बेटी के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए सड़क पर उतरीं महिलायें

आरोप है कि दहेज के लिए शिप्रा वर्मा की हत्या की गई, फिलहाल सभी आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।

By: अमित शर्मा

Published: 26 Jan 2018, 10:04 AM IST

हाथरस। विगत दस जनवरी को तबेला गली निवासी शिप्रा वर्मा की उसके ससुराल कोतवाली क्षेत्र की चमन गली में मौत हो गयी थी। मृतक के परिजनों का आरोप था कि शिप्रा की हत्या उसके ससुरालीजनों ने उसे फांसी लगकर की है। यही कारण रहा कि बिना सूचना दिए उनकी पुत्री का अंतिम संस्कर कर दिया। फिलहाल शिप्रा के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए उसके परिजनों सहित शहर के सैकड़ों महिलाओं और पुरुषों ने कैंडिल मार्च निकाला और पुलिस प्रशासन से न्याय की भी मांग की।

ये थी घटना

शिप्रा के पिता भगवती प्रसाद वर्मा के अनुसार उन्होंने अपनी पुत्री की शादी 25 जुलाई 2015 को चमन गली निवासी पंकज वर्मा के साथ की थी, उन्होंने अपनी सामर्थ्य अनुसार शादी में सब कुछ दिया था। लेकिन शादी के बाद से शिप्रा के ससुरल वाले दस लाख रूपर की मांग करते चले आ रहे थे और मांग पूरी न होने की दशा में वह मेरी पुत्री को मानसिक और शारीरिक प्रताणनाएं दे रहे थे, यहां तक क़ि उसे कई कई दिनों तक भूखा प्यासा रखा जाता था। उन्होंने बताया कि 10 जनवरी को ससुरालीजनों ने उनकी पुत्री को फांसी लगाकर मार दिया। जिसकी सूचना अज्ञात व्यक्ति ने उन्हें फ़ोन पर दी लेकिन वह

जब तक वहां पहुंचे तब तक अंतिम संस्कार किया जा चुका था।

दो दिन बाद लिखी गयी रिपोर्ट

इस घटना की सूचना मृतक के पिता ने मौके से ही तत्काल 100 नम्बर पर पुलिस को दी लेकिन पुलिस ने मौके पर पहुंचकर भी कोई सुनवाई नहीं की। घटना के दो दिन बाद पीड़ित पक्ष ने पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई तब जाकर मामले की रिपोर्ट दर्ज हो सकी लेकिन फिलहाल आरोपी सभी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।


मुख्यमंत्री को लिखा खत

पीड़ित पक्ष ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख कर हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग की है, वहीं हाथरस पुलिस की भूमिका पर संदेह प्रकट किया है, उन्होंने कहा है कि इस घटना की जांच किसी अन्य जनपद की पुलिस से कराई जानी चाहिए।

Show More
अमित शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned