विद्यासागर महाराज के दर्शन करने पहुंचीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी

आचार्यश्री से चर्चा कर दिल्ली आने का किया निवेदन

हरदा। आध्यात्म के मार्ग पर चलते हुए मानवता को परिभाषित करते हुए आचार्य श्री विद्यासागरजी और मुनिसंघ का आशीर्वाद आज प्राप्त हुआ। आचार्यश्री के प्रकल्प के माध्यम से हिंसा के अवगुणों को लेकर भी जेल में बंद कैदी आध्यात्म के मार्ग पर चलते हुए हथकरघा के माध्यम से संतों का सानिध्य प्राप्त कर रहे हैं। अहिंसा के मार्ग पर चलना, स्वावलंबन के साथ जीना और प्रभु का स्मरण करते हुए समाज के संरक्षण में अपने आप को समर्पित करने का भाव आपके माध्यम से जो जनमानस में जागृत हुआ है, उसके लिए मैं आपके श्रीचरणों में सादर वंदन करती हूं। यह बातें शनिवार को नेमावर में आचार्य विद्यासागर महाराज के दर्शन करने आईं कंेद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कही।

स्मृति ईरानी ने किया दिल्ली आने का निवेदन
उन्होंने आचार्यश्री से ससंघ देश की राजधानी दिल्ली में आने का निवेदन किया। जैन समाज के प्रवक्ता नरेंद्र चौधरी, पुनीत जैन, राजीव जैन ने बताया आचार्यश्री ने राष्ट्र उत्थान पर केंद्रित करते हुए अपने उद्गार में कहा कि भारत को स्वतंत्र हुए कई वर्ष होने के बावजूद पूर्व स्थिति में नहीं आए। हमें भारत को आगे बढ़ाने के साथ-साथ संस्कारित करने की दिशा में भी काम करना चाहिए। हमें अपनी संस्कृति में पुन: लौटना है। हमें अपनी संस्कृति के अनुसार ही विश्व पटल पर भारत को आदर्श बनाना चाहिए। लगभग ढाई घंटे जैन मंदिर परिसर पर रहीं स्मृति ईरानी ने आचार्यश्री के आशीर्वाद से चलने वाले समाजसेवा के विभिन्न प्रकल्पों हथकरघा, हस्तशिल्प, प्रतिभास्थली, मातृभाषा हिन्दी जैसे अनेक महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्यश्री से चर्चा की। इसके साथ ही बारीकी से हथकरघा से निर्मित वस्त्र, हस्तशिल्प से बनी विभिन्न वस्तुओं का अवलोकन किया।

Smriti Irani smriti irani bjp twitter smriti irani
poonam soni
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned