आत्मनिर्भर का नारा देने वाले प्रधानमंत्री की पार्टी ले रही विदेशी एप का सहारा

वर्चुअल रैली, मीटिंग, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के लिए जूम एप को किया जा रहा प्रचारित
भारतीय ऐप से नमस्ते पर भारी विदेशी जूम एप

By: gurudatt rajvaidya

Updated: 26 Jun 2020, 08:31 PM IST

राजेश मेहता/खिरकिया. लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियों को आत्मनिर्भर बनने के साथ ही वोकल फॉर लोकल पर जोर दिया। यानि लोकल प्रोडक्ट को खरीदने के साथ उनका प्रचार भी करना है, लेकिन यह बात सिर्फ उपभोगी वस्तुओं पर ही लागू होती दिख रही है, जबकि सेवा अभी भी विदेशों की ही ली जा रही है। प्रधानमंत्री की पार्टी विदेशी एप के जरिए अपने कार्यकर्ताओं को साधते में जुटी हुई है। कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण भारतीय जनता पार्टी इन दिनों पार्टी बैठकों एवं रैली का आयोजन वर्चुअल रूप में किया जा रहा है। इसमें मोबाइल एप पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यकर्ताओं को जोड़ा जा रहा है। इसके लिए जूम जैसे विदेशी एप का सहारा लिया जा रहा है, जबकि वीडियो कॉन्फं्रेसिंग के लिए से नमस्ते जैसे भारतीय ऐप भी मौजूद है, लेकिन इसका इस्तेमाल नहीं हो रहा है, और ना ही इन्हें प्रचारित किया जाता है।
मोबाइल पर जूम ऐप कराया जा रहा डाउनलोड
वर्तमान में स्थिति यह है कि स्मार्टफोन उपयोग करने के वाले अधिकांश कार्यकर्ताओं के मोबाइल में जूम एप मौजूद है। इससे पार्टी मीटिंग और रैलियों में शामिल हुआ जाता है। यही नहीं वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के लिए प्रभारी के रूप में नियुक्त पदाधिकारियों द्वारा भी कार्यकर्ताओं से संपर्क कर उनके मोबाइल पर जूम एप डाउनलोड कराया जाता है। इसका उपयोग करना भी बताया जा रहा है। इतना ही नहीं राष्ट्रीय अध्यक्ष, पदाधिकारी एवं कई मंत्री भी इस ऐप के माध्यम से बैठक ले रहे हंै।
क्या है जूम एप, गृह मंत्रालय ने बताया था अनसेफ
जूम ऐप को 9 वर्ष पहले 2011 में अमेरिका के इरिक यूआन ने बनाया था। इसका हेड क्वार्टर सेन जोस, कैलिफोर्निया अमेरिका में है। इस ऐप के माध्यम से एक बार में एक साथ 100 लोग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़ सकते है। इस एप के बढ़ते उपयोग को देखते हुए गृह मंत्रालय द्वारा अप्रेल माह में अपनी रिपोर्ट दी थी, इसमें इसे अनसेफ बताया था। ऐप का उपयोग गोपनीयता के लिए खतरा भी था। बावजूद इसका तेजी से उपयोग हो रहा है।
इनका कहना है-
मौजूदा भारतीय एप में नेटवर्क समस्या आती है। कम लोग जुड़ पाते है। इस कारण जूम एप का उपयोग किया जा रहा है। वर्चुअल रैली व मीटिंग के लिए पार्टी अपना ऐप तैयार कर रही है। एप के अस्तित्व में आने पर उसका प्रयोग किया जाएगा। वरिष्ठ पदाधिकारियों को इस विषय से अवगत कराया जाएगा।
अंकित अवस्थी, जिला प्रभारी, वर्चुअल वीडियो कॉफ्रेंसिंग मीटिंग हरदा

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned