रक्षाबंधन पर भाईयों की कलाईयों पर चीनी नहीं स्वदेशी राखी बांधेंगी बहनें

छीपाबड़ की महिलाएं घर पर बना रही राखियां

By: gurudatt rajvaidya

Published: 27 Jul 2020, 08:03 AM IST

छीपाबड़/खिरकिया. लद्दाख सीमा पर हुई झड़प में 20 भारतीय जवानों की शहादत के बाद हर किसी के मन में चीन के प्रति गुस्सा है। इस बार रक्षाबंधन पर बहनें भाइयों की कलाई पर चीन में निर्मित नहीं बल्कि अपने घरों में बनाई स्वदेशी राखी बांधेंगी। बहनों ने इसके लिए अभी से तैयारी शुरू कर दी है। चीन को सबक सिखाने के लिए वहां बनी राखी के बहिष्कार का संकल्प मजबूत हो रहा है। छीपाबड़ के वार्ड क्रमांक 12 निवासी अमर केवलराम मीणा के परिवार द्वारा इस वर्ष रक्षाबंधन पर महिलाओं ने घर पर ही राखी बनाने कार्य शुरू किया है। परिवार की प्रेमबाई मीणा एवं उनकी दोनों बहुएं अनीता व बसंती, पुत्री निकिता घर पर राखी बनाने का कार्य कर रही हंै। अपने परिवार व रिश्तेदारों को ५०इस वर्ष रक्षाबंधन पर राखी मुफ्त में देने का निर्णय लिया है। इससे आने वाले समय ये लोग स्वयं अपने घर हाथों से राखी बना सके। इससे महिलाओं को भी प्रेरणा मिलेगी। अनीता मीणा का कहना है कि देशहित सर्वोपरि है। अब हम चीन को मुंहतोड़ जवाब देंगे इसी कड़ी आगे बढ़ाने के लिए दस महिलाओं का समूह बनाकर दूसरे काम भी करेंगे। किसी संस्था से प्रशिक्षण भी प्राप्त करेंगे।
आज नर्मदा जल से गुप्तेश्वर महादेव का अभिषेक करेंगे कावडिय़ें
खिरकिया. धर्म रक्षा समिति द्वारा प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी कावड़ यात्रा निकालकर मां नर्मदा के जल से भगवान गुप्तेश्वर का जलाभिषेक किया जाएगा। नगर सहित हरदा से समिति के सदस्यों द्वारा रविवार को नेमावर के सिद्धनाथ मंदिर से दर्शन कर मां नर्मदा का जल लेकर कावड़ यात्रा प्रारंभ की। पैदल कावड़ यात्रा सोमवार को श्री गुप्तेश्वर मंदिर चारूवा पहुंचेगी। जहां नर्मदा जल से भगवान गुप्तेश्वर का जल अभिषेक किया जाएगा। पिछले 10 वर्षों से यह यात्रा निकाली जा रही है। इसमें भाजयुमो पूर्व जिलाध्यक्ष नितिन गुप्ता, सुभाष शर्मा, पूर्व नगर अध्यक्ष संजू यादव, उत्तम राजपूत, नितिन उमरिया, राम यादव सहित अन्य कावड़ में जल लेकर गुप्तेश्वर मंदिर पहुंचेंगे।

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned