स्टेट हाईवे मेंटेनेंस बंद, सड़क पर फोड़े हुए, उछाल मार रहे वाहन

स्टेट हाईवे मेंटेनेंस बंद, सड़क पर फोड़े हुए, उछाल मार रहे वाहन

sanjeev dubey | Publish: Jul, 14 2018 12:07:50 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

ठेका खत्म होने से सड़क पर गड्ढे और डामर की टेकरी पर असंतुलित हो रहे वाहन, क्रासिंग में वाहन स्लिप मारकर दुर्घटना का शिकार हो रहे

हरदा. होशंगाबाद-खंडवा स्टेट हाईवे का मेंटेनेंस बंद होने से यह दिनोंदिन बदहाल होता जा रहा है। सड़क पर कहीं गड्ढे बढ़ते जा रहे हैं, तो कहीं डामर की टेकरी शरीर पर फोड़े की भांति उभर आई हैं। यहां से गुजरते वाहन असंतुलित होकर दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। तेज बारिश में स्टेट हाईवे से गुजरना खतरे से खाली नहीं। हाईवे पर करीब तीन महीने से टोल वसूली बंद होने के बाद इसका कोई रखवाला नहीं बचा। सड़क के दोनों ओर बढ़ती झांडिय़ां एक ओर इसकी चौड़ाई कम कर रही हैं, वहीं बीच का हिस्सा रखरखाव के अभाव में खराब होता जा रहा है। गड्ढे बढऩे, सड़क पर दरार आने और कई स्थानों पर सड़क के दबने से डामर की टेकरियां बनने के कारण तेज रफ्तार वाहन असंतुलित हो रहे है। इस दौरान चालक यदि नियंत्रण नहीं रखे तो वाहन का दुर्घटनाग्रस्त होना तय समझो। गुरुवार को मांदला के पास एक ट्रक क्रासिंग के दौरान सड़क किनारे रखी ईंट के ढेर से टकरा गया। ऐसे हादसे यहां बढ़ते जा रहे हैं।

पंद्रह साल पहले हुआ था निर्माण
करीब 15 साल पहले तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने सड़क को लोक निर्माण विभाग से एमपीआरडीसी (मप्र रोड डेव्हलपमेंट कॉर्पोरेशन) के सुपुर्द कर बीओटी (बिल्ट, ऑपरेट देन ट्रांसफर) योजना के तहत ठेके पर इसका निर्माण कराया था। इस अवधि में होशंगाबाद से खंडवा तक करीब 210 किमी में चार स्थानों (होशंगाबाद, पगढाल, छीपावड़ व खंडवा) पर टोल वसूली होती थी। इसके अलावा स्टेट हाईवे से मिलने वाली अन्य छोटी सड़कों पर भी बैरियर लगाकर टोल वसूली की गई थी। इस दौरान सड़क के रखरखाव का जिम्मा निर्माण कंपनी का था। टोल वसूली चली तब तक तो सड़क का मेंटेनेंस कुछ हद तक हुआ भी, लेकिन इसकी मियाद खत्म होने के चलते यह भी बंद हो गया। सड़क एमपीआरडीसी के सुपुर्द होने के बाद से इसका मेंटेनेंस पूरी तरह बंद है।

किनारे कटने से कम होती जा रही चौड़ाई
टोल वसूली के दौरान भी सड़क के रखरखाव की ओर उतना ध्यान नहीं दिया गया जितना जरूरी था। दोनों ओर की कंटीली झाडिय़ों को तक साफ नहीं किया गया नतीजतन सड़क के किनारे कटने से कई स्थानों पर यह संकरा होता जा रहा है। भारी वाहनों की क्रासिंग के दौरान यहां हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।

जिम्मेदार फोन बात करने को तैयार नहीं
पत्रिका ने दुर्दशा का शिकार होते हाईवे के सुधार कार्य संबंधी चर्चा के लिए एमपीआरडीसी के एजीएम दिनेश लोवंशी से चर्चा के लिए उनके मोबाइल पर तीन बार कॉल किए। दो बार में कॉल रिसीव नहीं हुए। तीसरी बार में दूसरी ओर से बात करने वाले ने खुद को कार्यालय का ऑपरेटर बताते हुए साहब द्वारा मोबाइल छोड़कर जाने की बात कही। स्टेट हाईवे के मेंटेनेंस संबंधी जानकारी मांगने पर अनभिज्ञता जताई।

अफसर, नेता भी नहीं दे रहे ध्यान
मप्र सड़क विकास प्राधिकरण का कार्यालय जिले में नहीं होने से निर्माण कंपनी को इसके सुधार की याद दिलाने वाला भी कोई नहीं रहता। स्थानीय अधिकारी और जनप्रतिनिधि भी दुर्घटना के इन स्थानों पर सुधार को लेकर फिक्रमंद नहीं रहते। नतीजतन वाहन चालकों को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

साइड सोल्डर की गहराई बढ़ती जा रही
स्टेट हाईवे के किनारे कई स्थानों पर मुरम खुदाई होने तथा नालों के पानी के तेज बहाव से कटाव बढ़ रहा है। इसके चलते यहां दुर्घटना का अंदेशा रहता है। सड़क के दोनों ओर साइड सोल्डर नहीं भरे जाने से यहां कटाव बढ़ गया है। वाहनों की क्रासिंग के दौरान यहां खतरा बना रहता है। पिछली बारिश के पूर्व जिन स्थानों पर मटेरियल डाला गया था वह या तो बह चुका है या दब चुका है। लिहाजा चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। तेज रफ्तार वाहनों की क्रासिंग के दौरान चालक की जरा सी चूक उसे बड़ी मुसीबत में डाल सकती है।

संकेतक भी गायब हुए
सड़क पर कई स्थानों पर संकेतक भी गायब हैं। अंधे मोड़ व पुल-पुलियाओं के पास इनके अभाव में चालक सचेत नहीं हो पाते। रात के समय यहां दुर्घटना का खतरा बढ़ जाता है।

Ad Block is Banned