प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में पानी की किल्लत

दूषित व मलमैला पानी पीने को मजबूर मरीज

By: sanjeev dubey

Published: 09 Dec 2017, 10:38 AM IST

टिमरनी. विकासखंड के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र नौसर में पिछले दो साल से पानी की किल्लत है। यहां पेयजल के लिए लगे बोरिंग में चौबीस घंटे में मात्र 10 मिनट पानी आता है। वह भी दूषित मटमैला एवं बेस्वाद होता है। इसके पीने से स्वस्थ आदमी के बीमार पडऩे का अंदेशा बना रहता है। इससे अस्पताल में आने वाले एवं भर्ती मरीजों व उनके के परिजनों को पेयजल के लिए गांव में भटकना पड़ता है। दूसरे गांव से आने वाले ग्रामीणों को हैंडपंप का पता नहीं रहता है। लेकिन इस ओर अस्पताल प्रबंधन द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है। अस्पातल प्रबंधन द्वारा बोरिंग कराने के संबंध में कलेक्टर एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को भी अवगत कराने की बात कही जा रही है। बावजूद आज तक पेयजल के लिए कोई सुनिश्चित व्यवस्था नहीं की जा सकी है। स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ चिकित्सक एवं कर्मचारी अपने साथ पेयजल के लिए पानी की बाटल लेकर आते है। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र जुड़े है 32 गांव-
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र नौसर से आसपास के गांव करताना, नयागांव, गोदड़ी, काथड़ी, छिपानेर, गोदागांव, गंगेश्वरी, तजपुरा, रूदलाय, गुल्लास सहित 32 गांव जुड़े है। इतना बड़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र होने के बावजूद भी अस्पताल में पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं है। यहां रोजाना २० से ३० मरीज अपना इलाज कराने आते है। वही एक महिना में 15 से 25 डिलेवरी भी होती है। प्रसव केन्द्र होने की वजह से यहां पानी की अति आवश्यकता होती है। भर्ती महिलाओं के परिजनों के पानी की तलाश मे भटकना पड़ता है।

जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान-
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में पिछले करीब दो वर्षों से पेयजल की किल्लत बनीं हुई है। लेकिन इस दिशा में न तो प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा ध्यान दिया जा रहा है और न ही जनप्रतिनिधियों द्वारा । जानकारी के अनुसार पेयजल हेतु बोरिंग के लिए कई बार कलेक्टर एवं सीएमएचओ एवं विधायक को भी अवगत कराया जा चुका है। इस संबंध में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र प्रभारी डॉ. केसरी प्रसाद ने बताया कि पेयजल की समस्या के संबंध में एवं पेयजल के लिए बोरिंग कराने हेतु कलेक्टर एवं सीएमएचओ को आवेदन दिया जा चुका है।
इनका कहना है
नौसर के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर पेयजल व्यवस्था के लिए एक बार पुन: वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराकर तत्काल व्यवस्था बनाई जाएगी।
डॉ. एमके चौरे, बीएम ओ टिमरनी

sanjeev dubey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned