गांवों की किराना दुकानों में नहीं मिल रहा जरूरी सामान

दुकानदार सामान खरीदने नहीं जा पा रहे हरदा

मसनगांव. कोरोना वायरस से बचाव के लिए शासन द्वारा लॉकडाउन करने के बाद जिला प्रशासन द्वारा शहरी क्षेत्र में सुबह 10 बजे से दोपहर ३ बजे तक किराना दुकानें खोलने की छूट दी गई है। लेकिन ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिए कोई सुविधा मुहैया नहीं कराई गई है। इससे ग्रामीण क्षेत्र के छोटे व्यापारियों के पास सामान का टोटा बना है। छोटे व्यापारियों को शहर में जाने से रोका जा रहा है। इससे आने वाले समय में ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं को खाने पीने की चीजों के लिए तरसना पड़ सकता है। गांव के दुकानदारों ने प्रशासन से मांग की है कि उन्हें हरदा से खरीदी करने की छूट दी जाए। लॉकडाउन करने की घोषणा के पश्चात किराना दुकानों पर सामान लेने के लिए ग्राहकों की भीड़ बढ़ गई। सुबह से ही ग्राहक सामान जुटाने की व्यवस्था में लगे रहे। इसके बाद दुकानों में सामान की कमी होने लगी। ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकांश उपभोक्ता गरीब वर्ग के है जो सुबह शाम किराना राशन खरीदकर जीवन यापन करते हैं। ऐसे में दुकानों पर सामान खत्म होने से उनकी परेशानी बढ़ गई है।
----------
मुंबई से आए परिवार की कराई जांच
मसनगांव. मुबंई में रहकर मजदूरी करने वाले परिवार के गांव लौटने पर जिला अस्पताल में जांच की गई। गांव के बुद्धू अपने बेटे के साथ मुंबई में रहते थे। कोरोना वायरस के चलते उन्हें वापस गांव आना पड़ा। ग्रामीणों ने उन्हें जांच की सलाह दी। सरपंच योगेश पाटिल द्वारा स्वास्थ्य विभाग को सूचना देकर पूरे परिवार की जांच कराई गई। जो नेगेटीव आई। इसके पश्चात उन्हें गांव में अपने घर पर रहने की सलाह दी गई।
-------
फोटो एचआर२६६८
खलिहानों में रखी उपज को भींगने से बचाने तिरपाल से ढका
तेज हवा के साथ छाए काले बादल
खलिहानो मे निकाल कर रखी फसल को तिरपाल से ढका
मसनगांव. गांव सहित आसपास के क्षेत्र में बुधवार को दोपहर में तेज हवा के काले बादल छाने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। इस समय खेतों में गेहूं फसल की कटाई चल रही है। कई किसानों ने अपने खलिहानों में फसल निकाल कर रख ली है। अचानक मौसम में आए परिवर्तन से किसानों को दौड़ भाग कर खलिहानों में रखी उपज को तिरपाल से ढाकना पड़ा। तेज हवा तथा आसमान पर छाए बादलों से घबराए किसानों ने खेतों में कटाई का कार्य बंद कर दिया। लेकिन कुछ ही देर में मौसम साफ होने से वापस कटाई का कार्य शुरू हुआ। मौसम खराब होने से किसान खेतों में खड़ी गेहूं की फसल को कच्ची पक्की कटाने पर मजबूर हो रहे है। किसानों का कहना है कि खेतों में खड़ी फसलों को आगजनी तथा बारिश से नुकसान हो सकता है। ऐसे आधी पकी फसलों को ही कटाना पड़ रहा है।

बृजेश चौकसे Editorial Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned