रामवीर उपाध्याय के भाई को हरा सपा की ओमवती यादव बनीं जिला पंचायत अध्यक्ष

जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर सपा का कब्जा, एक वोट से बसपा प्रत्याशी की हार

By: मुकेश कुमार

Published: 22 Aug 2017, 08:51 PM IST

हाथरस। जिले में समाजवादी पार्टी ने बहुजन समाज पार्टी को करारी पटखनी दी है। जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के बाद मंगलवार को संपन्न हुए चुनाव में सपा की ओमवती यादव ने जीत हासिल की। उन्होंने पूर्व ऊर्जा मंत्री व बसपा के कद्दावर नेता रामवीर उपाध्याय के भाई रामेश्वर उपाध्याय को एक वोट से हराकर जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्जा कर लिया। लगभग साढ़े तीन माह पहले जिला पंचायत अध्यक्ष विनोद उपाधयाय के खिलाफ अविश्वस प्रस्ताव पारित हुआ था। जिसके चलते उनकी कुर्सी छिन गई थी।

सपा ने एक वोट से जीता चुनाव
अविश्वस प्रस्ताव के बाद विनोद उपाध्याय के भाई रामेश्वर ने चुनाव मैदान में उतरे। मंगलवार को शांतिपूर्ण तरीके से जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव संपन्न हुआ। जिसके बाद तुरंत वोटों की गिनती शुरू हो गई। बसपा के रामेशवर उपाध्याय और सपा की जिला अध्यक्ष ओमवती की कड़ी टक्कर हुई, लेकिन बसपा नेता अपनी कुर्सी नहीं बचा पाए। ओमवती यादव ने रामेश्वर उपाध्याय को एक वोट से हरा दिया। ओमवती यादव को 13 और बसपा से रामेश्वर उपाध्याय को 12 वोट मिले।

पिछले दो दशक से था बसपा का कब्जा
हाथरस जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर दो दशकों से बसपा का ही कब्जा रहा था। जिसे छीनकर सिकन्दराराव क्षेत्र के गांव उमरावपुर निवासी सपा जिला अध्यक्ष ओमवती यादव ने बसपा के कद्दावर नेता रामवीर उपाध्याय को सियासत में करारी शिकस्त दी है। जीत के बाद ओमवती यादव और उनके समर्थकों के चेहरे खुशी से खिले उठे। वहीं बसपा नेता रामेश्वर उपाध्याय के खेमे में मायूसी छा गई।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम
जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। पूरे कलेक्ट्रेट परिसर व परिसर से लेकर बाहर तक बैरीकेडिंग लगाई गई। जिला पंचायत सदस्य कलेक्ट्रेट से 100 मीटर दूर स्थित बैरीकेडिंग तक ही अपनी गाड़ी से आ सके। वहां से कलेक्ट्रेट तक पैदल पहुंचे। सभी लोगों पर सीसीटीवी व वीडियो कैमरा से निगरानी कर रखी गयी।

Show More
मुकेश कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned