जिला अस्पताल में गर्भवती महिला ने समय पर इलाज नहीं मिलने से तोड़ा दम

परिजनों ने डॉक्टर एवं नर्स पर मामला दर्ज करने के लिए थाने में दिया आवेदन

हरदा. जिला अस्पताल में गुरुवार को एक गर्भवती महिला को समय पर इलाज नहीं मिलने से उसकी मौत हो गई। इसके बाद परिजनों द्वारा डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया गया। इसके बाद खेड़ीपुरा निवासी आबिद अली पिता जहीर अली ने डॉक्टर एवं नर्स के खिलाफ मामला दर्ज करने को लेकर अस्पताल के पुलिस सहायता केंद्र में शिकायती आवेदन दिया।

वापस जिला अस्पताल लाए
पुलिस ने बताया कि अमरीन बी पति जाफर खान निवासी खेड़ीपुरा को प्रसव पीड़ा होने पर उसके पति जफर खान द्वारा बुधवार रात 11.३० बजे जिला अस्पताल लाया गया था। जहां डॉ. मनीष शर्मा ने जांच करके अमरीन को भर्तीकराया था। किंतु कुछ देर बाद अमरीन की तबियत ज्यादा बिगड़ गई थी। इस दौरान ड्यिूटी पर डॉ. बृजेश रघुवंशी थे, जिन्हें अमरीन को देखने के लिए बुलाने गए थे। लेकिन वह देखने के लिए नहीं आए। अमरीन की ज्यादा तबियत बिगड़ती देखकर परिजन गुरुवार सुबह उसे शहर के निजी अस्पताल में दिखाने के लिए ले गए, किंतु कहीं पर भी डॉक्टर नहीं मिलने पर वह अमरीन को वापस जिला अस्पताल लेकर आए। यहां ड्यूटी पर मौजूद नर्स तराना द्वारा अमरीन को भर्ती करने से मना कर दिया। परिजनों द्वारा अमरीन को इलाज देने की गुहार लगाई गई, किंतु उन्होंने भर्ती नहीं किया। इसके चलते अमरीन की मौत हो गई।

इनका कहना
महिला के परिजन उसे रात्रि साढ़े 3 बजे प्राइवेट अस्पताल में दिखाने का बोलकर जिला अस्पताल से ले गए थे। यह बात नर्स को केस शीट में लिखकर दिए थे। सुबह साढ़े 6 बजे महिला को जिला अस्पताल लाए तो उसकी मौत हो चुकी थी। महिला का पोस्टमार्टम कराया गया। जांच में कोई लापरवाही सामने आती है तो संंबंधितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

rakesh malviya
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned