भाजपा सांसद का बड़ा बयान, बोले-पुरुष भी हो रहे अत्याचार का शिकार

भाजपा सांसद का बड़ा बयान, बोले-पुरुष भी हो रहे अत्याचार का शिकार

Ashish Pandey | Publish: Sep, 03 2018 08:48:19 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

कहा-गठित होना चाहिए पुरुष आयोग, दहेज एक्ट का हो रहा दुरुपयोग।

 

हरदोई. पिछले वर्ष लोकसभा में दहेज एक्ट के दुरुपयोग और पुरुष आयोग के गठन की मांग कर चुके हरदोई से भाजपा सांसद अंशुल वर्मा की इस मांग को एक अन्य भाजपा सांसद द्वारा उठाये जाने के बाद एक बार फिर भाजपा सांसद अंशुल वर्मा जहां अपनी बात का समर्थन करते हुए पुरुष आयोग गठित किये जाने की मांग कर रहे हैं तो वहीं वे महिला संगठनों के निशाने पर आ गए हैं। सांसद ने स्वीकार किया कि उनकी मांग को लेकर कुछ महिला संगठन नाराज हो सकते हैं, लेकिन इसकी उन्हें परवाह नहीं है क्यों कि न जाने कितने लोगों को इस एक्ट के दुरुपयोग के कारण प्रताडऩा झेलनी पड़ती है और तमाम लोग तनाव और अवसाद में आत्महत्या तक कर लेते हैं। ऐसे में पुरषो के अधिकारों और उनके हितों के लिए आयोग का गठन होना ही चाहिए तभी महिला और पुरुष के समान अधिकारों की बात की सार्थकता होगी ।
भाजपा सांसद पुरुष आयोग की मांग संसद में उठाने के बाद अब फिर से सुर्खियों में हैं वे इस मुद्दे पर समर्थन करते हुए हर स्तर पर कार्य करने की बात कह रहे हैं। सांसद ने बताया कि 23 सितंबर को इस सिलसिले में नई दिल्ली में एक कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। सांसद अंशुल वर्मा का कहना है कि पुरुष भी पत्नियों की प्रताडऩा के शिकार होते हैं, अदालत में इस तरह के तमाम मामले लंबित हैं जिस प्रकार महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए कानून और आयोग हैं। इसी प्रकार पुरुषों की समस्याओं को लेकर तथा न्याय दिलाने के लिए पुरुष आयोग की आवश्यकता है। बताया कि संसद की एक स्थाई समिति के सामने इस मुद्दे को रख चुके हैं, जिसके वह सदस्य भी हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 498 ए के दुरुपयोग को रोकने के लिए उसमें भी संशोधन की आवश्यकता है। एक प्रश्न के जवाब में सांसद ने कहा कि सवर्ण आयोग का भी गठन होना चाहिए वे इसका समर्थन करते हैं।
भाजपा सांसद कहते है कि पुरुष आयोग की मांग सही है। पुरुषों के हितों की भी रक्षा होनी चाहिए। कहा कि दहेज एक्ट का विरोध करते हैं क्यों कि इस एक्ट के दुरुपयोग से तबाह हो रहे जीवनो के बारे में आंकड़े बोल रहे हैं। बराबरी के हक के लिए महिला आयोग की तरह ही गठित हो पुरुष आयोग तो बराबरी की बात बहुत सटीक रहेगी। लोकसभा में सवाल उठा चुके सांसद का दावा है उनकी पत्नी भी इस बात का समर्थन कर रही हैं।

Ad Block is Banned