डीजल चोरी के मामले में ट्रांसपोर्टर को इंदौर से किया गिरफ्तार

भारत पेट्रोलियम कंपनी ने निरस्त किया अनुबंध, टैंकरों को किया ब्लैक लिस्ट

By: gurudatt rajvaidya

Published: 01 Jul 2020, 08:02 AM IST

खिरकिया. डीजल कंपार्टमेंट लारी से डीजल चोरी के मामले में छीपाबड़ पुलिस ने ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक को गिरफ्तार किया है। आरोपी कीे गिरफ्तारी के लिए एसडीओपी राजेश सुल्या के निर्देशानुसार टीआई ज्ञानू जायसवाल के मार्गदर्शन में एएसआई सतीष माझी, एसएस मालवीय सहित दल को इंदौर भेजा गया था। जहां से रीत ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक कुलजीत छाबड़ा को गिरफ्तार किया गया है। छीपाबड़ पुलिस द्वारा 22 मई को घटना के पश्चात धारा 420, 407, 34 आईपीसी के तहत मामला पंजीबद्ध कर आरोपी कीे तलाश की जा रही थी। इसके पूर्व चालक को गिरफ्तार एवं डीजल टैंक को भी जब्त किया जा चुका है। आरोपी को गिरफ्तार कर जिला न्यायालय पेश किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। गौरतलब है कि पोखरनी रोड़ पर संचालित नर्मदा फ्यूल्स पेट्रोल पंप पर 20 मई को इंदौर से रीत ट्रांसपोर्ट कंपनी के टैंकर कंपार्टमेंट लारी से अनाधिकृत से डीजल चोरी होना पाया गया था। कंपार्टमेंट खाली कराए जाने पर 130 लीटर की शार्टेज पाई गई थी। जांच करने पर कंपार्टमेट की लाइन से अनाधिकृत रूप से जुड़ी एक लाइन पाई गई, जो कि टैंकर के फ्यूल टेंक से जुड़ी हुई थी। इस लाइन का बॉल्व टेंक लारी के बॉल्व पेटी से पीछे लगा हुआा पाया गया। इसके माध्यम से कंपार्टमेंट से डीजल की चोरी की गई थी। मामले का लेकर पंप संचालक प्यारेलाल धुर्वे ने छीपाबड़ थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।
पेट्रोलियम कंपनी ने भी कार्रवाई
मामले में पुलिस द्वारा जहां आरोपियों को जेल भेजा है, वहीं भारत पेट्रोलियम कंपनी द्वारा भी ट्रांसपोर्टर पर कार्रवाई की गई है। भारत पेट्रोलियम मांगलिया डिपो इंदौर के प्रबंधक प्रशांत खडग़े ने बताया कि ट्रांसपोर्ट कंपनी पर इंडस्ट्री ट्रांसपोर्ट डिसीप्लीन की गाइडलाइन के तहत कार्रवाई की गई है। इसमें कंपनी के ट्रांसपोर्ट अनुबंध को निरस्त कर दिया गया है। भारत पेट्रोल से ट्रांसपोर्ट कंपनी के अनुबंध किए गए 10 टैंकरों को ब्लैक लिस्ट किया है। इसके अलावा ट्रांसपोर्ट कंपनी की 5 लाख की सिक्युरिटी डिपाजिट को सीज कर दिया गया है।
इनका कहना है-
ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक कुलजीत छाबड़ा को इंदौर से गिरफ्तार किया है। आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया। जहां से उसे जेल दाखिल किया गया है।
ज्ञानू जायसवाल, टीआई, छीपाबड़

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned