एक ही जमीन पर कई बैंकों से केसीसी बनवाए, कुछ ने बंधक भूमि ही बेच दी

थाने में शिकायत: मप्र ग्रामीण बैंक की दो शाखाओं में 41 ऐसे मामले सामने आए जिनमें धोखाधड़ी कर 1 करोड़ 22 लाख रुपए का गोलमाल किया...

हरदा/खिरकिया। किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के नाम पर जिले में किस तरह धोखाधड़ी की गई है इसकी बानगी सामने आने लगी है। मप्र ग्रामीण बैंक की दो शाखाओं की ओर से सोमवार को 41 केसीसी धारक किसानों के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराई गई। इन किसानों ने दूसरी बैंकों से भी क्रेडिट कार्ड बनवाकर मोटी रकम ली। वहीं कुछ किसान ऐसे हैं जिन्होंने बंधक रखी गई भूमि ही बेच दी।

इन मामलों में करीब 1 करोड़ 22 लाख रुपए की गड़बड़ी सामने आई है। सूत्र बताते हैं कि जिले की सभी बैंकों में दस्तावेजों की पड़ताल या मिलान किया जाए तो ऐसे 2000 मामले सामने आ सकते हैं जिनमें खाताधारियों ने अन्य बैंकों से भी केसीसी बनवाए या बंधक भूमि बेच दी। ऐसे मामलों में करीब 30 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की पोल खुल सकती है।

तीन दिन पहले हंडिया में भी पकड़ा था फर्जीवाड़ा
ज्ञात हो कि हंडिया तहसील में भी तीन दिन पहले केसीसी बनवाने में फर्जीवाड़ा करने का मामला सामने आ चुका है। इसमें दलालों की मिलीभगत से बैंकों से फर्जी एनओसी बनवाए गए थे। प्रशासन ने ऐसे 8 किसानों को नोटिस भी दिए हैं।

मांदला शाखा के 36, हरदा के 5 के खिलाफ शिकायत
मप्र ग्रामीण बैंक की मांदला शाखा के प्रबंधक शोभित अग्रवाल द्वारा छीपावड़ थाना में की गई शिकायत में बताया गया कि 36 किसानों ने किसान क्रेडिट कार्ड की राशि जमा नहीं की। अग्रवाल के मुताबिक इनमें से 17 खातेदार किसानों ने एक ही जमीन पर कई बैंकों से किसान क्रेडिट कार्ड बनवा लिए हैं।

वहीं 17 खातेदारों ने बगैर ऋण चुकाए बंधक भूमि ही बेच दी। इन किसानों द्वारा दोनों ही बैंकों से ब्याज राहत एवं बीमा का फायदा भी लिया जा रहा है। किसानों द्वारा फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत कर ऐसा किया गया।

इन किसानों पर करीब 90 लाख रुपए का ऋण बकाया है। वहीं हरदा शाखा प्रबंधक सुनील कुमार शर्मा के मुताबिक 5 खातेदार ऐसे सामने आए हैं जिन्होंने अन्य बैंकों से भी केसीसी बनवाए। इन पर बैंक का 32 लाख 30 हजार रुपए बकाया है। शाखा में ऐसे 19 और मामले हैं जिनमें भी इसी तरह फर्जीवाड़ा किया गया।

इनके साक्ष्य जुटाकर जल्द ही थाने में शिकायत की जाएगी। बैंक के अधिवक्ता संदीप स्वामी ने बताया कि शिकायत के साथ दोनों शाखाओं के 41 किसानों की सूची भी दी गई है। यह दण्डनीय अपराध है। पुलिस को इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई करने को कहा गया है।

79800 किसानों के पास है केसीसी...
खबर है कि जिले में 1 लाख 2 हजार किसान 1 लाख 67 हजार हेक्टेयर पर खेती करते हैं। इनमें से 79 हजार 800 किसानों के पास किसान क्रेडिट कार्ड हैं।

दीपेश तिवारी
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned