शिक्षकों को सबक सिखाने सीएम योगी की यह डीएम बनी शिक्षिका!

शिक्षकों को सबक सिखाने सीएम योगी की यह डीएम बनी शिक्षिका!
Hardoi DM Shubra Saxena

Shatrudhan Gupta | Updated: 25 Oct 2017, 05:19:49 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

डीएम शुभ्रा सक्सेना को क्लास में बच्चे सोते हुए मिले तो उन्होंने शिक्षकों से पूछा कि ऐसे पढ़ाई होती है।

हरदोई. अपनी तेज तर्रार कार्यशैली और सख्ती को लेकर चर्चा में रहने वाली योगी सरकार की डीएम हरदोईं शुभ्रा सक्सेना एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार चर्चा किसी बड़े एक्शन को लेकर नहीं है, बल्कि बच्चों के बीच दीदी बन कर शिक्षा की पाठशाला लगाने को लेकर हैं। दरअसल, बुधवार को सरकारी स्कूल के निरीक्षण दौरान डीएम शुभ्रा सक्सेना को क्लास में बच्चे सोते हुए मिले तो उन्होंने शिक्षकों से पूछा कि ऐसे पढ़ाई होती है। इस पर शिक्षक बोले- बच्चे आंख बंद कर लेशन याद कर रहे थे। इस पर भड़कते हुए डीएम ने कहा, आइए हम बताते हैं कि क्लास में बच्चों को कैसे पढ़ाया जाता है। इसके बाद आईआईटियंस से आईएएस बनीं शुभ्रा सक्सेना ने क्लास लगाकर बच्चों को विज्ञान विषय की पढ़ाई कराई।

शिक्षकों को दी समझाइश, बच्चों का लिया क्लास

नयागांव स्थित सरकारी स्कूल के निरीक्षण के लिए पहुंचीं डीएम शुभ्रा सक्सेना को देख वहां हड़कंप मच गया। इससे पहले कोई कुछ समझ पाता डीएम सीधे क्लास रूम में पहुंच गईं। कक्षा 8 मेंं शिक्षक तो मौजूद थे पर बच्चे सो रहे थे। डीएम के पहुंचने पर सोते से बच्चे जाग गए। डीएम ने बच्चों से पूछा- क्या सो रहे थे तो शिक्षक बोले नहीं मैम यह सभी आंख बंद करके विज्ञान विषय का लेशन याद कर रहे थे। इस पर डीएम ने बच्चों से चुंबक को लेकर सवाल किया। क्लास में मौजूद बच्चों में से कुछ ने ही चुंबक के बार बताया। इसके बादडी एम शुभ्रा ने शिक्षकों से कहा कि आइए हम बताते हैं कि आप कैसे पढ़ाई करे और विषयवार याद करें। डीएम ने बाकायदा शिक्षिका की भूमिका में क्लास लगाकर बच्चों को पढ़ाया।

आंगनबाड़ी केन्द्र का भी किया निरीक्षण

इसके बाद डीएम शुभ्रा सक्सेना कक्षा 7 की क्लास में पहुंचीं। यहां अंग्रेजी विषय पढ़ाया जा रहा था। इस पर डीएम ने बच्चों से सवाल किए तो यहां भी बड़ी संख्या में बच्चों की अगं्रेजी काफी कमजोर मिली। इस पर डीएम ने क्लास लगाकर अंग्रेजी को लेकर बच्चों को पढ़ाई के टिप्स दिए और अपने घरों से लेकर आस पास साफ -सफाई रखने का संदेश भी दिया। डीएम ने आंगनबाड़ी केन्द्र का भी निरीक्षण किया और वजन दिवस पर सभी छोटे बच्चों का वजन किए जाने व कुपोषण से ग्रसित बच्चों को पोषाहार दवाएं आदि उपलब्धता कराने को लेकर जानकारी ली। इस दौरान डीएम ने बच्चों व आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से बात भी की।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned