संक्रमण की रोकने घर बैठे परीक्षा ली, उत्तरपुस्तिका जमा करने में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

- जिले के 32 केंद्रों पर जमा होना था उत्तरपुस्तिका लेकिन अधिकतर छात्र-छात्राएं लीड कॉलेज ही पहुंचे
- भीड़ नियंत्रण के लिए नहीं थे पुख्ता प्रबंध

By: gurudatt rajvaidya

Published: 16 Sep 2020, 08:03 AM IST

हरदा। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय ने छात्र-छात्राओं से परीक्षा तो घर बैठे ली, लेकिन उत्तरपुस्तिका जमा कराने के दौरान मूल उद्देश्य पर पानी फिर गया। पहले ही दिन सरकारी कॉलेज में छात्र-छात्राओं की इतनी भीड़ उमड़ी की पूरे दिन सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ते रही। चिलचिलाती धूप में खड़े छात्र-छात्राओं ने उत्तरपुस्तिकाएं जमा कराने के लिए खासी जद्दोजहद की। खास बात यह रही कि भीड़ नियंत्रण के पुख्ता इंतजाम भी नहीं किए गए थे।
मालूम हो कि बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय द्वारा 10 सितंबर से ओपन बुक प्रणाली से परीक्षाएं आयोजित की गई थी। इस दौरान जिले के करीब4218 परीक्षार्थियों ने घर बैठकर परीक्षा दी। इनमें स्नातक फाइनल इयर के 3202 और स्नातकोत्तर के 1016 परीक्षार्थी थे। अधिकतर परीक्षार्थी हरदा और टिमरनी के सरकारी कॉलेज और आदर्श महाविद्यालय के रहे। परीक्षार्थियों को प्रश्न पत्र एसआईएस (स्टूडेंट इनफो सिस्टम) के माध्यम से दिए गए थे। जिला मुख्यालय स्थित शासकीय कॉलेज सहित जिले के 32 स्थानों को उत्तरपुस्तिका संग्रहण के लिए चिह्नित किया गया था। इनमें 12 केंद्र शासकीय व निजी कॉलेजों तथा 20 केंद्र स्कूलों में बनाए गए थे। परीक्षार्थियों को यहां पर 15 और 16 सितंबर को उत्तरपुस्तिकाएं जमा करना था। छह सेक्टर में बंटे 32 केंद्रों से 17 सितंबर को कॉपियां इकट्ठा होना है। इसी कार्यक्रम के तहत मंगलवार सुबह से शासकीय कॉलेज में छात्र-छात्राओं की भीड़ जुटने लगी। दिन चढऩे के साथ ही यह बढ़ती गई। सुबह की शिफ्ट में बड़ी संख्या में विद्यार्थी परिसर में जुट गए। यहां अव्यवस्था फैलने पर प्रभारी प्राचार्य के निर्देश पर छात्र-छात्राओं को परिसर से बाहर किया गया। बाद में 15 से 20 विद्यार्थियों को कतार में प्रवेश देकर उत्तरपुस्तिकाएं जमा कराई गई। इसके चलते कॉलेज के प्रवेश द्वार के सामने खासी भीड़ जमा हो गई। सड़क के दोनों ओर इतने वाहन हो गए की ट्रैफिक जाम होने लगा। यहां से निकलने वाले लोगों ने जाम से बचने के लिए अपना रास्ता तक बदल लिया।
पहले दिन जमा हुई 2847 उत्तरपुस्तिकाएं
लीड कॉलेज की प्रभारी प्राचार्य डॉ. प्रभा सोनी ने बताया कि मंगलवार को जिले के 32 केंद्रों पर स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की 700 तथा स्नातक अंतिम वर्ष की 2147 कॉपियां जमा हुईं। वहीं लीड कॉलेज में स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की 245 तथा स्नातक अंतिम वर्ष की 546 उत्तरपुस्तिकाएं जमा हुईं। डॉ. सोनी ने बताया कि मंगलवार सुबह परिसर में भीड़ बढऩे पर शहर कोतवाली को सूचना दी गई थी, लेकिन बल की व्यवस्था नहीं की गई।
इस वजह से बड़ी छात्र-छात्राओं की भीड़
बताया जाता है कि स्कूलों में बनाए गए कई सेंटर्स से छात्र-छात्राओं को कॉलेज भिजवा दिया गया। दूसरी ओर विश्वविद्यालय द्वारा कार्यक्रम तय करने में भी कमी छोड़ दी गई। उत्तरपुस्किा जमा करने के लिए कक्षावार अलग-अलग दिन तय नहीं किए गए। स्नातक प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों को 14 सितंबर से पहले भी उत्तरपुस्तिका जमा करने को कहा था, लेकिन वे भी मंगलवार को कॉलेज पहुंच गए। कॉलेज प्रबंधन को उम्मीद है कि पहले दिन 70 प्रतिशत उत्तरपुस्तिका जमा हो चुकी हैं, इसलिए अंतिम दिन बुधवार को भीड़ कम जुटने की संभावना रहेगी।
दूरस्थ गांवों से हरदा आए विद्यार्थी
कई विद्यार्थी अपने नजदीक के संग्रहण केंद्र को छोड़कर लीड कॉलेज पहुंचे, इसे भी भीड़ बढऩे का कारण बताया जा रहा। हालांकि छात्रों का कहना रहा कि उन्हें केंद्रों की जानकारी नहीं थी, इसलिए हरदा पहुंचे। नौसर के छात्र केशव दुबे और नितिन कनेरे तथा पानतलाई के छात्र लालसिंह रामकुचे ने बताया कि उत्तरपुस्किा के साथ प्रवेश पत्र भी जमा कराने की अनिवार्यता के चलते विद्यार्थियों को दिनभर परेशान होना पड़ा। केंद्रों की जानकारी नहीं होने से वे लीड कॉलेज पहुंच गए।
अधिकारी ने केवल उद्घोषणा कर कर्तव्य निभाया
दोपहर 2 बजे कॉलेज के सामने विद्यार्थियों की खासी भीड़ जमा थी। इस दौरान प्रशासन के एक अधिकारी यहां से निकले। उन्होंने अपनी ड्यूटी निभाते हुए वाहन में लगे माइक सैट से केवल सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की उद्घोषणा की और आगे निकल लिए। अधिकारी ने कॉलेज परिसर में पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लेना तक मुनासिब नहीं समझा।

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned