1990 रुपए लेकर छह दिन में 40 हजार लौटाने वाले दो ठग पकड़ाए, दो फरार

- करीब 20 गांव के 40 किसानों को झांसा देकर जुटाए थे 1 लाख 20 हजार रुपए
- राजस्थान के भीलवाड़ा में भी फरवरी में इसी तरह किसानों को बनाया था निशाना

By: gurudatt rajvaidya

Published: 01 Aug 2020, 08:03 AM IST

हरदा/खिरकिया। खंडवा जिले के किल्लौद थाना क्षेत्र के नांदियाखेड़ा गांव के किसानों को 1990 रुपए लेकर छह दिन में 40 हजार रुपए लौटाने का झांसा देकर ठगने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके दो साथी अभी फरार हैं। आरोपी खिरकिया में फर्जी कंपनी के नाम पर लोगों से ठगी कर रहे थे। उन्होंने इस साल फरवरी में भीलवाड़ा (राजस्थान) में भी इसी तरह ठगी करने की बात कबूली है।
पुलिस कंट्रोल रूम में शुक्रवार को आयोजित पत्रकारवार्ता में एसपी मनीष कुमार अग्रवाल ने बताया कि आरोपियों ने वर्ना फाइनेंस सर्विसेस लिमिटेड के नाम से बोर्ड बनाकर छीपावड़ के शांति निकेतन स्कूल के पास ऑफिस खोला था। वे आसपास के गांवों में घूमकर किसानों से धोखाधड़ी कर रहे थे। नांदियाखेड़ा के किसानों ने छीपावड़ थाने में इसकी रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस दौरान कुछ किसानों ने आरोपियों के वीडियो क्लिप बना लिए थे। वहीं कुछ ने इनके मोबाइल नंबर भी दिए थे। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर जांच की तो शुरुआत में कोई सुराग नहीं मिला। इस दौरान आरोपियों की गिरफ्तारी पर 10 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया गया। जांच शुरू होने तक आसपास के 20 गांवों के करीब 40 किसानों की जानकारी सामने आई जिनसे आरोपियों ने रुपए लेकर धोखाधड़ी की थी। इस मामले की जांच के लिए एएसपी गजेंद्र वर्धमान व एसडीओपी खिरकिया राजेश सुल्या के मार्गदर्शन में छीपावड़ टीआई ज्ञानू जायसवाल के नेतृत्व में एसआई महेन्द्र उइके, पीएसआई मनीष चौधरी, आरक्षक करन साहू, सायबर सेल आरक्षक कमलेष टीम गठित की गई थी। टीम द्वारा फरियादी द्वारा दी गई वीडियो क्लिप्स के माध्यम से जांच आगे बढ़ाई। इस दौरान उनकी बाइक क्रमांक एमपी 41 एमजी 0723 के नंबर की जांच की गई तो वह भी फर्जी पाई गई। आरोपियों की मोबाइल टॉवर लोकेशन के आधार पर टीम द्वारा देवास जिले के देवास, सोनकच्छ, टोंकखुर्द, देवगुराडिय़ा, झिरवई, बोरासा में तलाश की गई। इस दौरान आरोपी राजेश पिता गंगाराम गुर्जर निवासी सालाखेड़ी थाना तराना जिला उज्जैन व राहुल पिता विक्रमसिंह गुर्जर निवासी सिडूगांव थाना पीपलराव जिला देवास को न्यू देवास से गिरफ्तार किया गया। इनके साथी केपी सर उर्फ बिट्टू गुर्जर निवासी सेडूगांव थाना पीपलराव जिला देवास व केएल यादव पिता बनेसिंह यादप निवासी डकाच्या थाना सोनकच्छ जिला देवास फरार हैं।
कंपनी का पता हरियाणा का बताया
ठगों ने जिस कंपनी के नाम पर रुपए वसूले उसका पता हरियाणा का बताया गया। पते में शहर या गांव का नाम नहीं दिया। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि सह आरोपी बिट्ट उर्फ प्रभुलाल उर्फ केपी सर एवं केवल यादव के साथ छीपावड़ में कमरा किराए पर लिया गया था। इस दौरान 15 से 20 ग्रामों के 40 लोगों से 1 लाख 20 रुपए लिए गए। उक्त राशि चारों द्वारा आपस में बांटना बताया गया। गिरफ्त में आए दोनों आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें 5 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है। का योगदान रहा।
भीलवाड़ा में ठगे करीब 2 लाख रुपए
आरोपियों ने पुलिस को बताया कि फरवरी में भीलवाड़ा में भी इसी तरह ठगी की गई। इस दौरान करीब 25 दिन में 2 लाख रुपए जुटाए गए।
फाइनेंस कंपनी में हुई आपसी मुलाकात
एसपी अग्रवाल ने बताया कि इनमें से कुछ आरोपी देवास की एक फाइनेंस कंपनी में काम करते थे। वहीं बचे आरोपी भी देवास में ही आसपास नौकरी करते थे। देवास में ही इनकी मेलमुलाकात बढ़ी और लोगों को ठगने का काम शुरू किया।

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned