18 लाख मतदाता तय करेंगे हरदोई सीट का सांसद, जानिए सियासी समीकरण

18 लाख मतदाता तय करेंगे हरदोई सीट का सांसद, जानिए सियासी समीकरण

Ruchi Sharma | Updated: 09 Apr 2019, 01:39:09 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

हरदोई लोकसभा सीट के लिए 2118 मतदेय स्थल बनाये गए है

ग्राउंड रिपोर्ट
हरदोई. जिले की हरदोई लोकसभा सुरक्षित सीट के लिए 17 लाख 94 हजार 142 मतदाता 29 अप्रैल को होने वाले चौथे चरण के लिए मतदान कर प्रत्याशियों का भाग्य तय करेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार हरदोई लोकसभा सीट के लिए 29 अप्रे्ल को मतदान होगा। हरदोई लोकसभा सीट के लिए 2118 मतदेय स्थल बनाये गए है। इन पोलिंग स्टेशनों पर 17 लाख 94 हजार 142 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। जबकि मिश्रिख लोकसभा सीट के लिए जिले के 1313 मतदेय स्थलों पर वोट डाले जाएंगे। चुनावी कार्यक्रम की घोषणा होने के बाद राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है।


यह हैं हरदोई लोकसभा सीट के मतदाता
विधानसभा मतदाता
सवायजपुर 390390
शाहाबाद 348620
हरदोई 401532
गोपामऊ 333127
सांडी 320473

हरदोई लोकसभा सीट के मतदेय स्थल
विधानसभा मतदेय स्थल
सवायजपुर 476
शाहाबाद 429
हरदोई 429
गोपामऊ 398
सांडी 386

मिश्रिख लोकसभा सीट के मतदाता
विधानसभा मतदाता
बिलग्राम-मल्लावां 362526
बालामऊ 348019
संडीला 336821

मतदाता स्थल
विधानसभा मतदेय स्थल
बिलग्राम-मल्लावां 443
बालामऊ 439
संडीला 431

19 जोन व 192 सेक्टर में बंटा जिला
विधानसभा जोन सेक्टर
सवायजपुर 4 36
शाहाबाद 2 22
हरदोई 2 20
गोपामऊ 3 24
सांडी 2 21
बिलग्राम-मल्लावां 2 21
बालामऊ 2 22
संडीला 2 24


अब इस सीट पर सियासी समीकरणों की बात करें तो एक बात साफ तौर पर सामने है कि हरदोई सुरक्षित सीट के आंकड़े कहते है कि यहां पर पूर्व सांसद और पूर्व मंत्री स्वर्गीय बाबू परमाई लाल का जादू खूब चलता रहा है तो वही इस सीट से सांसद रहे स्वर्गीय बाबू छेदा लाल के बेटे पूर्व मंत्री पूर्व सांसद नरेश अग्रवाल का जादू खूब चला है। परमाई लाल की बहू पूर्व सांसद उषा वर्मा सपा बसपा गठबंधन से यहां से प्रत्याशी है तो भाजपा प्रत्याशी जयप्रकाश को नरेश अग्रवाल की प्रतिष्ठा से जोड़कर देखा जा रहा है। हरदोई को पिछले 20 वर्षों से नरेश अग्रवाल का राजनीतिक किला कहा जाता है। कहा जाता है कि नरेश अग्रवाल के राजनीतिक किले हरदोई में चुनावी लहरों ने दरार तो खूब डाली मगर जनता से उनके रिश्तों की डोर का छोर कोई नहीं पकड़ पाया । भाजपा से चुनाव लड़ रहे जयप्रकाश यहां से तीन बार सांसद रहे हैं और ऊषा वर्मा भी यहां तीन बार सांसद रहे चुकी है। इन दोनों प्रत्याशियों के अलावा कांग्रेस से पूर्व विधायक वीरेंद्र वर्मा चुनाव मैदान में है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned