scriptWorld Bicycle Day 2020: Migrant Labourers Showed Strength Of Cycling | World Bicycle Day: Coronavirus काल में मजदूरों ने दुनिया को दिखाया अद्भुत सामर्थ्य, चौंका देगी इनकी कहानियां | Patrika News

World Bicycle Day: Coronavirus काल में मजदूरों ने दुनिया को दिखाया अद्भुत सामर्थ्य, चौंका देगी इनकी कहानियां

World Bicycle Day 2020: साइकिल (World Bicycle Day) उन भौतिक साधनों में से एक है जो अविष्कार होने के बाद से आज तक इंसान के लिए सकारात्मक रूप से (Benefits Of Cycling) काम आ रही (cycle chalene ke fayde) है...

हजारीबाग

Published: June 03, 2020 07:10:56 pm

World Bicycle Day 2020 विश्व साइकिल दिवस (3 जून) पर साईकिल के गुणों का बखान किया जा रहा है। यह जरूरी भी है, क्योंकि साइकिल उन भौतिक साधनों में से एक है जो अविष्कार होने के बाद से आज तक इंसान के लिए सकारात्मक रूप से (Benefits Of Cycling) काम आ रही है। लेकिन साल 2020 में हमने साइकिल का जो महत्व देखा है उसे भुलाया नहीं जा सकता। कोरोना संकटकाल में भारतीयों ने साइकिल चलाने की क्षमता का ऐसा प्रदर्शन किया है जिसने विश्व को हैरत में डाल दिया है।

World Bicycle Day 2020
World Bicycle Day: Coronavirus काल में मजदूरों ने दुनिया को दिखाया अद्भुत सामर्थ्य, चौंका देगी इनकी कहानियां

जी हां, आप खुद देखिए कोरोना वायरस के कारण जो लॉकडाउन लगा उसके बाद मजदूरों के पलायन में कितनी दिक्कत उन्हें उठानी पड़ी। लेकिन मजदूरों का काबिल—ए —तारीफ धैर्य इतनी मुसीबत में भी नहीं टूटा। मजदूरों ने घर जाने के लिए अलग—अलग तरीके अपनाए लेकिन साइकिल उनके लिए सबसे फायदेमंद रही। साइकिल चलाने में उन्हें कठोर परिश्रम करना पड़ा लेकिन रास्तें में ना चेक पोस्ट की दिक्कत थी ना किसी तरह के चालान की, मजदूर मस्ती में साइकिल चलाते रहे और इसी तरह उन्होंने दो पहियों पर हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर ली।


यह भी पढ़ें

TIK TOK को लेकर कोर्ट ने कहा- 'अश्लील कल्चर बढ रहा, ऐप पर लगे लगाम', जानिए क्या है पूरा मामला



विदेशों तक पहुंची ज्योति की कहानी...

World Bicycle Day: Coronavirus काल में मजदूरों ने दुनिया को दिखाया अद्भुत सामर्थ्य, चौंका देगी इनकी कहानियां

इन मामलों में सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरी बिहार में दरभंगा जिले के कमतौल थाना क्षेत्र के सिरहुल्ली गांव की 15 वर्षीय ज्योति कुमारी ने। ज्योति अपने बीमार पिता को हरियाणा के गुरुग्राम जिले से घर तक साइकिल पर बैठा कर लेकर आई थीं। इस दौरान उसने 1 हजार किलोमीटर से ज्याद दूरी साइकिल पर पिता के साथ तय की। ज्योति के इस हैरतअंगेज कारनामे ने दुनिया की नजर अपनी और खींची।

अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने भी उसकी सराहना की थी। कई सामाजिक संगठन और राजनेताओं ने इसके बाद ज्योति की मदद के लिए पेशकश की। इस दौरान केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू ने भी भारतीय खेल प्राधिकरण और साइक्लिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अधिकारियों से ज्योति का ट्रायल लेने के लिए बात की थी। फेडरेशन की ओर से क्वारंटाइन अवधि पूरी होने के बाद उसका ट्रायल लेने की को कहा गया था। हो सकता ज्योति में कोई छिपी हुई प्रतिभा हो जो अब बाहर निकल जाए।

यह भी पढ़ें

दिल्ली दंगों पर खर्च हुए 1.3 करोड़ रुपए, चार्जशीट में पुलिस ने ताहिर हुसैन को बताया मास्टर माइंड


इधर हजारीबाग जिले के इचाक दर्जी मुहल्ला और खुदरा गांव निवासी पांच लोग 1470 किलोमीटर साइकिल चला कर हैदराबाद से इचाक पहुंचे थे। तीन भाई मोहम्मद मुर्तजा अंसारी, इमरान अंसारी, रफीक अंसारी पिता हारुन अंसारी, मोहम्मद मुजाहिद और राहुल कुमार वहां ड्राइवरी का काम करते थे। इन सभी को यहां पहुंचने में लगभग 11 दिन लगे। यह सभी 21 अप्रैल को घर के लिए रवाना हुए थे।

यह भी पढ़ें

5 जून से 14 दिन के लिए क्वारंटाइन होंगे महाप्रभु जगन्नाथ, सदियों से दे रहे हैं बीमारी में अलग रहने का संदेश

अनेकों उदाहरण हैं...

World Bicycle Day: Coronavirus काल में मजदूरों ने दुनिया को दिखाया अद्भुत सामर्थ्य, चौंका देगी इनकी कहानियां
फाइल फोटो IMAGE CREDIT:

इसी तरह झारखंड के गोड्डा जिले के पांच मजदूर आंध्रप्रदेश से 12 मई को जमशेदपुर पहुंचे थे। वहां ठेला चलाने वाले मजदूरों ने 17 दिन तक साइकिल पर सफर तय किया था। जमशेदपुर में प्रशासन ने इन्हें भोजन उपलब्ध कराकर आगे भेजा था। इस जत्थे में शामिल मो. मुस्तकीम ने बताया कि मोबाइल बेचकर उन्होंने यह साइकिल खरीदी थी।

यह भी पढ़ें

एक रुपए की मामूली-सी Ibuprofen टैबलेट से दूर होगा कोरोना, ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने शुरू किया ट्रायल


एक मार्मिक कहानी यह भी...

एक मार्मिक उदाहरण राजस्थान के भरतपुर से भी बीते दिनों सामने आया था। एक साइकिल शोरूम से एक प्रवासी मजदूर ने साइकिल उठाई थी। इसके लिए उसने पत्र लिखकर शोरूम के मालिक से माफी मांगी थी। उसने लिखा था कि मैं आपका गुनहगार हूं लेकिन चोर नहीं हूं, घर जाना है औ कोई रास्ता नहीं है, मेरे पास पैसे भी नहीं है।

Covid-19 Crisis : Students को समय से पहले Graduate करेगा IIT

खैर इस विभीषिका की जो तस्वीर यहां बयां की जा रही है वह सही नहीं है, एक लोकताांत्रिक राष्ट्र में संकट के जनता को केवल अपने घर जाने के लिए इतनी परेशानी उठानी पड़े यह बहुत बड़ी विडंबना है। उपरोक्त काहनियां केवल अंश मात्र है उन मजदूरों के संघर्ष का जिन्होंने घर पहुंचने के लिए लाखों मुसीबतों का सामना किया है। लेकिन इस दौरान एक बार फिर भारतीयों का सामर्थ्य एक बार फिर स्पष्ट रूप से दिखाई दिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

अफगानिस्तान के काबुल में भीषण धमाका, तालिबान के पूर्व नेता की बरसी पर शोक मना रहे लोगों को बनाया गया निशानाPunjab Borewell Accident: बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, अस्पताल में हुई मौतBJP को सरकार बनाने के लिए क्यूँ जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारी..पश्चिम बंगाल का पूर्व मेदिनीपुर जिला बम धमाकों से दहला, तलाशी के दौरान बरामद हुए 1000 से अधिक बमIPL 2022, SRH vs PBKS Live Updates: पंजाब ने हैदराबाद को 5 विकेट से हरायाकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थितिआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट का रो रहे हैं रोना, यहां जानेंपुजारा और कार्तिक की टीम में वापसी, उमरान मालिक को भी मिला मौका, देखें दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे का पूरा स्क्वाड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.