मजदूरों से धोखाधड़ी करके भागने वाले वाहन चालक को तहसीलदार ने जमकर लताड़ा

- इंदौर से बैतूल जाने के लिए किराए पर किया था वाहन, नर्मदा पुल पर छोड़कर आगे आने के लिए कहा था, लेकिन भागने लगा

By: gurudatt rajvaidya

Published: 16 May 2020, 08:03 AM IST

हंडिया. इंदौर से अपने घर बैतूल जाने वाले १७ मजदूरों को एक वाहन चालक ने चालाकी दिखाते हुए उन्हें नर्मदा नदी के पुल पर छोड़कर हरदा की तरफ भाग गया। मजदूरों के साथ धोखाधड़ी की जानकारी मिलने पर तहसीलदार अर्चना शर्मा मौके पर पहुंचीं। उन्होंने पुलिस की मदद से उक्त वाहन चालक को हरदा के पास पकड़ लिया। इसके बाद उसे वापस हंडिया बुलाया। तहसीलदार शर्मा ने वाहन चालक को जमकर फटकारा। जानकारी के अनुसार शुक्रवार दोपहर 2 बजे 17 मजदूर पैदल चेक पोस्ट पर पहुंचे। जहां उन्होंने तहसीलदार शर्मा को बताया कि वे इंदौर में रहकर मजदूरी का कार्य करते थे। आर्थिक संकट आने पर वह सभी ने मिलकर एक वाहन ३४०० रुपए में किराए पर किया था, जिससे वह बैतूल जा रहे थे। वाहन चालक ने उन्हें यह बोलकर नर्मदा सेतु के पास उतार दिया कि वे पुल के पार आ जाएं। सभी को वहां से बैठाकर ले जाउंगा। सभी मजदूर नर्मदा सेतु से आगे पहुंचे तो वाहन चालक वहां पर नहीं मिला। वहां मौजूद लोगों ने बताया कि वह टवेरा चालक किसी अन्य सवारी से 3000 लेकर खंडवा की ओर चला गया। तहसीलदार द्वारा मामले की सूचना मिलते ही हरदा एवं खिरकिया पुलिस को मामले की सूचना दी गई। उक्त वाहन को हरदा पहुंचने से पहले ही पकड़ लिया गया। वाहन चालक को हंडिया लाया गया। जहां तहसीलदार शर्मा द्वारा जमकर लताड़ते हुए हिदायत दी कि इन मजदूरों को उनके घर तक छोड़ा जाए। वहीं सभी मजदूरों को माध्यमिक शाला हंडिया में ले जाकर दोपहर का भोजन कराया गया। 10 मजदूरों को टवेरा गाड़ी से भेजा गया। वहीं 7 मजदूरों को अन्य साधनों से उनके घर भेजने की व्यवस्था की गई।

gurudatt rajvaidya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned