होशंगाबाद-खंडवा स्टेट हाइवे पर गड्ढों में धंस रहे चलते वाहनों के पहिएं, हो रहे हादसे


मुहालकला में बीच सड़क में फंसे ट्रक को पुलिस ने के्रन से हटवाया
हाइवे की मरम्मत नहीं से वाहन चालक हो रहे परेशान

By: gurudatt rajvaidya

Published: 02 Sep 2020, 08:03 AM IST

खिरकिया. होशंगाबाद-खंडवा स्टेट हाइवे की स्थिति दिनों दिन बदतर होती जा रही है। जहां आए दिन हादसे हो रहे हैं। कुछ दिन पहले एक केले से भरा ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया था। अब एक ट्रक का पहिया सड़क के बीच धंस गया। इससे हाइवे का यातायात प्रभावित हुआ। मार्ग की दुर्दशा के चलते वाहन चालक नाराजगी जता रहे है, लेकिन मरम्मत नहीं कराई जा रही है। गड्ढे भरने के लिए मिट्टी मुरूम डालने की मात्र औपचारिकता कर दी गई है। लेकिन बारिश की वजह से अब यहां कीचड़ मच गया है। इसमें वाहनों के पहिएं फंस रहे है। इससे आवागमन दूभर हो रहा है। जानकारी के अनुसार हाइवे पर मुहालकला में बस स्टैंड के सामने केले से भरा ट्रक सुबह 6 बजे गड्ढे में धंस गया। मार्ग के बीचों बीच ट्रक का पहिया फंस जाने से आवागमन प्रभावित होता रहा। वाहन चालक व सहायक द्वारा ग्रामीणों की मदद से ट्रक को बाहर निकालने का प्रयास किया गया, लेकिन नाकाम रहे।
पुलिस ने के्रन से हटवाया ट्रक-
काफी मशक्कत के बाद भी ट्रक नहीं निकला तो ग्रामीणों ने छीपाबड़ पुलिस को सूचना दी गई। इसके बाद टीआई ज्ञानू जायसवाल दल के साथ मौके पर पहुंची। उन्होंने स्थिति देखकर के्रन बुनाई। जिसकी सहायता से करीब 5 घंटे की मशक्कत के बाद ट्रक को हाइवे से हटाया जा सका है। इसके बाद मार्ग को समतल कराया। इसके चार दिन पहले ही इसी स्थान पर केले से भरा ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया था। इससे चलते भी घंटों यातायात प्रभावित हुआ था।
बदहाल होता जा रहा है स्टेट हाइवे-
मेंटेनेंस के अभाव में होशंगाबाद-खंडवा स्टेट हाइवे बदहाल होता जा रहा है। सड़क पर कहीं गड्ढों के आकर बढ़ते जा रहे हैं, तो कहीं डामर और मिट्टी की टेकरी मार्ग पर उभर आई हैं। यहां से गुजरते समय वाहन असंतुलित होकर दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। हाइवे पर करीब ढाई साल से टोल वसूली बंद होने के बाद इसका कोई रखवाला नहीं है। सड़क के दोनों ओर बढ़ती झाडिय़ां इसकी चौड़ाई कम कर रही हैं, तो वहीं बीच का हिस्सा रखरखाव के अभाव में खराब होता जा रहा है। गड्ढे बढऩे, दरार आने और सड़क के दबने से तेज रफ्तार वाहन असंतुलित हो रहे है। खासकर हरदा से खिरकिया के बीच का हिस्सा अधिक खराब हो चुका है। 35 किमी का फासला पूरा करने में वाहन चालकों को एक से डेढ़ घंटा लग जाता है। जबकि यह सफर मात्र 40 मिनट का है।
लंबे समय से नहीं हुई हाइवे की मरम्मत -
करीब 18 वर्ष पहले लोक निर्माण विभाग ने एमपीआरडीसी (मप्र रोड डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन) के सुपुर्द कर बीओटी (बिल्ट ऑपरेट देन ट्रांसफर) योजना के तहत ठेके पर इसका निर्माण कराया था। इस अवधि में होशंगाबाद से खंडवा तक करीब 210 किमी में चार स्थानों (होशंगाबाद, पगढाल, छीपाबड़ व खंडवा) पर टोल वसूली होती थी। इसके अलावा स्टेट हाइवे से मिलने वाली अन्य छोटी सड़कों पर भी बैरियर लगाकर टोल वसूली की गई। इस दौरान सड़क के रखरखाव का जिम्मा निर्माण कंपनी का था। टोल वसूली चली तब तक तो सड़क का मेंटेनेंस कुछ हद तक हुआ भी, लेकिन इसकी मियाद खत्म होने के चलते यह भी बंद हो गया। सड़क एमपीआरडीसी के सुपुर्द होने के बाद से इसका मेंटेनेंस पूरी तरह बंद है। वर्तमान सड़क के किनारे कटने से कई स्थानों पर यह संकरा होता जा रहा है। भारी वाहनों की क्रासिंग के दौरान दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।
अधिकारी जनप्रतिनिधि नहीं दे रहे ध्यान-
मप्र सड़क विकास प्राधिकरण का कार्यालय जिले में नहीं होने से मार्ग का कोई भी रखवाला नहीं है। स्थानीय अधिकारी और जनप्रतिनिधि भी दुर्घटना के इन स्थानों पर सुधार को लेकर फ्रिकमंद नहीं है। सड़क के दोनों ओर साइड सोल्डर नहीं भरे जाने से यहां कटाव बढ़ गया है। बरसात के पूर्व जिन स्थानों पर मटेरियल डाला गया था वह या तो बह चुका है या दब गया है। लिहाजा चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
इनका कहना है-
मुहाल में हाइवे पर गड्ढे में ट्रक का पहिया फंस गया था। जिसे क्रेन से हटाकर यातायात को बहाल किया। इस दौरान कुछ घंटे मार्ग प्रभावित हुआ।
ज्ञानू जायसवाल, टीआई, छीपाबड़
ंहाइवे पर जहां-जहां गड्ढे हो रहे है, उनके भराव के प्रयास किए जाएंगे। मार्ग की मरम्मत के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को पत्र लिखा जाएगा।
श्यामेन्द्र जायसवाल, एसडीएम, खिरकिया
गढ्डों में तब्दील हाइवे पर वाहनों में हो रही टूट फूट
मसनगांव. होशंगाबाद-खंडवा स्टेट हाइवे गड््ढों में तब्दील होते जा रहा है। हरदा से खिरकिया जानलेवा गड्ढों से वाहनों में टूट फूट हो रही है। दोपहिया वाहन चालकों को दुर्घटना का अंदेशा बना हुआ है। सिविल लाइन थाने के करीब गड्ढों में कभी भी बड़ी दुर्घटना हो सकती है। जहां पुलिस द्वारा चेकिंग कर वाहन चालकों को हेलमेट तथा सीट बेल्ट लगाने की सलाह दी जा रही है एवं जुर्माना वसूल किया जाता है, लेकिन सड़कों पर हो रहे गड्ढों पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिससे वाहन चालको को दोहरी मार लग रही है। हाइवे पर विधायक से लेकर मंत्री तथा बड़े अधिकारी आवागमन करते हैं लेकिन वे भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे है।

gurudatt rajvaidya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned