कृषि उपज मंडी के सामने ट्रैक्टर ट्रॉलियों की कतार लगने से लगा रहता है जाम

वाहन चालकों एवं पैदल राहगिरों को आवागमन में होती है परेशानी
मंडी में दो गेट, लेकिन एक से ही हो रहा प्रवेश व निकासी

By: gurudatt rajvaidya

Published: 24 Jul 2020, 08:03 AM IST

खिरकिया. कृषि उपज मंडी में उपज बेचने आने वाले किसानों के वाहनों की आवाजाही से नगर में भारी यातायात दबाव बना रहता है। इसके चलते दिन भर मंडी के समीप मुख्य मार्ग पर जाम की स्थिति बनती है। मंडी में आवक बढऩे के साथ मुख्य मार्ग पर जाम की स्थिति बनी रहती है। मंडी से हाइस्कूल तक वाहनों की लंबी कतारें लग रही है। इससे मुख्य मार्ग से आवागमन करने वाले वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हादसे का अंदेशा भी बना रहता है। जानकारी के अनुसार कोरोना संक्रमण के कारण टिमरनी एवं हरदा मंडी बंद होने के कारण इन क्षेत्र की उपज भी खिरकिया मंडी में विक्रय के लिए लाई जा रही है। इससे वाहनों का जमावड़ा मुख्य मार्ग पर लग रहा है। कहने को तो मंडी में वाहनों का एक ओर से प्रवेश व दूसरी ओर से निकासी के लिए मुख्य द्वार पर दो गेट का निर्माण किया गया है, लेकिन एक ओर का गेट अधिकांश समय बंद रखा जाता है। इससे एक ओर से ही प्रवेश एवं निर्गम कृषकों को करनी पड़ती है। इससे मुख्य मार्ग पर जाम लग जाता है।
१८ लाख खर्च कर किया था प्रवेश द्वार का चौड़ीकरण-
कृषि उपज मंडी में पूर्व में निर्मित गेट छोटा होने के कारण परेशानियां होती थी। ऐसे में कुछ वर्ष पूर्व मुख्य गेट के बाजू की पानी की टंकी को तोड़कर गेट का चौड़ीकरण किया गया। इस पर करीब 18 लाख रुपए खर्च किए गए। इसमें एक ओर से प्रवेश एवं दूसरी ओर से निकासी की व्यवस्था की गई। लेकिन अब मंडी द्वारा एक ओर का गेट अधिकांश समय बंद रखा जाता है। इससे स्थिति पूर्व की तरह बन रही है। मुख्य द्वार के जिस भाग से किसानों के वाहनों को प्रवेश मंडी में कराते है, उसी मार्ग से निकासी भी होती है। ऐसे में कई बार किसानों के वाहनों की आमने सामने की स्थिति हो जाती है। इससे जहां दुर्घटना का अंदेशा बना ही रहता है, वहीं विवाद की स्थिति भी बन जाती है। किसानों का कहना है कि जब एक की ओर से प्रवेश व निकासी की व्यवस्था रखना था तो लाखों खर्च कर दो द्वार का निर्माण क्यों किया गया।
नहीं खोला जाता पीछे की ओर निर्मित अतिरिक्त गेट-
कृषि उपज मंडी परिसर करीब 15 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। इसे सुरक्षित रखने के लिए चारों ओर बाउंड्रीवाल का निर्माण किया गया है। लेकिन मंडी में बढ़ते वाहनों के दबाव को देखते हुए मंडी परिसर की सीमा के पीछे की ओर बैंक आफ इंडिया मार्ग पर गेट का निर्माण किया गया है। लेकिन इस गेट को भी नहीं खोला जाता है। केवल वीआइपी कार्यक्रमों के लिए गेट खोला जाता है। जबकि मंडी के अंदर एवं मुख्य मार्ग से यातायात का दबाव कम करने के लिए मुख्य द्वार से प्रवेश कराते हुए उपज तुलाई के बाद निकासी की व्यवस्था पीछे के गेट से की जा सकती है। लेकिन ऐसा नहीं किया जाता है। जबकि पूर्व में मंडी द्वारा इस व्यवस्था के तौर पर ही प्रस्ताव लेकर इस गेट का निर्माण किया गया था।
मुख्य मार्ग पर बढ़ जाता है यातायात दबाव-
समूचा नगर खिरकिया-छीपाबड़ मुख्य मार्ग के दोनों ओर बसा है। मुख्य मार्ग से ही वार्डों कें रास्ते जुड़े है। ऐसे में मंडी भी मुख्य मार्ग पर ही स्थित होने के कारण मंडी में वाहनों का आवागमन होते हुए मुख्य मार्ग पर यातायात दबाव बढ़ जाता है। मंडी में वाहनों के प्रवेश व निकास करने के दौरान मुख्य मार्ग का यातायात थम जाता है। मंडी से वाहनों के निकलने के बाद ही मुख्य मार्ग से वाहनों की आवाजाही हो पाती है। मुख्य मार्ग पर पहले ही यातायात दबाव होता है। लेकिन इस व्यवस्था को सुधारने के बजाय मंडी द्वारा गेटों से यातायात का सही प्रबंधन नहीं करते हुए अव्यवस्था बढ़ाई जा रही है।
उपज लेकर पहुंच रहे टिमरनी और हरदा के कृषक-
कोरोना संक्रमण के चलते कृषि उपज मंडी टिमरनी एवं हरदा में उपज का नीलामी कार्य बंद है। ऐसे में इन तहसील के ग्रामों से किसान अपनी उपज लेकर कृषि उपज मंडी में पहुंच रहे है। इससे प्रतिदिन बड़ी संख्या में ट्रालियां पहुंच रही है। पूर्व में सीमित संख्या में ट्रालियां ली जा रही थी, लेकिन अब बड़ी मात्रा में ट्रॉलियां पहुंच रही है। इससे जहां बड़ी भीड़ रही है, वही संक्रमित क्षेत्र से किसानों के पहुंचने से संक्रमण फैलने का भी भय बना हुआ है। जिस पर जिम्मेदारों द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है।
इनका कहना है-
दूसरे क्षेत्र से मंडी में उपज की आवक हो रही है। इससे सुबह के समय यातायात अधिक रहता है। सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था बनाने के लिए मंडी प्रवेश में कुछ देरी लगती है। इसके बावजूद व्यवस्थाओं में सुधार किया जाएगा।
आरपी सिंह नैन, मंडी सचिव, खिरकिया

gurudatt rajvaidya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned