डीएम शुभ्रा सक्सेना ने सिस्टम के कसे पेंच, रात 9 बजे अधिकारियों से करेंगी समीक्षा

डीएम शुभ्रा सक्सेना ने सिस्टम के कसे पेंच, रात 9 बजे अधिकारियों से करेंगी समीक्षा
hardoi

डीएम ने ऐसे सभी विभागों के अफसरों को चेतावनी दी है, जहां समय से शिकायतों का निस्तारण नहीं होता। डीएम ने कहा कि अधिकारी रात 9 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में बताएंगे कि किन कारणों से शिकायत का निस्तारण नहीं हो पाया है। 

हरदोई. जन शिकायतों के निस्तारण को लेकर डीएम शुभ्रा सक्सेना ने सिस्टम के पेंच कस दिए हैं। उन्होंने स्पष्ट रूप से अफसरों एवं कर्मचारियों को चेतावनी दी है कि जनशिकायतों का निस्तारण समय से सत्यता एवं तथ्यों पर सुनिश्चित करना होगा, अन्यथा कार्रवाई होगी। डीएम ने ऐसे सभी विभागों के अफसरों को चेतावनी दी है, जिनके यहां समय से शिकायतों का निस्तारण नहीं होता। डीएम ने कहा है कि ऐसे विभागों के अधिकारी सभी शिकायतों के निस्तारण की समीक्षा को लेकर रात 9 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में उपस्थित होंगे और बताएंगे कि किन कारणों से शिकायत का निस्तारण नहीं हो पाया है। शिकायतों के निस्तारण तक उन्हें प्रतिदिन समीक्षा में आना होगा।




अधिकारी न बरतें लापरवाही

जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने सोमवार तो कलेक्ट्रेट स्थित सभागार में आयोजित शिकायतों के निस्तारण संबंधी बैठक में कहा कि अधिकारी शिकायतों के निराकरण में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरतें। स्वयं रूचि लेकर शिकायतों का गुणवत्तापूर्ण निराकरण समयबद्ध तरीके से करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कार्यालय पहुंचकर अधिकारी सबसे पहले शिकायत निराकरण की स्वयं समीक्षा प्रतिदिन करें और समयावधि में ही शिकायत का निराकरण करना सुनिश्चित करें। शिकायत लंबित पाए जाने पर संबंधित अधिकारी को रात्रि 9 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में पहुंचकर वस्तु स्थिति से अवगत कराना पड़ेगा। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी राधेश्याम, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ पीएन चतुर्वेदी, जिला विकास अधिकारी अभिराम त्रिवेदी, परियोजना निदेशक प्रदीप कुमार यादव आदि अधिकारी मौजूद रहे।




कहीं भी जल-भराव न होने पाए: डीएम 

जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने सभी अधिशासी अधिकारी नगर पालिका/पंचायतो को निर्देशित किया है कि बारिश को देखते हुए अपने-अपने क्षेत्रों का सघन भ्रमण कर लें। जहां पर जल-भराव की स्थिति उत्पन्न होने की संभावना हो तत्काल उचित कार्रवाई करना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही डेंगू, मलेरिया आदि बीमारियों के बचाव हेतु फॉगिंग कराने के भी निर्देश दिये।




सभी ट्रान्सफार्मर कवर्ड हों: डीएम
 
जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि जनपद में स्थापित सभी ट्रान्सफार्मर जाली युक्त किये जाएं। कोई भी ट्रान्सफार्मर बिना फेंसिंग के न मिले। इसके साथ ही उन्होंने केबल वर्क भी दुरस्त किये जाने को कहा है। 




कर्जमाफी योजना में लापरवाही पर नपेंगे अफसर

जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने बताया कि प्रदेश सरकार की लघु एवं सीमांत किसानों के उन्नयन एवं सतत् विकास हेतु फसल ऋण मोचन योजना के अन्तर्गत लघु एवं सीमांत किसानों का एक लाख रूपए तक फसली ऋण (31 मार्च 2016 तक) माफ किया जाएगा। जिसके लिये पात्रता का निर्धारण कर दिया गया है। पात्र किसानों के आधार नम्बर और भूलेख का रिकार्ड संबंधित बैंको द्वारा एनआईसी के बेबपोर्टल पर अपलोड कराया जा रहा है। डीएम ने कहा कि योजना के सफल क्रियान्वयन और शिकायतों का निस्तारण कराने के लिये कृषि विभाग को नोडल विभाग नामित किया गया है। जिलाधिकारी ने बैंकों को निर्देशित किया है कि किसानों के खातो को आधार लिंकेज कराने में तेजी लाई जाए और योजना के अन्तर्गत डाटा प्राप्त होने पर उसको सही कराकर उसी समय पोर्टल पर अपलोड कराया जाए।




डीएम ने बनाए कंट्रोल रूम

फसल ऋण मोचन योजना के सफल क्रियान्वयन हेतु एवं किसानों की शिकायतें प्राप्त करने के लिये जनपद एवं तहसील स्तर पर कन्ट्रोल रूम स्थापित कर दिया गया है। जनपद स्तर पर सहायक आयुक्त एवं सहायक निबन्धक सहकारिता राजवीर सिंह को कन्ट्रोल रूम का प्रभारी बनाया गया है। इसके साथ ही सहायक के रूप में शिवम सिंह, गौरव पाण्डेय और आशाराम की ड्यूटी लगाई गई है। कन्ट्रोल रूम का नंबर 05852-236135 है। तहसील स्तर पर तहसील सदर का कन्ट्रोल रूम नंबर 05852-234345 है। कन्ट्रोल रूम के प्रभारी गिरजा शंकर बनाए गए हैं। तहसील बिलग्राम का कन्ट्रोल रूम नंबर 05851-241033 है। कन्ट्रोल रूम के प्रभारी मो. अरसद बनाए गए हैं। सण्डीला का कन्ट्रोल रूम नंबर 05854-271855 है। कन्ट्रोल रूम के प्रभारी बृजलाल बनाए गए हैं। तहसील शाहाबाद का कन्ट्रोल रूम नंबर 05853-260271 है। कन्ट्रोल रूम के प्रभारी प्रवीन कुमार शर्मा बनाए गए हैं। तहसील सवायजपुर का कन्ट्रोल रूम नंबर 05853-263347 है। जहां कन्ट्रोल रूम के प्रभारी तहसीलदार/नायब तहसीलदार बनाए गए हैं।


Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned