड़, बकरियां चरा रहा था। पिता मजदूरी करते हैं। आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण उसे यहां भेड़, बकरियां चराने भेज दिया है।

बालक ने बताया कि उसके पिता राखी के दिन उससे मिलने आए थे। बालक ने घर जाने को बोला, लेकिन पिता ने बोला कि वह उसे दीपावली पर लेने आएंगे। बालक सुबह से शाम वह भेड़, बकरियां, ऊंट चराने का काम करता है। रात में इन जानवरों की रखवाली भी करता है।

चाइल्ड लाइन टीम सदस्य आशीष जोशी, जय मोहे ने बालक को सिविल लाइन थाना लेकर गए। जहां सिविल लाइन थाना से पुलिस अधिकारी ने बालक का सरकारी अस्पताल में स्वास्थ्य परीक्षण कराया। इसके बाद उसे चाइल्ड लाइन के सुपुर्द किया।

चाइल्ड टीम ने बालक के माता-पिता से संपर्क किया। टीम सदस्य आशीष व दिव्या राजपूत ने बालक और उसके माता-पिता को बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया। बाल कल्याण समिति से दीपा टांक, राजेश खोदरे ने बालक के माता-पिता को समझाइश दी गई। जहां बालक के माता-पिता बच्चे को अपने साथ ले गए।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

श्रद्धा मर्डर केस : FSL दफ्तर के बाहर आफताब की वैन पर तलवार से हमला, 4-5 लोगों ने बनाया निशानागुजरात चुनाव: अरविंद केजरीवाल पर पथराव, सूरत में रोड शो के दौरान मचा हड़कंप'सद्दाम' जैसा लुक पर हिमंता बिस्व सरमा की सफाई, कहा- दाढ़ी हटा लें तो 'नेहरू' जैसे दिखेंगे राहुलदिल्ली में श्रद्धा मर्डर जैसा एक और केस, शव के टुकड़े कर फ्रिज में रखा, मां-बेटा गिरफ्तारपायलट और गहलोत की कलह से भारत जोड़ो यात्रा पर नहीं पड़ेगा फर्क : राहुल गांधीCM भूपेश बघेल बोले- बलात्कारी को बचाने में लगी हुई है भाजपा, ED-IT को लेकर कही ये बातऋतुराज गायकवाड़ ने एक ओवर में 7 छक्के जड़कर बनाया विश्व रिकॉर्ड, युवराज को भी छोड़ा पीछेगुजरात चुनाव में 'आप' को झटका, वसंत खेतानी भाजपा में शामिल केजरीवाल निराशा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.