हड़ताल से ठप हुई राजस्व विभाग की सेवाएं

-सरपंच व सचिवों ने किया सामूहिक अवकाश, पटवारी गए हड़ताल पर

By: Vijay Vishnoi

Published: 10 Apr 2017, 09:41 PM IST

खिरकिया/टिमरनी. दो माह से अतिरिक्त हल्कों का प्रभार छोड़कर पटवारी हड़ताल पर थे, लेकिन सोमवार को सभी पटवारी हड़ताल में शामिल हो गए, जिससे राजस्व विभाग की जमीनी व्यवस्थाएं ठप हो गई है। साथ ही पंचायत सचिव और सरपंच भी अपनी मांगों को लेकर सोमवार को एक दिवसीय सामूहिक हड़ताल पर रहे। पटवारियों की हड़ताल से नामांतरण, बंटवारा, सीमांकन जैसे मूल कार्य तो प्रभावित हो ही रहे हंै, साथ ही वर्तमान में खाद बीज, ऋण संबंधी कार्य, जाति प्रमाण पत्र, मुयमंत्री कन्यादान के प्रतिवेदन आदि कार्य प्रभावित हो रहे हैं। इसके अलावा  पंचायत सरपंच एवं सचिवों की राज्य स्तरीय महत्वपूर्ण मांगों का निराकरण एवं स्थानीय समस्याओं को लेकर ग्राम पंचायत के सरपंच एवं सचिवों ने एक दिवसीय सामूहिक अवकाश पर जाकर जपं परिसर में धरना शुरू किया। उन्होंने सीईओ को ज्ञापन सौंपते हुए बताया कि मुयमंत्री द्वारा दो बार बड़े आंदोलनों को आश्वासन देकर स्थगित कराया गया था, लेकिन उनकी घोषणा का पालन नहीं हुआ है। तहसील पटवारी संघ अध्यक्ष सुरेश जोशी ने कहा मप्र पटवारी संघ के आह्वान पर पटवारी अपना बस्ता सौंपकर हड़ताल पर चले गए हैं। सचिव संघ ब्लाक अध्यक्ष हरिहर शर्मा ने कहा मांगे वर्षों से लंबित हैं। एक दिवसीय अवकाश पर जाकर धरना दिया है। आगे क्रमबद्ध आंदोलन जारी रहेगा। सरपंच संघ ब्लाक अध्यक्ष बृजेश राजवैद्य ने कहा सरपंचों की स्थानीय व वेतनवृद्धि की मांगे शामिल हैं। सुनवाई नहीं होने पर सचिवों के साथ संयुक्त आंदोलन किया जा रहा है। मांगे नहीं मानी तो करेंगे अभियान का बहिष्कार
टिमरनी विकासखंड के सरपंच एवं सचिव संघ ने सोमवार को एसडीएम जेपी सचान व जनपद पंचायत सीईओ धर्मेंद्र यादव को ज्ञापन सौंपकर मांगों से अवगत कराया। सचिवों ने अपनी 4 राज्य स्तरीय व दो स्थानीय इसी प्रकार सरपंचों ने भी 18 सूत्रीय मांगों के निराकरण की मांग की। निराकरण नहीं होने पर 14 अप्रैल से शुरू हो रहे ग्राम उदय से भारत उदय अभियान का बहिष्कार करने की बात कही। सचिव संघ अध्यक्ष नवीन विश्वकर्मा  ने कहा मांगे नहीं मानने पर  17 अप्रैल से 22 अप्रैल तक जिला मुयालय पर ज्ञापन देकर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन करेंगे। 25 अप्रैल को भोपाल भरो आंदोलन तथा 1 मई को दिल्ली में रैली व धरना प्रदर्शन किया जाना है। ब्लाक सरपंच संघ अध्यक्ष गंगाराम गुजर ने कहा सरकार की गलत नीतियों के कारण सरपंचों को अविश्वास की श्रेणी में रखकर अधिकारविहीन कर दिया गया है। जनता के काम नहीं करा पा रहे हैं।
Vijay Vishnoi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned