हाथरस। श्रीराम जन्म के उपलक्ष में निकलने वाली तिमंजिला रथयात्रा ने इस वर्ष अपना 137वां वर्ष पूरा कर लिया। रथयात्रा का अपना एक गौरवशाली इतिहास रहा है। यह यात्रा 1882 से निकाली जा रही है। देश की एकमात्र रथयात्रा है, जिसमें श्रीराम का विग्रह मूंछों वाला होता है। रथयात्रा की शान पूरे नगर ने देखी। श्रीराम की आरती उतराने के लिए लोग लालायित रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned