हाथरस कांड: एक आरोपी के नाबालिग निकलने पर मृतका का भाई बोला- मार्कशीट में जन्मतिथि हो सकती है आगे-पीछे

Highlights

- यूपी के बहुचर्चित हाथरस कांड में रोजाना हो रहेे नए खुलासे

- नाबालिग आरोपी के शैक्षिक प्रमाणपत्रों को सीबीआई ने कब्जे में लिया

- मृतका के भाई ने आरोपी की उम्र पर उठाए सवाल

By: lokesh verma

Published: 21 Oct 2020, 04:20 PM IST

हाथरस. यूपी के बहुचर्चित हाथरस कांड में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं। अब एक आरोपी के नाबालिग होने की बात सामने आई है, जिसे पुलिस ने बालिग दिखाते हुए जेल भेज दिया था। इस आरोपी के शैक्षिक प्रमाणपत्रों को सीबीआई ने कब्जे में ले लिया है और जांच शुरू कर दी है। वहीं, आरोपी के परिवार का कहना है कि उनका बच्चा नाबालिग है।

यह भी पढ़ेें- हाथरस गैंगरेप में एफएसएल रिपोर्ट पर सवाल उठाने वाले डॉक्टर बर्खास्त, सहयोगी की भी गई नौकरी

उल्लेखनीय है कि हाथरस कांड में चार लोगों को आरोपी बनाया गया था। बिटिया की मौत से पहले ही पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। चारों आरोपी फिलहाल अलीगढ़ जिला कारागार में बंद हैं। अब पता चला है कि गिरफ्तार किए गया एक आरोपी नाबालिग है, जिसकी उम्र 18 वर्ष से कम है। उसने जेएस इंटर कॉलेज मीतई हाथरस से हाईस्कूल यूपी बोर्ड की परीक्षा 2018 में दी थी, जिसमें वह फेल हो गया था। उस मार्कशीट में जन्मतिथि दो दिसंबर 2002 है। इस हिसाब से वह 18 साल से कम उम्र का है। हालांकि गिरफ्तारी के समय मेडिकल जांच में उसकी उम्र 18 वर्ष बताई गई थी।

मेरा बेटा नाबालिग

आरोपी के पिता ने बताया कि हमने सीबीआई को सभी प्रमाण पत्र दे दिए हैं और उसकी उम्र के संबंंध में भी बताया है, वह नाबालिग है। उनका कहना है कि पुलिस ने बेटे की उम्र नहीं पूछी थी। इसलिए उन्हाेंने नहीं बताई थी।

तिथि की जा सकती है आगे-पीछे

आरोपी की उम्र 18 साल से कम निकलने पर बिटिया के भाई ने शंका जाहिर की है। उसका कहना है कि मार्कशीट में तिथि को आगे-पीछे भी किया जा सकता है। उसे इस मामले में कोई जानकारी नहीं है कि आरोपी की उम्र कितनी है?

यह भी पढ़ेें- गाजियाबाद: हाथरस कांड के बाद वाल्मीकि समाज के 236 लोगों ने किया धर्म परिवर्तन

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned