नवोदय विद्यालय में फंसे असम के बच्चों को वापस भेजने किसने, क्या मांगी जानकारी

लॉकडाउन के कारण २५ मार्च से चारूवा में फंसे है असम के २५ बच्चे

By: gurudatt rajvaidya

Published: 20 Apr 2020, 08:03 AM IST

खिरकिया. लॉकडाउन में चारूवा नवोदय विद्यालय में फंसे असम नवोदय विद्यालय के बच्चों को वापस भेजने एवं असम के बरपेटा जिले के सरभोग नवोदय विद्यालय में फंसे चारूवा नवोदय के बच्चों को वापस लाने के मामले में रीजनल डिप्टी कमिश्नर भोपाल ने जानकारी मांगी है। प्रशिक्षण अवधि समाप्त होने के बावजूद 1 माह से बच्चे लॉकडाउन के कारण अपने घर नहीं जा पा रहे है। नवोदय विद्यालय रीजनल भोपाल के डिप्टी कमिश्नर डी सरदार ने चारूवा विद्यालय प्रबंधन से बच्चों के संबंध में ऑनलाइन जानकारी मांगी है। इसमें बच्चों को भेजने वाले मार्गों का रूट, स्थान आदि की जानकारी देेने का कहा है। रीजनल से जानकारी एकत्रित कर नवोदय विभाग से संबंधित मंत्रालय को दिया जाएगा। इसके बाद स्वीकृति मिलने पर बच्चों को उनके घर भेजा जा सकता है। लॉकडाउन के कारण पूर्व में कराए गए आरक्षण की तिथि निकल चुकी है। फ्लाइट से बच्चों को उनके घर भेजने को लेकर भी मार्गदर्शन मांगा था, लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों ने जबाव नहीं दिया है। वर्तमान में रेलवे आरक्षण बंद है।
2 बार आरक्षण के बावजूद घर नहीं जा सके बच्चे-
असम के बरपेटा जिले के सरभोग नवोदय विद्यालय से 23 बच्चे लॉकडाउन के पूर्व चारूवा नवोदय विद्यालय पहुंचे थे। इसी तरह चारूवा नवोदय विद्यालय के बच्चे भी असम के बरपेटा पहुंचे। जहां पर बच्चे रहकर एक दूसरे के क्षेत्र में रहकर शिक्षा, संस्कृति एवं अन्य पहलुओं को समझ सकें। चारूवा में बरपेटा जिले के 7 बालिका एवं 16 बालक शामिल है। इनका 25 मार्च को टे्रने से जाने का आरक्षण था, वहीं दूसरा 5 अप्रेल का था। लेकिन टे्रन बंद होने से बच्चे असम नहीं पहुंच सके। चारूवा नवोदय के बच्चों का वापसी 24 मार्च को होना थी, लेकिन वे भी वापस नहीं आ सके। पूर्व में पत्रिका द्वारा समाचार प्रकाशित करने के बाद कलेक्टर भी बच्चों के हाल जानने पहुंचे थे। मामले को लेकर पूर्व विधायक आरके दोगने ने प्रदेश के राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री को पत्र प्रेषित कर असम के बच्चों के भेजने एवं चारूवा के बच्चों को असम से बुलाने की व्यवस्था करने की मांग की है।
इनका कहना है-
वरिष्ठ कार्यालय से बस मार्ग एवं विद्यार्थियों के संबंध में जानकारी मांगी गई है। मार्गदर्शन अनुसार बच्चों को उनके घर भेजा जाएगा।
जे लाल, प्राचार्य, नवोदय विद्यालय चारूवा

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned