यहां जेसीबी का काम करते हैं किसान

यहां जेसीबी का काम करते हैं किसान

Brijesh Chouksey | Publish: Jan, 14 2019 08:56:10 PM (IST) Harda, Harda, Madhya Pradesh, India

जेसीबी का काम

हरदा .
अधिकारियों की लापरवाही क्षेत्र के किसानों पर भारी पड़ रही है। सोनतलाई माइनर की 13 एल शाखा रविवार को फिर टूट गई। लगातार दूसरे दिन ऐसा हुआ। शनिवार रात को भी नहर टूट गई थी जिसे खुद किसानों ने मिट्टी डालकर बंद किया था। दूसरे दिन भी नहर टूट जाने से बड़ा हिस्सा सिंचाई से वंचित हो गया है। कई किसानों के खेतों में पानी नहीं पहुंच पाया है।
शनिवार रात नहर टूटी तो किसान तुरंत उसकी मरम्मत में जुट गए थे। रात में मिट्टी डालने के बाद रविवार को भी दिन भर 15 किसानों ने श्रमदान कर नहर के टूटे भाग को मिट्टी डालकर बंद किया। रविवार शाम को शाखा में पानी भी छोड़ा गया परंतु करीब 3 घंटे बाद शाखा का दूसरा भाग भी टूट गया। इससे रविवार रात में खेतों में पानी नहीं जा सका। राधेश्याम खोड, अमरदास मानकर, पृथ्वीराज गोदारा, रामभरोस मेहरा, मदन कोटवार आदि किसानों के खेतों में दूसरा पानी नहीं पहुंच सका। पानी के अभाव में फसलें मुरझाने लगी हैं एवं सूखने की कगार पर पहुंच गई हैं। किसानों ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों से शाखा के टूटे हुए भाग को तुरंत दुरुस्त करा कर लगातार तीन दिन तक शाखा में पानी देने की मांग की है। इधर डिवीजन के एसडीओ मयंक परमार का कहना है कि शाखा के टूटे हुए स्थान के आसपास अभी गीलापन है। इस के कारण जेसीबी मशीन नहीं चल पाएगी। गीलापन खत्म होने के बाद जेसीबी मशीन की मदद से इसे दुरुस्त किया जावेगा। उसके बाद वंचित किसानों को पानी दिया जाएगा।

किसानों की मेहनत पर फिरा पानी
यहां पानी के लिए 72 घंटे की पारी निर्धारित की गई थी। सिंचाई विभाग द्वारा दूसरा पानी दिलाने के लिए हेड की नहरों को बंद कर पानी टेल क्षेत्र में पहुंचाया जा रहा है। 72 घंटे घोषित तो किए गए पर बार=बार शाखा टूटने से पानी पहुंचा ही नहीं।
&&

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned